July 25, 2012

संस्मरणः बिन पानी सब सून...

- डा. रत्ना वर्मा
पानी की कमी एक समस्या बनकर हमारे जन- जीवन को प्रभावित करने वाली है यह तो हम सभी अनुभव कर रहे थे परंतु इतनी जल्दी यह मुसीबत हमारे सामने खड़ी नजर आयेगी यह कल्पना हमने नहीं की थी और अब भी हम इस गंभीर समस्या से आँखें मूंदे हुए हैं।
पूरा देश इन दिनों पीने की पानी की समस्या से जूझ रहा है। हमारे देश की राजधानी दिल्ली से लगभग प्रतिदिन यह समाचार आता है कि वहां नलों के नीचे सैकड़ों की संख्या में लोग लाइन लगाए खड़े रहते हैं। दिल्ली शहर यमुना नदी के किनारे बसा है, फिर भी वहां के लोग पानी के लिए तरस रहे हैं, क्योंकि यमुना जो देश की बड़ी नदियों में से एक है, को प्रदूषण से एक जहरीला नाला बना दिया गया है। ऐसे में अन्य बड़े शहरों में कैसा हाहाकार मचा होगा इसका अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है। गर्मी के मौसम में पानी की यह समस्या और भी विकराल बन जाती है। इसका प्रत्यक्ष अनुभव मैंने इस वर्ष किया है-
 पिछले साल की तरह इस साल भी हम अपने प्रदेश के 45 डिग्री से भी अधिक पार कर चुके तापमान से राहत पाने उत्तराखंड की पहाडिय़ों पर छुट्टी मनाने जिलिंग (काठगोदाम से सड़क के रास्ते लगभग ढ़ेेड़ घंटे का मार्ग) की पहाडिय़ों पर गए। यह स्थान नैनीताल जिले के मटियाल गांव के ऊपर पहाडिय़ों के बीच बसा वह सुंदर स्थल है जहां सड़क नहीं है और टे्रकिंग करके ही वहां तक पंहुचा जा सकता है। लेकिन गर्मी से राहत इस साल वहां भी नहीं मिली। उत्तराखंड में पहाड़ के लोग भी इस बार गर्मी की तपन झेल रहे हैं और पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। मैदानी इलाके में रहने वाले हम जैसे लोग पहाड़ में रहने वालों की समस्या को तब तक महसूस नहीं कर सकते जब तक उसे स्यवं अनुभव न करें और अपनी आँखों से पीने के पानी के लिए उन्हें जूझते न देखें। लेकिन हम कई बरसों से समाचारों में पढ़ते रहे हैं जिसमें हमारे पर्यावरणविद् अपने अध्ययनों के आधार पर लगातार यह कहते आ रहे हैं कि विश्व में अगली लड़ाई पानी के लिए होगी।  यह लड़ाई अब शुरु हो चुकी है। पहाड़ों पर साल- दर- साल बढ़ रही गर्मी और पानी के लिए तरसते वहां के जीव- जंतु इसके गवाह हैं।
पानी की कमी एक समस्या बनकर हमारे जन- जीवन को प्रभावित करने वाली है यह तो हम सभी अनुभव कर रहे थे परंतु इतनी जल्दी यह मुसीबत हमारे सामने खड़ी नजर आयेगी यह कल्पना हमने नहीं की थी और अब भी हम इस गंभीर समस्या से आँखें मूंदे हुए हैं। अपनी इस यात्रा में जब हमने अपनी आँखों से यह सब देखा और स्वयं इस समस्या से रूबरू हुए तो विश्वास करना पड़ा कि हम अपने पर्यावरण के प्रति कितने लापरवाह हो चुके हैं। एक वह समय था जब आने वाली पीढ़ी को विरासत के रूप में सौंपने के लिए हमारे बुजूर्ग छायादार और फलदार पेड़ लगाते थे, यह सोच कर कि हमारे बच्चे जब बड़े होंगे तो इन हरे- भरे पेड़ों की छांह तले बैठ कर इसकी ठंडी हवा को महसूस कर हमें याद करेंगे कि हमारे दादा- परदादा ने हमारे बेहतर जीवनयापन के लिए ये पेड़ लगाये थे। पर आज के लोग अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए पेड़ तो नहीं लगाते बल्कि क्रांक्रीट के जंगल जरूर खड़े करते चले जा रहे हैं। ऐसे जंगल जो अगली पीढ़ी को मुसीबत के अलावा और कुछ नहीं देने वाले।
...तो मैं बता रही थी उत्तराखंड इन दिनों पानी की गंभीर समस्या से जूझ रहा है। वहां के रहने वालों से बात करने पर जानकारी मिली कि पहाड़ के नीचे रहने वाले तो फिर भी किसी तरह अपने लिए पीने के पानी का इंतजाम कर लेते हैं। जैसे नदी से या बोरिंग से। (यद्यपि नदी भी हमें सूखे ही मिले, क्योंकि छह दिन के इस पड़ाव में दो दिन हम स्वयं भी पानी की कमी से जूझे थे और नहाने के लिए नदी ही गए थे, जहां पर भी पानी बहुत कम था लगभग नहीं के बराबर)  हम जिस इलाके में रूके थे वहां के लोग भी पहाड़ों से नीचे उतर कर बोरिंग से पीने का पानी भरकर ऊपर ले जाते थे। वैसे जिस बोरिंग से वे सब और हम भी पानी ले जाते थे उसकी खासियत यह थी कि उस बोरिंग को बगैर ओटे ही लगातार पानी आते रहता था इतना स्वच्छ कि मिनरल वाटर भी पीछे रह जाए। चूंकि वहां पानी पहाड़ों पर बसे घरों पर पहुंचाना होता था इसलिए पानी के उनके बरतन बहुत बड़े नहीं होते थे। मुश्किल से 5-7 लीटर पानी ही वे एक बार में ले जा पाते थे। ज्यादातर महिलाएं और लड़कियां ही पानी भरने दूर- दूर से आती थीं। बिना पानी के कैसे गुजारा होता है पूछने पर वे लोग कहते थे पीने को पानी मुश्किल से मिलता है वहां नहाने की बात ही कहां उठती है हम तो कई कई दिन नहाते ही नहीं।
 बहुत ही कम पानी में जीवन गुजारना हो तो वह पहाड़ में पानी की समस्या से जूझ रहे लोगों से सीखना होगा। हम शहरों के नलों में पानी के लिए लाइन लगाए लोगों को देखकर परेशान हो जाते हैं पर कोई इन पहाड़ में रहने वालों का दुख भी देखे जो पानी का मटका या पीपा लेकर ऊंची- ऊंची पहाडिय़ों पर चढ़ते- उतरते हैं। पिछले साल भी हम इसी इलाके में गए थे पर तब हालात आज से बेहतर थे। जंगल हरे- भरे थे। फलों की भरमार थी। लोग खुश नजर आते थे पर आज उनकी आंखों में निराशा साफ झलकती है।
  वहां पिछले एक साल से वर्षा ही नहीं हुई है। इस वर्ष पहली बार उस क्षेत्र में तापमान 32 से 35 डिग्री तक गया। जंगल का एक बहुत बड़ा इलाका आग से जल गया है। पहाड़ों पर सीढ़ीदार खेती करने वाले किसानों की हालत तो बहुत ही खराब है। पानी के अभाव में उनकी फसलें सूख रहीं हैं। सरकार ने ग्रीन हाऊस प्रोजेक्ट के माध्यम से वहां के किसानों को फायदा दिलाने की कोशिश की है पर पानी के अभाव में यह भी उनके फायदे का नहीं रहा। ग्रीन हाऊस के पौधों को बचाने के लिए वे पानी लाएं तो कहां से लाएं। पहाड़ों के सभी सोते सूख चुके हैं। पशु- पक्षी प्यासे भटक रहे हैं। मानसून के इंतजार में किसानों की आंखें पथरा गई हैं।
जाहिर है प्रकृति हमसे नाराज है। बेदर्दी से काटे जा रहे जंगल, नदियों पर बनाए जा रहे बांध, कल- कारखानों का फैलता जाल और भूजल का दोहन आदि सबने मिलकर आज ये हालात बना दिए हैं कि जिन पहाड़ों पर से झरनों के हजारों सोते नीचे आकर नदियों से मिल जाया करते थे वे पहाड़ आज उजाड़ हो गए हैं। मानसून भी इस बार 10 दिन विलंब से आया है और इस बरस इसके कमजोर रहने की संभावना भी बताई जा रही है।
याद रहे बिन पानी सब सून।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष