April 10, 2011

रंग- बिरंगी दुनिया

कुत्तों की सबसे मंहगी शादी
लंदन की एक महिला ने अपनी प्रिय पालतू कुतिया लोला का अकेलापन दूर करने के लिए उसका स्वयंवर रचाया। इसके लिए उन्होंने ऑनलाइन प्रतियोगिता रखी। उसमें उन्हें सौ आवेदन मिले इनमें से उन्होंने 6 कुत्तों को चयनित किया। स्वयंवर के लिए आए इन कुत्तों में से चीनी प्रजाति के मगली से उसकी शादी तय की गई। खास बात यह है कि मगली को 2005 में ब्रिटेन का सबसे बदसूरत कुत्ता चुना गया था।
लोला की शादी में 20 हजार पौंड (करीब 14 लाख रुपये) खर्च किए। यह ब्रिटेन में हुई कुत्तों की अब तक की सबसे महंगी शादी मानी जा रही है। लोला ने इस अवसर पर एक हजार पौंड (करीब 72 हजार रुपये) की डिजायनर पोशाक के साथ हीरे- मोतियों के आभूषण पहने थे। दूल्हे मगली की पोशाक ई-बे वेबसाइट से खरीदी गई थी। इस अनोखी शादी में 80 मेहमान शामिल हुए। समारोह स्थल को चार हजार पौंड (करीब तीन लाख रुपये) के फूल- गुलदस्तों और गुब्बारों से सजाया गया था। लोला मगली को पाकर बहुत खुश दिखाई दे रही थी।
लोला की मालकिन 32 वर्षीया लुईस हैरिस कुत्तों और उनसे संबंधित सामान का व्यवसाय करने के साथ उनके लिए पार्लर भी चलाती हैं। हैरिस पहले भी अपने छह साल के पालतू कुत्ते के जन्मदिन पर, उसके डिजाइनर कपड़ों, उसके जेवरों आदि पर लाखों खर्च करने के लिए प्रसिद्ध रही है। हैरिस ने बताया कि लोला के भाई- बहन लूलू और लैरी लोला के साथ नहीं खेलते थे इस कारण वह अकेलापन महसूस करती थी। अब उसे साथी मिल गया है।

दुनिया का सबसे विशालकाय बदबूदार फूल
फूल सुगंध और सौंदर्य का प्रतीक होता है लेकिन यदि फूल से खुशबू की जगह बदबू आए तो आश्चर्य तो होगा ना। जी हां पिछले दिनों उत्तरी स्विट्जरलैंड के शहर बासेल वनस्पति उद्यान में एमॉर्फॉफैलस टाइटैनम नामक एक ऐसा विशालकाय फूल खिला जिससे बदबू आती है और वह भी जले हुए शक्कर या सड़े हुए मांस की। इस फूल को मुर्दा फूल के नाम से भी जाना जाता है। इस फूल के बीचों बीच एक लंबा तना होता है जिसके चारों ओर सैकड़ों नर व मादा फूल लाल रंग के ब्रैकेट से घिरे होते हैं। इस गंध की वजह परागण के लिए कीड़े-मकोड़ों को आकर्षित करना होता है।
स्विट्जरलैंड में यह 75 सालों में पहली बार खिला और बासेल में इसे खिलने में 17 वर्षों का समय लगा। दुनिया में सिर्फ दो मीटर यानी 6।6 फुट ऊँचा यह फूल तीन दिन ही जीवित रहता है इसके बाद यह फूल मुरझाने लगता है। इस फूल के मुरझाने से पहले इसे करीब हजारों लोगों ने देखा। 1878 में इटली के वैज्ञानिक बेक्कारी द्वारा इसकी खोज किए जाने के बाद अब तक दुनिया-भर में 134 बार इस फूल को प्रयास पूर्वक उगाया जा सका है। वैसे ये फूल मूल रूप से इंडोनेशिया के सुमात्रा द्वीप के ऊष्णकटिबंधीय वर्षा वनों में पाया जाता है और इसे आर्द्र मौसम की जरुरत होती है। ये जंगलों में भी यदाकदा ही खिलता है।

Labels:

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home