January 29, 2011

हाय मेरी प्याज

- राम किशन भंवर

प्याज जिनके यहां थोड़ी बहुत स्टॉक में थी, उनके कहने ही क्या। उनके दिन सुनहरे ही समझिये। मंडी का अपना विज्ञान है। भाव कब चढ़ेंगे और कित्ते दिन चढ़े रहेंगे ... यह उनका अपना गणित है।
क्या पता था कि प्याज के दिन ऐसे बहुरेंगे कि वह सौ फीसदी वी.आई.पी. हो जायेगा। प्याज खाना हैसियत वाले आदमी की पहचान बन गई है। 'क्यों भाई साब ... प्याज खा रहे हंै, वह भी सलाद में, क्या ठाठ हैं। सब्जी मंडी में प्याज के दुकानदार के चेहरें की रौनक के भी क्या कहने! अब वह पहले वाला दुकानदार नहीं है कि आप गये और बैठकर छांटने लगे प्याज। बात यही कोई एक हफ्ते पहले की है जब प्याज 50 रुपए किलो पर ठनठना रहा था। अपनी औकात और छुई- मुई शान के वास्ते आधा किलो प्याज ली, चलते वक्त रास्ते में एक प्याज गिर गई, मैंने गाड़ी रोककर उसे ऐसे सहेजते हुए उठाया, जैसे कोई गिन्नी गिर गयी हो। उन दिनों की वह खरीदी गई आधा किलो प्याज कितने दिन मेरे घर पर मुख्य अतिथि की तरह रही, इसकी गणना यह लिखते समय मेरे पास ठीक- ठीक उपलब्ध नहीं है।
अभी कल ही तो मंडी में 50 वाली 30 में छटी- बची प्याज पाने के लिए लोगों की ऐसी लम्बी लाईन थी कि टेलीविजन का चौखटा काफी छोटा पड़ गया। ... होटल में खाने की मेज पर यदाकदा सलाद की प्लेट में एक दो लच्छे दिख भर जाएं तो ऐसा लगता कि जैसे मैं आम आदमी से तुरंत खास बन गया। लोगों की नजरें चुराकर प्याज के दो छल्लों को कपोल कवलित करने के बजाएं पतलून की जेब में रख लेता हूं, घर पहुंचने पर उन छल्लों को बच्चों को दिखा कर कहता हूं कि देख लाले, यह है प्याज, हो गये न हम मोहल्लें में इने- गिने लोगों की हैसियत वाले ...। मेरा बच्चा छल्ला देखकर एक बार रोमांचित होकर बोल पड़ा था, हाय पापा, सुमित बहुत नक्शा मारता था, कि उसके पापा मार्केट से रोज प्याज लाते है। अब तो मैं भी कह सकता हूं... कि मेरे पापा दि ग्रेट...। मेरा मन अंदर से कह रहा था कि उससे कह दूं कि स्कूल के बैग में प्याज का छल्ला रख ले और फिर साथियों को दिखा कर वापस ले आना...। पर हाय मेरा मोह माया...। मन नहीं हो रहा था कि प्याज को अपने हाथ से एक पल के लिए दरकिनार करूं । प्याज तू न गई मेरे मन से... यही माकूल टाइटिल होता न, यदि दिनकर जी जिंदा होते...। दिगम्बरी भाई लोग जो तरह- तरह की रोक- टोक की बिना पर प्याज को नाकारा समझते थेे... वह भी प्याजगोशों को समझाने में लग गये है... अरे एक मुझे देखो प्याज खाते ही नहीं, प्याज न खाने वाले (महंगाई के कारण न खरीद पाने वाले) उनकी टोली में आ गये हंै।
आम आदमी के पसीने उस समय छूटने लगते हैं जब दुकानदार मुंहतोड़ जवाब फेंकता है, ओ बाबू साहेब... प्याज है प्याज, घुइयां नहीं। लेना हो तो लो, वरना आगे देखो... । प्याज जिनके यहां थोड़ी बहुत स्टॉक में थी, उनके कहने ही क्या। उनके दिन सुनहरे ही समझिये। मंडी का अपना विज्ञान है। भाव कब चढ़ेंगे और कित्ते दिन चढ़े रहेंगे... यह उनका अपना गणित है। मेरे एक परिचित आमदनी वाले विभाग में कार्यरत हंै, मैंने उनसे एक दिन कहा- भई कभी अपनी नजरें प्याजखोरों पर तिरछी कर लो । बोले -'क्या तिरछी नजरे करूं खाक, प्याज मिल रही है आगे से न सही पीछे से'।50 रुपए किलो वाली प्याज में से एक प्याज लेकर आप सुबह- सुबह सामने रखकर बैठ जाइए..., धीरे- धीरे पहले ऊपर का छिल्का उतारिये फिर आगे के छिलके उतारते चले जाइए। सावधान आप मन में सब्जी बनाने का इरादा न कीजियेगा। जो छिल्का उतार रहे हैं न, समझिये वही प्याज है। अब आप क्या पाते हंै कि प्याज है और है तो वह छिलकों में। बचा सिर्फ शून्य। यही शून्य परम् तत्व है। परम् विज्ञान है। भगवत प्राप्ति का संतसम्मत साधन। छिलकों की पर्त के संगठन का नाम प्याज है और उनके बिखराव में प्याज तिरोहित हो रही है। शून्य बच रहा है। जो दिख रहा है वो है नहीं... और जो नहीं है वो दिख रहा है। सरकार इस दिशा में किसी न किसी तरह से प्रयोग कर सकती है। एक अपील जारी कर सकती है। 'लीजिए एक प्याज और भोरहरे उठ बैठिए, प्याज साधना कीजिये... सारे मर्ज दूर। न रहेगा बांस और न बजेगी बांसुरी।'
जैसे एक सीढ़ी होती है, कोई चढ़ता है फिर उतरता है - यह एक सामान्य सा नियम है। चढ़ा है तो उतरेगा और उतरा है तो चढ़ेगा। यहीं है न। पर जरूरत की वस्तुओं के भाव मंडी में तो ऊंचान तक बड़ी देर तक रूके रहते है। चढ़ गये तो चढ़ गये, अब लखियों मनौती मनाओ... पर उतरेंगे नहीं। बस चढ़े हैं तो...। जैसे जरूरतों के बाजार में भाव मरखैना सांड़ हो गया हो...। और अपनी प्याज... चढ़ी जो चढ़ती चली गयी। पड़ोस वाले शर्माजी बोले कि येल्लो प्याज ने तो वाकई रूला दिया। अब कौन कहे कि प्याज तो वैसे ही रूलाती रहती है। मैंने सुन रखा था कि एक नन्हा सा देश था (कम आबादी वाला शायद ट्यूनीशिया), वहां पर कोयले के भाव बढ़ गये, कोयला खरीदने व न खरीदने में अमीर- गरीब का जैसे भेद पनपने लगा हो। उस देश के कुछ समझदार लोगों ने कोयले की ओर से मुंह मोड़ लिया। कोयला बाजार में होता था किन्तु इच्छाशक्ति के धनी लोग उसकी ओर देखते नहीं थे। ई मुई प्याज के साथ ऐसा हो जाता तो क्या अच्छा होता, सड़क पर पसरी रहती और लोग धत्त तेरे की कर देते।
कल के लिए कागज के पन्ने कोरे है सिर्फ यह लिखने के वास्ते बेटा वह भी समय था जब 50 रुपए किलो वाली प्याज तुम्हारें दादा जी बाजार से लाते थे। और 22 वीं सदी का लल्ला बोल उठेगा... हाऊ सच मम्मी... तब इत्ती सस्ती थी प्याज...।
लेखक अपने बारे में ....
लिखने की विधा में व्यंग्य ने मुझे अधिक आकर्षित किया। जब मैं नवीं कक्षा में पढ़ता था, यह शुरुआत थी बाद में 'कहे कलमची' शीर्षक से एक अखबार में स्थायी स्तंभ लिखने लगा। इस स्तंभ में सौ से अधिक व्यंग्य लिखे होंगे। उस समय के कुछ व्यंग्य समाचार पत्रों में छपे भी। प्रकाशित कृतियां संपादन- काव्य निलय, आवास संदेश, आर्यवीर। पुस्तक- कृष्ण जैसा समझा वैसा पाया। नाटक- आखिर कब तक, मेहनत, नैतिक और ईमान, रहिमन पानी राखिए, आम आदमी दंगे।
पता: सूर्य सदन, सी-501/सी, इंदिरा नगर लखनऊ (उत्तर प्रदेश)
मो. 09450003746, 09453046606
ईमेल ram_kishans@rediffmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष