May 10, 2016

बच्चों का कोना

  बाल कहानी 

 मनोबल

 - श्याम सुन्दर अग्रवाल

बहुत समय पहले की बात है। सुमेरगढ़ नाम का एक राज्य था। इस राज्य की सेना का सेनापति था। जनरल प्रताप सिंह। प्रताप सिंह ने अपने जीवन में बहुत से युद्ध लड़े। सभी युद्धों में ही उसने विजय प्राप्त की। इसलिए ही वह बहुत प्रसिद्ध था।
जनरल हरि सिंह में एक विशेष गुण था। वह युद्ध से पहले अपने सिपाहियों का मनोबल बहुत बुलंद कर देता था। तब उसकी सेना विपरीत हालात का सामना करते हुए भी विजय प्राप्त कर लेती।
एक बार की बात है। जनरल युद्ध के मैदान में था। दुश्मन की सेना सामने डटी खड़ी थी। दुश्मन की सेना उसकी अपनी सेना से चार गुणा थी। ऐसे में विजय प्राप्त करना आसान नहीं था। परंतु जनरल हरि सिंह किसी भी काम को असंभव नहीं मानता था।
दुश्मन की सेना का सेनापति कृष्ण राव बहुत खुश था। उसे अपने मुकाबले हरि सिंह की पराजय निश्चित लग रही थी। उसे विश्वास था कि हरि सिंह सेना समेत पीछे हट जायेगा अथवा मैदान छोड़ कर भाग जायेगा। अगर उसने मुकाबला किया तो उसकी सेना बरबाद हो जागी।
 हरि सिंह भी स्थिति को समझता था। परंतु वह किसी भी तरह हौसला हारने के लिए तैयार न था। उसका मन कह रहा था कि वह लड़ाई जीत सकता है। बस सिपाहियों का मनोबल बढ़ाने की जरूरत है। बहुत सोच-विचार के पश्चात उसने एक ढंग निकाल ही लिया।
उसने अपनी सेना की एक सभा बुलाई। उसने कहा, दुश्मन की सेना संख्या में हमसे चार गुणा है। हमारे लिए उसका सामना करना सम्भ नहीं है। अगर हम सामना करेंगे तो बुरी तरह से हार जाएँगे।
सेना के सभी सिपाही और अफसर चुप थे। वे भी स्थिति की गम्भीरता को समझते थे। जनरल हरि सिंह ने आगे कहा, ऐसी स्थिति में केवल भगवान का सहारा ही काम आ सकता है। क्यों न मंदिर में जा कर भगवान से पूछ लिया जाए? अगर भगवान ने चाहा कि हम दुश्मन का सामना करें, तो वह हमें शक्ति देगा। भगवान शक्ति देगा तो हमें कोई नहीं हरा सकता। अगर भगवान ने ऐसा नहीं चाहा तो हम हथियार डाल देंगे।
सेना ने अपने सेनापति की बात मान ली। उन्हें भी विश्वास था। भगवान का आशीर्वाद मिला तो युद्ध में विजय निश्चित है। सवाल उठा कि भगवान से पूछा कैसे जाए? भगवान मुख से तो कुछ बोलते नहीं। तब जनरल ने ही राह सुझाया- मेरे पास सोने के तीन सिक्के हैं। इन सिक्कों को हम मंदिर में बारी-बारी से उछालेंगे। अगर हर बार सिक्के का चित वाला पासा ऊपर रहा तो हम समझेंगे कि भगवान की 'हाँहै। तब हम युद्ध लड़ेंगे और विजय प्राप्त करेंगे। अगर एक भी सिक्के का पट वाला पासा ऊपर रहा तो हम दुश्मन के सामने हथियार डाल डेंगे।
सिपाहियों को यह तरकीब पसंद आई। तीनों सिक्के सोने की एक डिबिया में रख दिए गए। हरि सिंह स्वयं उस डिबिया को उठा कर मंदिर में ले गया। पुजारी से पवित्र जल लेकर सिक्कों पर छिड़का गया। हरि सिंह ने भगवान के आगे प्रार्थना की और अपनी बात कही।
फिर जनरल ने सिक्कों वाली डिबिया से एक सिक्का निकाला। सभी सिपाहियों के सामने सिक्का ऊपर उछाला। सिक्का नीचे गिरा तो उसका चित वाला पासा ऊपर था। शेष दोनों सिक्के भी उछाले गए। उन दोनों का भी चित वाला पासा ही ऊपर रहा। सिक्के कई बार उछाले गए। हर बार उनका चित वाला पासा ही ऊपर रहा। सभी सिपाहियों और अफसरों को भगवान की इच्छा का पता चल गया। उन्हें युद्ध में अपनी विजय का विश्वास हो गया। वे सब खुशी से नाचने लग पड़े। एक-दूसरे को बधाई देने लगे।
जनरल हरि सिंह ने सिक्के वापस सोने की डिबिया में बंद कर रख दिए। अगले दिन उसने दुश्मन की सेना पर हमला कर दिया। दुश्मन सेनापति कृष्ण राव को अपनी जीत का पूरा विश्वास था; इसलिए वह थोड़ा लापरवाह हो गया था। इधर जनरल की सेना का मनोबल बहुत ऊँचा था। पहले ही बड़े हमले में जनरल की सेना ने बहुत बहादुरी दिखाई।
बहुत सूझ-बूझ से बनाई गई दुश्मन की रक्षा-पंक्ति ध्वस्त हो गई। जनरल की सेना का मनोबल और बुलंद हो गया। उन्होंने दुश्मन की शेष सेना पर भी जबरदस्त आक्रमण कर दिया। दुश्मन सेना ने समझा कि जनरल की मदद के लिए और सेना आ गई है। इस लिए वह निराश हो कर भाग ली। दुश्मन सेनापति कृष्ण राव को बंदी बना लिया गया। बची हुई सेना ने हथियार डाल दिए।
कैद के दौरान कृष्ण राव को सिपाहियों से सिक्कों वाली बात का पता चला। तब वह संतुष्ट हो गया। उसने सोचा- भगवान की इच्छा यही थी तो वह क्या कर सकता था। भगवान की इच्छा के विरुद्ध तो कुछ भी नहीं किया जा सकता। उसे जनरल हरि सिंह ने नहीं, भगवान ने हराया है।
जनरल हरि सिंह बहुत विशाल हृदय का आदमी था। एक दिन उसने सेनापति कृष्ण राव को अपने साथ भोजन करने को आमंत्रित किया।बातों ही बातों में कृष्ण राव ने कहा, आपको तो भगवान ने विजय दिलाई है। भगवान की इच्छा के विरुद्ध हम क्या कर सकते थे।
हरि सिंह उठ कर भीतर गया। वह अपने सामान में से सिक्कों वाली डिबिया ले आया। उसने कहा, वह तो एक नाटक था। मैं किसी तरह अपनी सेना का मनोबल बढ़ाना चाहता था। उन्हें युद्ध में जीत का विश्वास दिलाना चाहता था।
कृष्ण राव हैरान रह गया। उसने तीनों सिक्कों को उलट-पलट कर देखा। तीनों सिक्के दोनों तरफ से एक जैसे थे। उनके दोनों तरफ चित ही था, पट तो था ही नहीं। इसीलिए सिक्का उछालने पर हर बार चित वाला पासा ही ऊपर रहता था।
कृष्ण राव सारी बात समझ गया। उसने खड़ा हो कर जनरल हरि सिंह को सलाम किया।
सम्पर्क:  बी-/ 575, गली नं. 5, प्रताप सिंह नगर, कोट कपूरा (पंजाब)-151204, दूरभाष- 01635-222517/320615 , मो. 09888536437,  EMail: sundershyam@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती. com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी,कविता, गीत,गजल, व्यंग्य,निबंध,लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है।आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही साथी समाज सेवी संस्थाद्वारा संचालित स्कूलसाथी राऊंड टेबल गुरूकुल में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है।
शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से साथी राऊंड टेबल गुरूकुलके बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है।
अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर,तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में),क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर,पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर,जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ।
सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी,रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबाइल नं.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष