April 13, 2013

व्यंग्य



पुन: पुन: भव
- प्रेम जनमेजय
जैसे- किसी नेता को हारा चुनाव जीतने पर, किसी भ्रष्टाचारी को बेदाग भ्रष्टाचार करने पर, वकील को झूठा मुकदमा जीतने पर, पुलिसवाले को दोनों पार्टियों के 'सार्थक  सहयोग से कत्ल का केस निपटाने पर, विद्यार्थी को बिना पकड़े नकल द्वारा परचा पूरा करने पर, धर्मगुरु को काम और अर्थ का फल प्राप्त करने पर -आलौकिक सुख प्राप्त होता है, वैसा आलौकिक तो नहीं पर उसके सहोदर-सा सुख किसी मध्यवर्गीय ईमानदार जीव को मुफ्त की तसल्ली बख्श दावत खाने पर मिलता है। रात को सातवें आसमान के सुख में डूबे मन का सुख की ऐसी खुमारी चढ़ती है कि वो सुबह अक्सर दफ्तर के लिए लेट हो जाता है।
हमारे राधेलाल भी इसी खुमारी में डूबे हुए थे कि उनकी पत्नी ने, जो कम खुमारी में डूबी थी, दफ्तर के लिए उठा दिया- सात बजने वाले हैं,, दफ्तर नहीं जाना है क्या?
- अरे यार, बहुत दिनों बाद बढिय़ा नींद आ रही थी... कल की पार्टी बहुत जोरदार थी।
- जोरदार क्यों नहीं होगी, बढिय़ा शराब की नदियाँ जो बह रही थीं। मैं देख रही थी कि खूब गोते लग रहे थे तुम्हारे...
अपने पीने पर आक्रमण होता देख अच्छे-अच्छे पतियों की खुमारी टूट जाती है, राधेलाल की भी खुमारी टूट गई और उसने प्रत्याक्रमण की मुद्रा में कहा- और तुम जो चाट वाले स्टाल पर भुक्खड़ की तरह लगी हुई थी... गोलगप्पे, दही भल्ले, चीला और वो क्या टिकिया... कुछ छोड़ा तुमने...और उसके बाद खाने पर ऐसे टूटी कि...
-हम खा रहे थे, पी नहीं रहे थे...
- नशा चाहे जुबान का हो या गले का, नशा- नशा होता है।
पत्नी ने सुबह की चाय का कप पति को थमाते हुए कहा- उपदेशक जी चाय पियो,... यारब वो न समझे हैं, न समझेंगे मेरी बात...
पति ने मुस्कराकर चाय का कप पकड़ते हुए कहा- और तुम्हारे चचा गालिब ने ही कहा है, तौबा- तौबा शराब से तौबा... और मैडम जी, सुबह की चाय का भी एक नशा होता है... चाय मिलते ही वैसी ही ताजगी आ जाती है जैसी हाथ में गिलास आते... बंदर क्या जाने अदरक का स्वाद... कुछ भी कहो कल मल्होत्रा ने दावत बहुत जोरदार दी... क्या नहीं था खाने को और एम्बियेंस...
- पंजाबियों की पार्टी होती जोरदार हैं।
- दिखावा भी जोरदार होता है। उसने दस डिश रखी है तो मैं बीस रखूंगा वाली प्रतियोगिता होती है। एक समय था जब भगवान को छप्पन भोग लगाए जाते थे और भक्त हाथ बाँधे प्रभु का भोग लगाते देख प्रसन्न होता था। आजकल प्रभु भक्तों के लिए विवाहोत्सव आदि में छप्पन भोग परोसते हैं और भक्त भोग लगाते हैं और हाथ जोड़कर भोग की तारीफ करते हैं।
- अरे बाप रे...पौने आठ हो गए... आपके चक्कर में मैं लेट हो जाउंगी... आज कामवाली भी अभी नहीं आई है...
- लगता है वो भी रात को किसी मल्होत्रा की पार्टी में गई होगी... ज़रा अखबार पकड़ा देना- कहकर राधेलाल हँसे पर अखबार पकड़ते ही हँसी नैतिक मूल्यों- सी गायब हो गई और वे ऐसे उछल पड़े जैसे  हिंदी फिल्मों की किसी हिरोन को पूरे कपड़े पहने देख लिया हो, इस प्रौढ़ावस्था में किसी सुंदरी का प्रेमपत्र सामने आ गया हो या फिर अपने विरोधी का प्रोमोशन-पत्र देख लिया हो। रसोई की ओर प्रगतिशील पत्नी के कदमों के लिए अवरोध उत्पन्न करते हुए चिल्लाए- से, सुनो, लो फिर रसोई गैस, मिट्टी के तेल और पेट्रोल के दाम बढ़ गए और इस बार तो बढ़े भी जेबफाड़ हैं...
पत्नी के प्रगतिशील कदम जनविरोधी नीतियों की घोषणा सुन लौटे तो नहीं, रुक अवश्य गए। सब्जियों और दालों ने लो फिर के अंदाज में पहले ही रसोई महँगी की हुई है, और उसपर पतिदेव की यह सूचना- सुनो, लो फिर रसोई गैस, मिट्टी के तेल और पेट्रोल के दाम बढ़ गए और इस बार तो बढ़े भी जेबफाड़ हैं... । दाम बढ़ाने वालों पर गुस्सा करके वह कर भी क्या सकती है, बस वोट नहीं देगी और जिसे देगी उसकी क्या गारंटी है कि लो फिर नहीं होगा। इसलिए उसे गुस्सा आता है पति पर जो गैस का खाली सिलेंडर समय से नहीं भरवाता है, गाड़ी में पेट्रोल की टंकी रिजर्व से भी नीचे ले आता है। इससे ज्यादा नहीं, ऊँट के मुँह में जीरा तो आ ही सकता है, बचत की एक मानसिक संतुष्टि तो मिल सकती है।  
 ये लो फिर आजकल के भारतीय जीवन में सामान्य घटना-सा हो गया है। कई बार ये लो फिर जागो मोहन प्यारे से आरंभ होता है और रात को आ जा री निंदिया के साथ समाप्त होता है। इस लो फिर में लेना कुछ नहीं होता है और न ही कुछ मिलता है और यदि कुछ मिलता भी हो तो उसके प्रति आपकी अनिच्छा ही होती है।
अभी तो पति ने अखबार पढ़कर इतना ही 'लो फिर  बताया है कि रसोई गैस, मिट्टी के तेल और पेट्रोल के दाम बढ़ गए, अभी यह 'लो फिर तो नहीं बताया कि दूध के दाम बढ़ गए हैं, बसों के किराए बढ़ गए हैं, बिजली के दाम बढ़ गए हैं, ,बच्चे की फीस बढ़ गई, हाउसिंग और कार लोन बढ़ गया है, किसी तीन साल की बच्ची का यौन शोषण हुआ है, ,किसी बलात्कारी ने सत्तर साल की बुढिय़ा को नहीं छोड़ा, किसी आतंकी पर लंबा मुकदमा चल रहा है आदि आदि 'लो फिर।
 कहते हैं कि इतिहास अपने को दोहराता और संभवत: ये इसी कहने का परिणाम है कि हमारे जीवन में 'लो फिरबहुत होता है। हर मनुष्य का अपना इतिहास होता है- कुछ का लिखा जाता है, कुछ लिखवाते हैं और बहुतों का अलिखित रहता है। अब इतिहास है तो जीवन में 'लो फिरआएगा ही। आप ध्यान से देखें तो जैसे आपके चारों ओर भ्रष्टाचार विद्यमान है वैसे ही जीवन को कोई कोना ऐसा नहीं है जहाँ लो फिर विद्यमान न हो।
 हमारी सर्वप्रिय राजनीति में लो फिर महिमा वर्णन- लो फिर उसे टिकट मिल गया, लो फिर दाम बढ़ गए, लो फिर विरोधी दल ने भारत बंद किया, लो फिर संसद पूरे सत्र नहीं चली, लो फिर मंत्रिमंडल में बदलाव हुआ, लो फिर नेता असंतुष्ट हुए, लो फिर नेता जी ने आत्मा की आवाज सुनी, लो फिर मंत्री जी पर सी बी आई इंक्वारी बैठी, लो फिर मंत्री जी निर्दोष पाए गए, लो फिर लाठी चार्ज हुआ, लो फिर सरकार ने चुनावी बजट पेश किया, लो फिर चुनाव आ गए, लो फिर मध्यावधि चुनाव आ गए, लो फिर घोटाला हो गया, लो फिर घोटाले में कोई नहीं फंसा।  
 साहित्य में देखें, लो फिर  महिमा- लो फिर उस साले को पुरस्कार मिल गया, लो फिर उसका एक और संकलन आ गया, लो फिर उसकी किताब कोर्स में लग गई, लो फिर साला अध्यक्ष बन गया, लो फिर उसकी पुस्तक चर्चित हो गई, लो फिर युवा लेखिका/लेखक उससे रात में मार्गदर्शन लेने चला गया, लो फिर प्रकाशक ने रॉयल्टी नहीं दी, लो फिर उसकी किताब बल्क परचेज में आ गई, लो फिर  वो संपादक बन गया, लो फिर मेरी रचना वापस आ गई और उसकी छप गई।
अथ न्यायालय लो फिर  महिमा- लो फिर मुकदमा बीस बरस से चल रहा है, लो फिर एक और बदमाश बरी हुआ, लो फिर पैसे की चल गई, लो फिर मंत्री जी को जेल में वी आई पी सुविधा मिली, लो फिर कैदियों ने सुपरिंटेंडेंट को मार दिया, लो फिर जेल में मोबाइल मिले, लो फिर काले कोट वालों ने हड़ताल की।
 सरकारी दफतर में लो फिर  महिमा- लो फिर बड़े बाबू नहीं आए, लो फिर उसे आउट ऑफ टर्न प्रोमोशन मिल गया, लो फिर उस पर सी बी आई इंक्वायरी बैठ गई, लो फिर साहब ने सेक्रेटरी को देर तक काम करने के लिए अकेले रोक लिया, लो फिर साले ने सी आर खराब कर दी।
 परिवार में लो फिर महिमा- लो फिर दहेज मांग रहे हैं, लो फिर लड़की पैदा हो गई, लो फिर बहू खाली हाथ आई, लो फिर कोई जला, लो फिर बहू ने मुकदमा कर दिया, लो फिर उनकी लड़की भाग गई, लो फिर मोहल्ले की नाक कट गई, लो फिर अपनी नाक कट गई।
अभी तो मैंने लो फिर का वर्णन- समुद्र में बूँद जितना, थाने में ईमानदारी जितना, नेता में सभ्य आचारण जितना, अमेरिकी प्रशासन में विनम्रता जितना, पाकिस्तान सरकार के सत्य वचन जितना, आतंकवादी की आंख में आँसू जितना, हिंदी फिल्मो की हिरोइन के शरीर में कपड़े जितना ही किया है। इसका और वर्णन करने के लिए मुझे समुद्र को स्याही, धरती को कागज यानी उतना ही करना पड़ेगा जितना भारत में भ्रष्टाचार के वर्णन के लिए करना पड़ता है।
 देश का और आपका इस लो फिर  के चक्कर में क्या होता है, आपके जीवन में लो फिर कितना लो अथवा हाई है, या आज क्या-क्या लो फिर हुआ, जानता नहीं पर इतना जानता हूँ कि इस लो फिर के कारण राधेलाल के घर में सुनामी आ गई। क्या-क्या लो फिर हुआ? पढि़ए- लो फिर बाई नहीं आई, लो फिर कार की बैटरी डाउन हो गई, लो फिर माँ -बाउ जी दो महीने के लिए आ रहे हें, लो फिर दिल्ली बंद हो गया, लो फिर छोटी को बुखार आ गया, लो फिर सोसायटी ने मेंटेनेंस बढ़ा दिया, लो फिर गीजर खराब हो गया, लो फिर पानी नहीं आ रहा है, लो फिर बिजली चली गई आदि आदि अनादि। 

 संपर्क: 73 साक्षर अपार्टमेंट्स, ए-3 पश्चिम विहार नई दिल्ली- 110063  E-mail- premjanmejai@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष