December 02, 2009

समोसा माट साहब


- राधाकान्त चतुर्वेदी
मैं अपने बाल सखा बचपन के मित्र लंगोटिया यार प्रताप सिंह राठौर के साथ बैठकर टीवी पर समाचारों का आनंद ले रहा था। हम दोनों ही रिटायर होकर पेंशनयाफ्ता है और टीवी पर समाचार चैनलों को सर्वसुलभ और सस्ता (अक्सर अत्यंत सस्ते स्तर का भी) मनोरंजन का साधन भी मानते हैं। टीवी स्क्रीन पर स्वनामधन्य लालू प्रसाद आत्मुग्ध होकर बता रहे थे कि 'जब तक रहेगा समोसे में आलू, तब तक बिहार पर राज करेगा लालूÓ यह उनकी लोकप्रियता का प्रमाण है। लालू और आलू का समीकरण तो नितीश कुमार ने छिन्न- भिन्न कर दिया, परंतु आलू शब्द सुनते ही हमारे मन में कुछ- कुछ होने लगा।
बात असल में यह है कि हम दोनों ही मूलत: फर्रुखाबाद के निवासी है। गंगा मइया के आशीर्वाद से फर्रुखाबाद जिले की अत्यधिक उपजाऊ जमीन की मुख्य उपज आलू ही है। खरा खेल फर्रुखाबादी गंगा मइया में गोता लगा के आलू की ही दम पर खेला जाता है। 1960 के आस पास तक देश में आलू की कुल उपज का आधा भाग अकेले फर्रुखाबाद जिले में ही पैदा होता था। अब तो आलू की फसल देश के सभी राज्यों में होने लगी है।
हां तो बात हो रही थी आलू की और समोसे का जिक्र आते ही मेरे मन में कुछ- कुछ होने लगने की। हुआ यह कि आलू और समोसे से संबंधित बचपन की एक गुदगुदाने वाली याद मन में हिलोरे लेने लगी। मैं म्यूनिसिपिल स्कूल, फतेहगढ़ में छठी क्लास में पढ़ता था। फर्रुखाबाद जिले का मुख्यालय फतेहगढ़ है। म्यूनिसिपिल स्कूल एक सराय की इमारत में था। यह सराय अंग्रेजों ने 1857 से पहले बनवाई थी। फतेहगढ़ को भी उन्नीसवीं शताब्दी के प्रारंभ में अंग्रेजों ने ही मिलिटरी केन्टूनमेन्ट के रूप में बसाया था।
ये वो जमाना था जब माट साहब लोग (शिक्षक) अपनी विद्वत्ता तमाचों, घूंसो इत्यादि से छात्रों के तन मन पर अंकित करते थे। और तो और अभिभावक भी जो माट साहब छात्रों की हड्डी पसली तोडऩे में माहिर होते थे उन्हें उत्तम कोटि का शिक्षक मानते थे। हमारा विश्वास था कि सिलेबस में पहला आइटम शिक्षक के हाथों पिटाई थी। पाठ्य पुस्तकों का नंबर उसके बाद आता था।
ऐसे में स्कूल का सबसे प्रिय अंग था आधे घंटे का इंटरवल जिसमें हम लोग माट साहब लोगों के आतंक से मुक्त होकर खुली हवा मे सांस लेते थे। इस समय का सदुपयोग हम लोग अपने माट साहब लोगों के व्यक्तित्व और चरित्र की विशिष्टताओं की आलोचना चटखारे लेकर करते थे। इस आलोचना से हमारे तनमन पर माट साहब द्वारा लगाई चोटों पर मलहम भी लगता था।
हमारे इंटरवल के हीरो थे समोसा माट साब। थे तो वे सक्सेना साहब परंतु छात्रों में वे समोसा माट साब नाम से ही जाने जाते थे। मुझे भी उनका पूरा नाम नहीं मालूम। समोसा माट साब हरफन मौला शिक्षक थे। किसी कक्षा में वे हिंदी पढ़ाते थे, किसी को इतिहास, किसी को अंग्रेजी तो किसी कक्षा में भूगोल। मिसलेनियस टीचर।
इंटरवल होते ही सब शिक्षक तो टीचर्स रूम में चले जाते पर समोसा माट साहब जिस क्लास में पढ़ा रहे होते उसी के बाहर आकर खड़े हो जाते। मैं अपने दो तीन मित्रों के साथ किसी ऐसे पेड़ की आड़ में खड़े हो जाता जहां से समोसा माट साहब के क्रियाकलाप हम साथ देख सकें। समोसा माट साहब की उद्विग्न निगाहें किसी को ढूंढ रही होती। तभी हमारा सहपाठी कालीचरन समोसा माट साहब के सामने प्रगट होता। काली चरन को समोसा माट साहब काली चर्न पुकारते थे। उसे देखते ही समोसा माट साहब की बांछे खिल जाती और उसे एक दुअन्नी थमा कर उससे कहते बेटा फटाफट बढिय़ा वाले चार समोसे खूब ज्यादा सी चटनी डलवा के लाओ। कुत्ते की चाल से जाओ और बिल्ली की चाल से आओ। उधर काली चरन दौड़ता हुआ समोसे लेने जाता, इधर समोसा माट साहब ओठों पर जीभ फेरते हुए ऐसे चहलकदमी करने लगते जैसे खुराक मिलने के समय चिडिय़ाघर में टाइगर अपने कटघरे में इधर से उधर चलता रहता है। कालीचरन को समोसे का दोना लिए आते देख कर माट साहब क्लास रूम में कुर्सी पर जा बैठते और काली चरन समोसे रख देता। माट साहब श्रद्धावनत होकर समोसे सूंघते और सिहर उठते। इसके बाद माट साहब एक- एक करके चारों समोसे आंंखें मूंदकर देर तक चबाते हुए खाते। इस बीच कालीचरन एक लोटा पानी माट साहब के सामने रख जाता। समोसे खाने के बाद माट साहब उंगलियों से बची खुची चटनी चाटते और तब लोटे से पानी पीकर तृप्ति की डकार लेते। माट साहब के चेहरे पर तृप्ति का वह भाव होता जो कई दिन के भूखे व्यक्ति के चेहरे पर तब होता है जब उसे भरपेट भोजन मिल जाता है।
यह सीन रोज दोहराया जाता था। यह हमारा भी रोज का मनोरंजन था। जो अबाध रूप से चार वर्षों तक चलता रहा। कक्षा 9 के बाद अभिभावक के तबादले के कारण मुझे फतेहगढ़ से कानपुर जाना पड़ा। इसके बाद समोसा माट साहब के दर्शन का अवसर फिर कभी नहीं मिला। लेकिन मधुर स्मृतियों के एलबम में समोसा माट साहब की छवि अक्षुण्ण है। ऊपर का वृतांत पढ़कर लोग समझ जाएंगे कि जब भी समोसा मेरे सामने रखा जाता है मैं मुस्कुराता क्यों हूं।
अन्त में मैं यह भी स्वीकार करना चाहूंगा कि पूज्य समोसा माट साहब की मधुर स्मृति मुझे भी उतना आनंद देती है जितना समोसे माट साहब को देते थे।

संपर्क- डी-38, आकृति गार्डेन्स, नेहरू नगर, भोपाल (मप्र)
फोन नं. - 0755-2774675

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष