May 10, 2016

पुस्तक

मैं घर लौटा: कुछ अनुभूतियाँ

सबकी पीर मैं हर लूँ
             - भावना सक्सैना
            भावों की सरिता
            शब्दों का सागर
            जीवन के रंग सब
            समेट लाई गागर।
यह गागर है रामेश्वर काम्बोज हिमांशुजी का नया काव्य संग्रह मैं घर लौटा। इस काव्य संग्रह को पढऩा सहज ही भावनाओं के सागर में डूबते चले जाना है। 184 पृष्ठों के इस संग्रह में 86 कविताएँ हैं। कविताएँ क्या हैं, विभिन्न अवसरों पर मन में उपजी संवेदनाएँ हैं, जो दिल से निकलकर सीधे दिल में उतरती हैं। समाज को देखता परखता इस संग्रह का संवेदनशील कवि- हृदय अपने सदाशयता के गुण को सहेज दूसरों को प्रेरित करता सम्बल प्रदान करता है।
मानव जीवन एक अंतहीन खोज है। मैं घर लौटा उसी खोज का अनुभूत सत्य हैप्रबोधन है, कि शान्ति अपने आसपास के वातावरण से भागने में नहीं उसे आत्मसात् कर लेने में है।
एक कुशल  चित्रकार की तरह हिमांशुजी कैनवस पर न सिर्फ प्रकृति के चित्र उकेरते हैं, जिनमें एक ओर पीले फूलों (अमलतास) के गजरे हैं (45) तो दूसरी ओर पाग आग की सिर पर बाँधे (134) पलाश हैं, गुलमोहर हैं सिर पर बाँधे फूल-मुरैठा। काम्बोज जी सुख-दु:ख आशा निराशा प्रेम के रंग भरते कभी हिम्मत और साहस से भरते हैं मंजिले उसको मिलेंगी जो निराशा से लड़े/चाँद सूरज की तरह उगता रहे ढलता रहे (113); तो कहीं समाज के बिगड़ते हालात पर  चिंतातुर दिखाई हैं; क्योंकि बीहड़ से चल हर घर तक आ चुके हैं भेडि़ए (56)। वह समाज के दुश्चरितों से बचने की सलाह देते हुए कहते हैं - चारों ओर रेंगते विषधर बचकर रहना (137) आज़ादी के नाम पर हो रही मनमानी पर कटाक्ष करते है (47)
इन कविताओं में जहाँ एक ओर तपने का,चलते रहने का आह्वाहन है वहीं यह सम्बल भी है की काँटो का वन पार करते ही है चन्दन वन। गहरे दर्द से भरी कविता  पुरबिया मजदूरतो चलचित्र के सामान चित्र उकेरती चली जाती है।
भावों की गहराइयों में उतरकर अनुभूत सत्य से रू-ब-रू कराती इस संग्रह की कविताएँ अनायास ही मन पर गहरी छाप छोड़ जाती हैं। इनका सबसे बड़ा गुण है कि संग्रह की सभी कविताएँ सहज सम्प्रेषणीय तो हैं ही, कई कविताएँ अपने समय का सच भी बयान करती हैं - पहली कविता ही मानो समाज को प्रतिबिंबित करती कहती है अंधकार यह कैसा छाया /सूरज भी रह गया सहमकर (41)
काम्बोज जी का स्वभाव है -सबको साथ लेकर चलने का, सबकी सहायता करने का। उनकी यह अभिलाषा कविताओं में भी मुखर हो उठती है- जो मिल जाए आगे पथ में उनके लिए भी कुछ कर जाएँ (99) वे चाहते हैं - सबकी हर पीर मैं हर लूँ (92)  और जब तक बची दीप में बाती....तब तक जलते ही जाना है साँसों का यह खेल है (95)। वह कहते हैं मैं कुछ भी बन जाऊँ पाषाण नहीं बन सकता (112)। उनकी कामना है हर देहरी पर दिया जलता रहे (113)
इन कविताओं में सामाजिक परिस्थितियों पर चिंतन मनन तो है किन्तु लेशमात्र भी संदेह नहीं है। वह अपने परोपकार के सिद्धांतों पर आगे बढ़ते रहते हैं। उन्हें संतोष है-मैं बहुत खुश हूँ; क्योंकि मेरे पास अहंकार नहीं है जिसे ढोने के लिए गाड़ी खरीदनी पड़े’ (158)। वस्तुत: यह आज के समाज पर गजब का कटाक्ष है!
पाठकों को प्रेरणा देते वह कहते हैं- मत मन में अभिमान करो/अच्छे काम करो जी भरकर/बुरे काम से सदा डरो। और रचने से ही आ पाता है जीवन में विश्वास नया(100)
कवि की आँखें समाज को निहारतीं हैं और अनायास ही एक यक्ष प्रश्न करती हैं- क्या संस्कार बदल पाएँगे? (121), हृदय समाज के भावों, विचारों या कार्यकलाप को दर्शाता आईना बन जाता है और तब सब जगह नज़र आने लगे हैं गिद्ध। नारी कहाँ नहीं हारी कविता में वह स्त्री की पीड़ा को समझते हैं फिर भी- नितांत एकाकी कोने छुपकर/ दबे स्वर में खुद रो पडऩा/अपनी विवशता पर है (112) तुमने कहा था शीर्षक की इस कविता में स्त्रीके मन में उठते भाव, उसकी विवशता, दर्द, तड़प व गहन संवेदनाएँ बार-बार पाठक को उद्वेलित कर जाती हैं। समाज तथा मानव-मन की तस्वीर उकेरती जीवन के कई पक्षों को निहारती कविताएँ कवि को श्रेष्ठता प्रदान करती हैं।
डॉ. सुधा गुप्ता जी के विषय प्रवेश, जो उनके ही शब्दों में न भूमिका है , न प्रस्तावना और न परिचय ने जहाँ इस संग्रह को गरिमा प्रदान की है; वहीं डॉ. भावना कुँअर व डॉ.हरदीप कौर सन्धु के विवेचन ने पाठकों के लिए ठोस भावनात्मक धरातल तैयार किया है।
कवि को शुभकामनाएँ देते हुए आशा करती हूँ कि वह भविष्य में भी हमें अपने श्रेष्ठ सर्जन से लाभान्वित करते रहेंगे और उसकी प्रतीक्षा इतने लम्बे समय (22 वर्ष) तक नहीं करनी होगी।
काव्य-संग्रह: मैं घर लौटा, कवि: रामेश्वर काम्बोज हिमांशु
पृष्ठ: 184, मूल्य:360, अयन प्रकाशन, 1/20, महरौली, नई दिल्ली-110030 
सम्पर्क: 64, प्रथम तल, इंद्रप्रस्थ कॉलोनी,सेक्टर 30-33, फरीदाबाद, हरियाणा 121003

5 Comments:

sushila said...

आपका काव्य-संग्रह पढ़ा तब भी कविताओं की भाव-भूमि में डूबती चली गई थी मैं। कवि के प्रति श्रद्धा भाव द्विगुणित हो गया था। कविताएँ भाव-प्रधान तो हैं ही शिल्प भी सुंदर है। मन कविताओं में सहज ही रम जाता है।
कवि को श्रेष्ठ संग्रह के लिए बधाई!

Vibha Rashmi said...

'मैं घर लौटा'आ .काम्बोज भाई का सुंदर काव्य संग्रह है , दार्शनिक भाव दर्शाती कवर की तस्वीर अपने गहन संजीदा रंग में है आसमानी , स्लेटी । सभी कविताएँ जीवन के विभिन्न पलों की गवाह हैं ।सभी संजीदा हैं ।जीवन के अनुभवों से पगी कविताएँ में भावप्रणवता है। सुन्दर ,जीवन दर्शन को दुख-सुख को उकेरती रचनाओं में काव्यात्मकता व भाव सौंदर्यबोध भरा है ।बधाई काम्बोज भाई को तथा सटीक समीक्षा के लिए भावना सक्सेना जी को बधाई ।

sunita pahuja said...

भावना द्वारा हिमांशु जी के काव्य संग्रह "मैं घर लौटा" की समीक्षा एक ओर नए पाठकों को इसे पढ़ने की ओर प्रेरित करती है तो वहीं दूसरी ओर पहले इसका आनंद ले चुके पाठकों को एक बार फिर या यूँ कहें बार-बार इसकी ओर लौट चलने और दोबारा पढ़ने को विवश करती है, हर बार एक नए नज़रिए से। आप दोनों को हार्दिक बधाई ।

Sudershan Ratnakar said...

मैं घर लौटा कविता संग्रह ' कई बार पढ़ा था भावना जी आपकी समीक्षा को भी बार बार पढ़ा है । जैसे कविताएँ दिल की गहराइयों में उतर गई थी ? आपकी समीक्षा भी दिल में उतर गई है। कविताओं के भाव और स्पष्ट हो गये हैं। ऐसे संग्रह कभी कभी आते हैं। काम्बोज जी एवं दोनों को बहुत बहुत बधाई।

Dr.Bhawna said...

kamboj ji rachnayen eaksebadhkar eak hai hi puri book ek nigah men padh dali samiksha bhi bahut achhi likhi hai meri hardik badhai..

लेखकों से अनुरोध...

उदंती. com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी,कविता, गीत,गजल, व्यंग्य,निबंध,लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है।आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही साथी समाज सेवी संस्थाद्वारा संचालित स्कूलसाथी राऊंड टेबल गुरूकुल में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है।
शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से साथी राऊंड टेबल गुरूकुलके बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है।
अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर,तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में),क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर,पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर,जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ।
सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी,रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबाइल नं.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष