Thursday, December 11, 2014

इस अंक में

उदंती.com     नवम्बर- दिसम्बर- 2014    
 जिस साहित्य से हमारी सुरुचि न जागे, आध्यात्मिक और मानसिक तृप्ति न मिले, हममें गति और शक्ति न पैदा हो, हमारा सौंदर्य प्रेम न जागृत हो, जो हममें संकल्प और कठिनाइयों पर विजय प्राप्त करने की सच्ची दृढ़ता न उत्पन्न करे, वह हमारे लिए बेकार है, वह साहित्य कहलाने का अधिकारी नहीं है।  -मुंशी प्रेमचंद्र 
          
                    आवरण चित्रः  वंदना परगनिहा

  कालजयी कहानी विशेष               
  लघु कथाएँ                - सआदत हसन मंटो

  वंदना परगनिहा-  संपर्क: 6/बी100 यूनिटनंदिनी नगरदुर्ग (छ.ग.)                     मो. 7587326027, Email- parganiha.vandana@gmail.com        

लेखकों से अनुरोध...

--------------------------------------------


' उदंती.com' एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दो को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक, सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है।

उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है।
आप अपनी रचनाएँ - Email- udanti.com@gmail.com
पते पर प्रेषित करें।


--------------------------------------------

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष