January 29, 2011

वो सुबह कभी तो आएगी...

जब शाम को सूरज डूबता है तो चाहे वृद्ध हो या जवान, रईस हो या गरीब, स्वस्थ हो या बीमार प्रत्येक मनुष्य इस उम्मीद के साथ सोता है कि कल सुबह शुभ होगी। वर्ष 2010 (जिसकी एकमात्र पहचान भ्रष्टाचार के सर्वनाशी भयंकर ज्वालामुखी का फटना होगी) की आखिरी शाम को तो देश के अधिकांश आम नागरिकों की यह उम्मीद कई हजार और गुना बढ़ गई होगी। नववर्ष की सुबह आई, लेकिन हमारी उम्मीद पूरी नहीं हुई। भ्रष्टाचार के एक से एक ज्यादा शर्मनाक मामले उजागर होते ही जा रहे हैं।

आम नागरिक आज यही महसूस कर रहा है कि भ्रष्टाचार के मामले में पानी सर के ऊपर से बढ़ चुका है। इसलिए आइए जरा इस बात पर गौर करें कि भ्रष्टाचार इतना भयंकर प्रकोप कैसे बना? समस्या के मूल कारणों को समझने से ही समस्या का हल भी निकलता है।
लाल बहादुर शास्त्री के प्रधान मंत्रित्वकाल तक देश की राजनीति भी काफी कुछ हमारे समाज के पारंपरिक मूल्यों और आदर्शों के प्रति आस्थावान बनी रही। शास्त्रीजी की असामयिक मृत्यु एक युगांतकारी घटना थी- मूल्यवान राजनीति के युग का अंत। वंशवाद पर आधारित मूल्यविहीन राजनीति का प्रारंभ हुआ जिसमें पारंपरिक परिभाषाओं को तिलांजलि देकर नई परिभाषा गढ़ी गईं। चाहे जैसे भी हो, धनवान बनना सफलता का एकमात्र पैमाना बन गया। नेता के प्रति स्वामीभक्ति राजनीतिक प्रतिबद्धता की पर्याय बन गई और चापलूसी राजनीतिक कौशल का प्रमाण। ऐसे माहौल में देश मेंकानून का राज्य होने के बजाय निरंकुशता शासन का मूलमंत्र बन गई जिसकी परिणति 1975 के आपातकाल में हुई जो सदैव ही हमारे इतिहास का काला अध्याय रहेगा।
आपातकाल तक के सात- आठ वर्षों में परिवारवाद से प्रेरित राजनीति का स्पष्ट संदेश था कि शासन तंत्र में सत्तासीन होने का मतलब था धनवान बनने का अवसर। अधिकांश राजनेता और सरकारी अधिकारी तथा कर्मचारी अपने को कानून से ऊपर मानते हुए भ्रष्टाचार के माध्यम से धन और संपत्ति लूटने में जुट गए। माले मुफ्त, दिले बेरहम। यहां तक कि सत्ता के सर्वोच्च पद पर आसीन परिवार से जुड़े योगी ब्रम्हचारी तक मर्सिडीज कार, वायुयान और एक बंदूक के कारखाने के मालिक बन गए।
केंद्र से प्रेरित होकर उत्तरप्रदेश, बिहार तथा अन्य प्रदेशों में भी परिवारवाद से प्रायोजित क्षेत्रीय दलों का उद्गम हुआ और उन्होंने भी राजनीति को भ्रष्टाचार से धनवान बनने का माध्यम बनाया। इस प्रकार के कुशासन में अपहरण जैसे संगीन अपराध उद्योग बन गए और डकैती तथा हत्या में लिप्त अपराधी बड़ी संख्या में राजनीतिक दलों का चोला पहनकर विधानसभाओं और संसद के सदस्य बन कर सत्ता के उच्च स्तरों पर कब्जा करने लगे। संसद में बहुमत सिद्ध करने के लिए सदस्यों की खरीद फरोक्त होने लगी। स्वाभाविक था कि पिछले दो दशकों में भ्रष्टाचार का पैमाना बोफोर्स सौदे के 64 करोड़ रुपयों से बढ़कर आज कामनवेल्थ गेम्स और 2जी स्पेक्ट्रम के हजारों, लाखों करोड़ रुपए तक जा पहुंचा।
भ्रष्टाचार में अत्यंत तीव्र गति से वृद्धि पिछले पांच- छह वर्षों में हुई है। आज यह इतना विकराल रूप ले चुका है कि न्याय प्रणाली, सेना और मीडिया भी इसके प्रकोप से ग्रसित हंै। इसका मुख्य कारण है पिछले पांच-छह वर्षों में केंद्र में शासन व्यवस्था से शर्मनाक खिलवाड़। जिसके चलते शासन की पूरी शक्ति ऐसे व्यक्ति के हाथों में है जिसकी संसद या जनता के प्रति कोई जवाबदारी नहीं है। इसके विपरीत शासन के उच्चतम संवैधानिक पद पर बैठाए गए व्यक्ति के पास अपनी कैबिनेट के किसी मंत्री को टोकने की भी शक्ति नहीं है। परिणाम है कैबिनेट के सभी मंत्री मनमानी करने में लगे हैं।
भ्रष्टाचार को समर्पित इसी कुशासन का परिणाम है कि देश की जनता दमघोंटू महंगाई से त्रस्त कराह रही है। नक्सलवाद पनप रहा है और आतंकवाद की काली छाया पसरी हुई है।
प्रश्न है कि इस विकराल समस्या से निदान कैसे मिलेगा! भ्रष्टाचार से निपटने का तरीका भी आम आदमी के हाथ में होता है। क्योंकि भ्रष्टाचार सिर्फ आम आदमी को ही सताता है। अभी हाल में आम आदमी ने बिहार में भ्रष्टाचार पर कड़ा प्रहार किया है। बिहार के चुनाव में आम आदमी ने ऐसे व्यक्तियों को शासन के लिए चुना है जो हमारे पारंपरिक मूल्यों से अपना जीवन अनुशासित करते हैं। बिहार में आम आदमी ने वंशवाद की राजनीति करने वाले भ्रष्टाचारी नेताओं को धूल चटा दी। बिहार में सत्तासीन नेताओं ने भ्रष्टाचार के लिए दंडित सरकारी कर्मचारियों की सम्पत्ति जब्त करने का कानून बना कर पूरे देश को भ्रष्टाचार से निपटने का एक कारगर तरीका दिखाया है। प्रसन्नता की बात है कि मध्य प्रदेश सरकार भी ऐसा ही कानून बनाने जा रही है। देश की अन्य सरकारों को भी इसका अनुकरण करना चाहिए।
प्रसन्नता की बात है कि वर्ष के प्रथम सप्ताह में सर्वोच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने स्वीकार किया कि आपातकाल में सर्वोच्च न्यायालय का यह निर्णय कि आपातकाल में नागरिकों के मूलभूत अधिकार निष्क्रिय रहेंगे गलत था। वास्तव में सर्वोच्च न्यायालय ने इस निर्णय से आम नागरिकों को नववर्ष की शुभकामनाएं दी हैं।
हम अपने पारंपरिक मूल्यों का पालन करके ही भ्रष्टाचार से मुक्ति पा सकते हैं। हमारे पारंपरिक मूल्यों के अनुसार जीवन में सफल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है सफलता पाने का साधन। अतएव आइए हम सब लोग संकल्प लें कि सिर्फ ईमानदार व्यक्तियों को ही अपना वोट देंगे। इस प्रकार हम भ्रष्टाचार से मुक्त सुबह को संभव बनाने में कारगर प्रयत्न करेंगे।
सुधी पाठकों को नववर्ष की शुभकामनाएं।
- डॉ. रत्ना वर्मा

1 Comment:

Devi Nangrani said...

Adarneey Ratnaji
Is mudde ko uthakar aapne bahut accha kiya. Par kya janta yeh tai kar payegi ki Immandaar kaun hai. Aksar aisa bhi hota hai ki gurbat ko kharedne ke liye ameeri tatpar rahti hai. Haan janta Imandaandaar aur nishtavaan ho to baat ban sakti hai..

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष