August 25, 2011

मैं सुन रहा हूँ

- यशवन्त कोठारी
यह स्वच्छ साफ धूप
गुनगुनाती हवा
चमकदार पहाड़
प्रकाश और ज्योति की घड़ी
मैं इस विशाल देश का
महत्तम संगीत- नाद सुन रहा हूँ।
मैं सुन रहा हूँ, प्रताप की हुँकार
शिवाजी की तेज आवाजें
चढ़ रहे नेत्र हिमालय के
और भीगे कदमों की आहट जो
सुबह को चीर कर आगे बढ़ रही है।
मैं गंगा नदी का अविराम
सितार वादन भी सुन रहा हूँ
उसी में शामिल है यमुना और
सरस्वती की जुगलबंदी
तेल की तरह गाढ़ा तरल
किनारे के कीचड़ को
निगलने को आतुर
नदी की विशाल बाहें
मैं इन बाहों का संगीत सुन रहा हूँ।
हिन्दमहासागर, अरबसागर और
बंगाल की खाड़ी के पागल भैंसे
की तरह के चीत्कार
पेड़ों, शाखों और तटों को मथती हुई
हवाओं की झंकार
मैं अब सुन रहा हूँ और मौन हूँ।
मैं सुन रहा हूँ,
पुरवाई हवाओं की चटखती आवाजें
खानाबदोश गाड़ोलियों की टंकारे
और, ऊपर चमकते सूरज का संगीत।
मैं वन-प्रान्तर का विहाग-राग भी
सुन रहा हूँ।
चहचहाटें, कोयल की तानें,
शेरों की गुरु गम्भीर आवाजें,
ढोलों की ढमक,
औरतों की कानफोड़ू आवाजें,
पंखों की फडफ़ड़ाहट और
खिखियाते बंदरों की
चक्करघिन्नियां
सपनीली आवाजें,
लम्बी दोहरी पुकारें
और आकाश के नीचे घने
बादलों की फुसफुसाहटें
मैं मध्यभारत दक्षिण-उत्तर के चश्मों की
हँसी सुन रहा हूँ।
लालची मछलियाँ
पानी को गुमराह और गंदला
करने की नाकाम कोशिशें करती हुई
भी सुनाई पड़ रही हैं
चट्टानों की दरारों में गिरती
जल की अविरल धारा का सुगम संगीत,
मुझे किसी शहनाई-सा सुनाई दे रहा है।
मैं सुन रहा हूँ,
हलों को जोत रहे बैलों की आवाजें,
सांझ को घर लौटती गायों की
रंभाने की आवाजें,
गन्ने पेरती कोल्हू और
कड़ाह की खुशबुएँ,
मैं सब सुन रहा हँू।
धुआं ऊगलती आवाजें और
नारियल, सुपारी, इलायची
की मीठी तानें,
पेड़ों को चीर कर
चिल्लाने की आवाजें,
घडिय़ालों और मक्कारों की
दाँत किटकिटाने की आवाजें
मैं पूरे देश को गाते, बोलते, पुकारते,
हँसते और मुस्कराते सुन रहा हूँ।
खिलखिलाते लहंगे
मुस्कराती कुर्तियाँ
झूमती ओढ़नियाँ
इठलाती चोलियों का संगीत
मैं सब सुन रहा हूँ।
भागती रेलें,
चीखते इन्जन
चरवाहों के गीत
सड़कों का शोर- शराबा
सीमेंट और कंकरीट के
जंगलों की भुतहा आवाजें
विभिन्न जातियाँ,
बोलियाँ, भाषा और
समुद्री हवाओं की चीखें,
इस पवित्र घड़ी में
सब कुछ सुखद है।
मैं अपने देश का
प्रिय गीत सुन रहा हूँ
खानों के मजदूरों की आवाजें,
अकाल राहत की सुरसुराहटें,
बाढ़ की गलियों से गुजरती आवाजें,
यही है मेरा देश
पालनों के पास लोरियों का स्वर
अनगिनत पालनों में सोए भोले- भाले
सरल दूधमुँहे बच्चे
यही है मेरा देश
मेरे बच्चे
यही है हमारा देश।
संपर्क: 86, लक्ष्मी नगर, ब्रह्मपुरी बाहर, जयपुर-302002 फोन: 2670596
---

1 Comment:

सहज साहित्य said...

कोठारी जी की कविता आद्यन्त प्रवाहमयी और सशक्त है ।

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष