April 16, 2019

जीवन दर्शन

अनुक्रिया एवं प्रतिक्रिया
- विजय जोशी
(पूर्व ग्रुप महाप्रबंधक, भेल, भोपाल)
जीवन में हमारे साथ कोई घटना घटित होने पर केवल दो ही स्थिति उभरती हैं, प्रथम यह कि या तो हम सामने वाले के प्रति को अनुकूल क्रिया व्यक्त करते हैं या फिर प्रतिक्रिया अभिव्यक्त करते हैं.  इस में पहलेवाली स्थिति सकरात्मक या स्वस्थ है जब कि दूसरी ऋणात्मक या अस्वस्थ। पहली में जहाँ  आशावाद झलकता है, जो अंतत: स्थिति को ठीक से पूरी होने या सुलझाने में सहायता करती हैं वही दूसरी न केवल उसे उलझा देती है बल्कि कभी कभी बेहद कष्टकारी और विध्वंस का कारण भी बन सकती है।
एक बार एक रेस्टोरेंट में एक काक्रोच कहीं से आकर अचानक एक महिला पर जाकर बैठ गया। वह डरकर चीख उठी और आतंकित होकर कूद-फांद करने लगी। उसके दोनों हाथ किसी भी तरह कांक्रोच से छुटकारा पाना चाहते थे।
 उसकी प्रतिक्रिया इतनी तीव्र थी कि समस्त उपस्थित समूह भय से भर गया।
किसी तरह उसने काक्रोच से छुटकारा पाया, लेकिन अब वही काक्रोच अब दूसरी महिला को उपकृत कर रहा था। अब उसके मंच पर दूसरी महिला भी वही दृश्य दोहरा रही थी। इस तरह पूरा समूह इस प्रक्रिया में नृत्य मग्न हो गया।
 तभी वहाँ पर एक वेटर मदद के लिये आगे आया। अपनी रिले रेस के तहत अब वही काक्रोचवेटर की भी सवारी कर रहा था, लेकिन वेटर निर्भय होकर खड़ा रहा तथा उस प्राणी का व्यवहार अपनी कमीज पर देखा और स्थिति थोड़ी शांत हुई तो आत्मविश्वास पूर्वक उसे पकड़ा और होटल के बाहर छोड़ आया।
आईये अब घटना का विश्लेषण करें। क्या इस दृश्य के लिए वह अदना सा काक्रोच उत्तरदायी था, तो फिर वेटर क्यों नहीं घबराया। वेटर ने तो पूरी निपुणता से अपने काम को अंजाम दिया था।
दरअसल यह काक्रोच नहीं बल्कि उसके कारण मानस में जो उथल-पुथल हुई उस स्थिति को ढंग से निपटाने की अयोग्यता का उदारण था।
 कई बार हम अपने वरिष्ठ या पत्नी या बड़ों की झल्लाहट या डाँट से परेशान हो जाते हैं। वास्तव में तो यह उस परेशानी को निपटा पाने की हमारी योग्यता के अभाव की सूचक है। समस्या से अधिक तो हमारी उसके प्रति प्रतिक्रया हमारी परेशानी का मूल कारण है।
मतलब एकदम साफ है हमें जीवन में तुरंत बगैर सोचे समझे प्रतिक्रिया देने से बचना चाहिए। हमें विपरित परिस्थिति में भी अनुकूल या शांति से व्यवहार करने की कला  को करना सीखना चाहिये। प्रतिक्रिया (Reaction) सदा बगैर सोची समझी प्रक्रिया होती हैं, जबकि अनुकूल क्रिया (Response) अच्छी तरह सोच समझकर उठाया गया कदम। जीवन में संबंध निर्वाह के मामलों में तो यह सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है ताकि हम क्रोध, चिंता, तनाव या जल्दबाजी से ऊपर उठकर सही और सामायिक निर्णय ले सकें।
सम्पर्क: 8/ सेक्टर-2, शांति निकेतन (चेतक सेतु के पास), भोपाल- 462023, मो. 09826042641E-mail- v.joshi415@gmail.com

2 Comments:

Unknown said...

A lesson to learn. Awesome write-up Joshi Sahab. Regards

NIMARI KAVITA "SURESH KUSHWAHA TANMAY" said...

"किन्हीं भी विषम स्थितियों में स्वयं को संयत व संतुलित रखना" यह प्रेरक प्रसंग हमे बहुत ही सुंदरता से यही संदेश दे रहा है। बहुत बहुत बधाई

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष