August 26, 2010

कौन ये तूफान रोके

कौन ये तूफान रोके
-हरिवंश राय बच्चन

हिल उठे जिनसे समुन्दर...
हिल उठे दिशी और अम्बर...
हिल उठे जिस्से घर के...
वन सघन कर सब्द हर हर...

उस बवंडर के झकोरे
किस तरह इंसान रोके
कौन यह तूफान रोके...

उठ गया लो पांव मेरा
छुट गया लो ठांव मेरा
अलविदा ऐ साथ वालों
और मेरा पंथ डेरा...

तुम न चाहो मैं न चाहूं
कौन भाग्य विधान रोके
कौन ये तूफान रोके...







Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home