June 07, 2017

विज्ञानः

धरती की सतह पर घटता पानी

उपग्रह से प्राप्त तस्वीरों के विश्लेषण से पता चला है कि तीस साल पहले के मुकाबले आज धरती की ज़्यादा सतह पानी से ढंकी है। मगर साथ ही एक तथ्य यह भी है कि मध्य एशिया और मध्य पूर्व के कुछ देशों में सतह पर मौजूद आधा पानी गायब हो गया है।
इससे पहले सतही पानी (यानी झीलों, नदियों, तालाबों और समुद्रों के पानी) के अनुमान इस बात पर आधारित होते थे कि प्रत्येक देश स्वयं क्या अनुमान पेश करता है। इसके लिए उपग्रह तस्वीरों का सहारा लिया जाता है। मगर उपग्रह तस्वीरों के आधार पर निष्कर्ष निकालने में दिक्कत यह आती है कि गहराई, पाए जाने के स्थान वगैरह के कारण पानी बहुत अलग-अलग नज़र आता है।
अब यूरोपीय संघ के संयुक्त अनुसंधान केंद्र के ज़्यां-फ्रांस्वापेकेल और उनके साथियों ने कृत्रिम बुद्धि का उपयोग करके पूरे लैण्डसैट संग्रह को खंगाला है। 1984 से उपलब्ध लगभग 30 लाख तस्वीरों का विश्लेषण करके उन्होंने सतही जल का एक विश्व व्यापी नक्शा तैयार किया है।
विश्लेषण से पता चला है कि स्थायी रूप से जल-आच्छादित क्षेत्रफल में 3 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। 1980 के दशक के बाद से अब तक कुल 1 लाख 84 हज़ार वर्ग किलोमीटर नया क्षेत्र स्थायी रूप से पानी से ढंका रहने लगा है। इसके अलावा करीब 29,000 वर्ग कि.मी. क्षेत्र मौसमी तौर पर पानी में डूबा रहता है।
इनमें से कई नई जलराशियाँ तो बाँध निर्माण के परिणामस्वरूप बनी हैं मगर तिब्बत के पठार में हिमालय के ग्लेशियर पिघलने के कारण कई कुदरती झीलें भी अस्तित्व में आई हैं।
इस वैश्विक तस्वीर के विपरीत करीब 90,000 वर्ग कि.मी. स्थायी जलराशियाँ समाप्त हो गई हैं। इसके अलावा, करीब 62,000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र स्थायी की बजाय मौसमी तौर पर ही पानी से ढका रहने लगा है।
सतही जलराशियों का सबसे ज़्यादा ह्रास तो कज़ाकिस्तान,उज़बेकिस्तान, ईरान और अफगानिस्तान में देखा गया है। उदाहरण के लिए कज़ाकिस्तान और उज़बेकिस्तान में लगभग पूरा अरब सागर खत्म हो गया है ,जो एक समय में दुनिया की चौथी सबसे बड़ी झील थी। ईरान, अफगानिस्तान और इराक में क्रमश: 56, 54 और 34 प्रतिशत सतही जल सूख चुका है।

हालाँकि इस अध्ययन में इस बात पर विचार नहीं किया गया है कि सतही जल में ये परिवर्तन किन वजहों से हुए हैं मगर पेकेल का कहना है कि यह मूलत: मानवीय गतिविधियों का नतीजा है। इनमें खास तौर से सिंचाई के लिए पानी का उपयोग प्रमुख है। एक अनुमान के मुताबिक दुनिया भर में खेती के लिए जितना पानी लगता है वह सारी दुनिया की नदियों के कुल पानी का आधा होता है। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष