December 28, 2011

देसी और विदेशी संस्कृति का संगम

1965 में सप्रू हाउस बनने के बाद तो जैसे दिल्ली की सांस्कृतिक काया पलट हो गयी। आधुनिक तकनीक और यंत्रों से लैस इस हॉल में संगीत समारोह होने लगे और विदेशी फिल्मों के शो भी शुरू हो गए। दिल्ली के मंडी हाउस को कला का अड्डा बनाने में सप्रू हाउस का बड़ा योगदान है।
सांस्कृतिक गलियारों से उभरती दिल्ली
आजादी से पहले भी दिल्ली में संगीत, मुशायरों और दूसरे सांस्कृतिक कार्यक्रमों की महफिलें जमती थी पर उनमे खास बात ये थी कि पुरानी दिल्ली में देसी कार्यक्रम होते थे तो नई दिल्ली में पश्चिमी संगीत और नृत्य का बोलबाला था।
पुरानी दिल्ली में संगीत कुछ ही लोगों या समुदाय तक सीमित था। यहां तक की महिलाओं की भागीदारी तो बिलकुल ना के बराबर थी। किसी हद तक तो उसे ठीक नजर से देखा भी नहीं जाता था इसीलिए अजमेरी गेट के करीब बदनाम जी बी रोड के कोठों से गूंजती गजल या ठुमरी की आवाज को ही संगीत की संज्ञा दी जाती थी। जो भारतीय संगीत होता भी था उसके आयोजन के लिए कोई बड़ा हॉल भी नहीं था। उस समय इन संगीत सम्मेलनों को संगीत की कांफ्रेंस कहा जाता था और यह अक्सर कुतुबमीनार या फिरोज शाह कोटला में बड़े घास के मैदानों में होती थी या फिर उन रईस लोगों के घर में जिन्हें संगीत से लगाव था।
दिल्ली की मशहूर सरोद वादक स्वर्गीय शरण रानी बेक्लिवाल के पति एस एस बेक्लिवाल के अनुसार 'उस समय सब तरफ पश्चिमी नाच और संगीत का बोलबाला था। संगीत और कला को ठीक नजर से नहीं देखा जाता था।' 77 साल के फादर जॉन कैल्ब के अनुसार 'लड़की तो लड़की, पुरुषों का संगीत सीखना भी अच्छा नहीं माना जाता था। मुझे याद है मैं तबला सीखने पहाडग़ंज जाता था हालांकि मैं पंडित हुस्न लाल भगत राम जी के पास जाता था जिन्होंने लता मंगेशकर को भी तालीम दी लेकिन लोग समझते थे कि मैं कोठे पर बजाने जा रहा हूँ।'
जहां तक नई दिल्ली की सवाल है तो कनॉट प्लेस के होटलों में या क्रिसमस जैसे त्योहारों पर डांस होता और बाकी दिनों में पश्चिमी शास्त्रीय संगीत के कार्यक्रम होते थे। रीगल सिनेमा हॉल उस समय सांस्कृतिक कार्यक्रमों का अड्डा माना जाता था। वहां अक्सर शेक्सपीयर के नाटक होते थे और जवान लोग एक पारसी महिला दीना रोड़ा से बॉल रूम डांस सीखने आते थे।
रीगल सिनेमा हॉल
कनॉट प्लेस में आए दिन शॉपिंग करने वाले शायद ही जानते हों की किसी समय यह इलाका दिल्ली का सांस्कृतिक अड्डा भी होता था। हिन्दुस्तानी स्कूल ऑफ म्यूजिक एंड डांसिंग की स्थापना 1936 में कनॉट प्लेस में हुई थी। संगीत नाटक अकादमी भी इसी सिनेमा हॉल से चालू हुआ था, और आज के दिनों का मशहूर गंधर्व महाविद्यालय भी कनॉट प्लेस के सी ब्लाक से शुरू हुआ था। मंडी हाउस का त्रिवेणी कला संगम भी 1951 में कनॉट प्लेस के एक कॉफी हाउस में शुरू हुआ था। गंधर्व महाविद्यालय आज दीन दयाल उपाध्याय मार्ग पर एक शानदार इमारत में चल रहा है और उसके संस्थापक पंडित विनय चन्द्र मृदुल के पुत्र और जाने माने गायक विपुल मृदुल उसके प्रिंसिपल हैं।
दिल्ली को पंडित नेहरु की देन
सही मायने में दिल्ली की सांस्कृतिक तस्वीर 1947 में ब्रिटिश राज के बाद ही बदली। इसका काफी श्रेय जाता है तत्कालीन प्रधान मंत्री जवाहर लाल नेहरु को। पंडित नेहरु ने संगीत और कला को काफी प्रोत्साहन दिया और एक के बाद एक बड़े हॉल दिल्ली में बने जहाँ कार्यक्रम होने लगे। 1952 में संगीत नाटक अकादमी, दो साल बाद साहित्य अकादमी और ललित कला अकादमी और 1959 में नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा दिल्ली को पंडित नेहरु की ही देन कहना होगा। इनके बाद शहर में 1961 में रवींद्र भवन का निर्माण हुआ। मौजूदा दौर में बदलावों की गवाह दिल्ली 1965 में सप्रू हाउस बनने के बाद तो जैसे दिल्ली की सांस्कृतिक काया पलट हो गयी। आधुनिक तकनीक और यंत्रों से लैस इस हॉल में संगीत समारोह होने लगे और विदेशी फिल्मों के शो भी शुरू हो गए। दरअसल दिल्ली के मंडी हाउस को कला का अड्डा बनाने में सप्रू हाउस का बड़ा योगदान है। वहां आने वाले कलाकारों की वजह से ही वहां पर नेशनल स्कूलऑफ ड्रामा, संगीत नाटक अकादमी और कमानी हाल का निर्माण हुआ। और तब दिल्ली में दौर शुरू हुआ भारतीय संगीत और कला का। यहां तक की 1960 में दिल्ली में मशहूर संगीत वाद्य यंत्रों की दुकान, गोदीन ने मजबूर होकर सितार और तबले आदि बेचना शुरू किया। उससे पहले इस दुकान पर सिर्फ पियानो ही बिकता था। दिल्ली ने बॉलीवुड को भी कई बड़े सितारे दिए जिनमें शाहरुख खान का नाम प्रमुख है। उनका एक्टिंग करियर मंडी हाउस से ही शुरू हुआ था। इसके इलावा नीना गुप्ता, अनंग देसाई, राम गोपाल बजाज ने भी मंडी हाउस की चाय की दुकानों से अपना कला जीवन आरम्भ किया। मशहूर पेंटर मकबूल फिजा हुसैन ने भी अपना काफी समय बंगाली मार्केट की दुकानों और ढाबों में बिताया।
दिल्ली की सांस्कृतिक धरोहर
आज जब नई दिल्ली की स्थापना के सौ वर्ष हो गए हैं तो उन कलाकारों को नहीं भुलाया जा सकता जिन्होंने दिल्ली शहर को देश विदेश में मान दिलाया। इनमें सरोद वादक शरण रानी, तबला वादक फय्याज खा और शफात खान, सारंगी नवाज सबरी खान, बिरजू महाराज, कत्थक नृत्यांगना उमा शर्मा, ओडिसी नृत्यांगना माधवी मृदुल के नाम शामिल हैं। वैसे कुछ ऐसे कलाकार भी हैं जो आए तो बाहर से थे लेकिन बसे दिल्ली में और उसे सम्मान भी दिया। इनमें पंडित रवि शंकर, उस्ताद अमजद अली खान शामिल हैं। संगीत और नृत्य के इलावा जाने माने लेखक खुशवंत सिंह भी दिल्ली की महान धरोहर का हिस्सा हैं। (नौरिस प्रीतम- डायचे वेले से)

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष