July 25, 2012

जीवनशैलीः बूंदों में जाने क्या नशा है...

- सुजाता साहा
बारिश में जब आप रेन कोट या छतरी लेकर सड़क पर निकलते हैं तो ढेरों मुसीबतें झेलनी पड़ती है जो इस भीगे मौसम के नशे को फीका करने में कोई कसर नहीं छोड़ते। इसलिए बूंदों में जाने क्या नशा है ... गाते हुए कुछ पल के लिए तन मन को भीगोने आए इस सुहाने मौसम को हाथ से फिसल कर जाने मत दीजिए।
बरसात... एक बहुत आनंदित करने वाला एहसास है। बारिश की बूंदे तन को ही नहीं, मन को भी भीतर तक भिगो देती हैं। पानी की बूंदे पेड़ों की पत्तियों को नहलाती हुई धरती के अंतस में समा जाती हैं। बारिश से नहाई धरती को देखकर प्रफुल्लित मन बरबस ही प्रकृति को करीब से निहारने के लिए मचल उठता है।
यह सब पढ़कर आप कह सकते हैं कि यह सब तो किताबी बातें हैं, कवि मन की कल्पनाएं हैं, क्योंकि जब भी आप इस खुशनुमा मौसम में बरसती बूंदों का आनंद लेने के लिए कहीं जाने के बारे में सोचते हैं तो सड़कों का हाल देखकर आपको रोना आ जाता होगा, क्यों सही कहा ना मैंने? 
लेकिन जहां जीवन में खूबसूरती है वही कुछ गंदगी भी है। सुख और दुख की तरह हमें दोनों को स्वीकार करके चलना पड़ता है। इसलिए जिस प्रकार बरसात अपने साथ हरियाली लाती है उसी प्रकार कई बाधाएं भी लाती है। जिस तरह आप बरसात में हरियाली को देखकर खुश होते हैं उसी प्रकार कीचड़ देखकर मन दुखी हो जाता है। लेकिन इसका मतलब यह तो नहीं कि आप सिर्फ दूसरे पक्ष को ही देखें, आप इसके उजले पक्ष को देखना शुरु कीजिए फिर देखिए किस तरह आप प्रफुल्लित होकर गाने लगेंगे... बूंदों में जाने क्या नशा है, छम छम इठलाती बूंदे, तन मन पिघलाती बूंदे...।
बारिश का मौसम है तो आप सिर्फ सड़कों का रोना मत रोइए। और ऐसा मत सोचिए कि हम क्या कर सकते हैं। बल्कि हम ही बहुत कुछ कर सकते हैं। जरूरत है आपको थोड़ा सा अपने आप को बदलने की।
कुछ लोग बारिश का मौसम देखा और निकल पड़ें अपने कार में सैर करने को। रास्ते में गड्ढा दिखा तो कार की रफ्तर धीमी करने के बजाए तेजी से कार वहां से निकाल लेते हैं। नतीजन वहां चल रहे लोगों पर कीचड़ की छींटें पड़ी। अगर आप भी ऐसा करते हैं तो अपनी इस आदत को सुधार लीजिए।
जैसे जब हम अपनी चार पहियों वाली गाड़ी में बैठकर फर्राटे से पानी भरे गड्ढ़ों से गाड़ी दौड़ाते हैं तो राह चलते राहगीर की ओर तो देख ही सकते हैं। यदि देख सकते हैं तो क्यों न हम पानी वाली जगह पर गाड़ी की रफ्तार धीमी करके शालीनता का परिचय दें। इस काम में तो हम किसी को जिम्मेदार नहीं ठहरा ना। 
इसी तरह अकसर देखा गया है कि जब हम किसी परिचित के घर मिलने जाते हैं और वहां से विदा लेते वक्त बारिश शुरु हो जाती है तो मेजबान छाता, रेनकोट देकर अपनी शालीनता का परिचय देता है ताकि हम भीगे नहीं। लेकिन क्या हम उन चीजों को लौटाते वक्त भी उतनी ही तत्परता दिखाते हैं? या लिया हुआ सामान न लौटाने का आपने संविधान बना लिया है। कहने का मतलब सिर्फ इतना है कि उन चीजों को सही समय पर लौटाकर हम अपनी नैतिक जिम्मेदारी निभा सकते है। क्योंकि जिन्होंने आपको बारिश से भीगने से बचाया है उन्हें भी इस मौसम में इन सबकी जरूरत है। तो यह काम तो हमें ही करना होगा ना किसी दूसरे को नहीं।
कौन होगा जो अपने घर को साफ सुथरा नहीं रखना चाहता। तभी तो कई मेजबान कृपया जूता चप्पल बाहर उतारे कहने में संकोच नहीं करते। जो यह बात कहने का साहस नहीं जुटा पाते। इसका यह मतलब तो नहीं कि हम उनके साफ सुथरे घर और कालीन को कीचड़ से सने अपने जूते- चप्पल से रौंदते चले जाएं। कोई कहें या नहीं कहे हमें जूते चप्पल बाहर उतारकर ही अपनी समझदारी का परिचय देना चाहिए। यह हमारा उत्तरदायित्व है। कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो बोलने के बावजूद भी अपने जूते चप्पल बाहर नहीं उतारते।
यह तो हुई बारिश में दूसरों का ख्याल रखने की बात अब थोड़ा सा अपना भी ध्यान रख लिया जाए। रिमझिम बारिश  हो और पकौड़े खाने न मिले तो फिर ऐसी बारिश का क्या मतलब। पर मौसम का बहाना लेकर तली हुई चीजें बाहर खाकर कहीं हम बीमारी को आमंत्रण तो नहीं दे रहे। बरसात तो खैर बहाना है तली, गरम चीजें खाने का, किन्तु इन दिनों बाहर खाना कितना नुकसानदायक हो सकता है इसे भी जरा सोच लें खासकर बच्चों के खानपान को लेकर लापरवाही तो बिल्कुल भी नहीं। तो बाहर का खाना न खाकर जान है तो जहान है को सार्थक कर ही सकते है। बाहर का ही नहीं घर में भी पकौड़े या अन्य तेल की चीजें जरूरत से ज्यादा खाकर कहीं हम अपनी सेहत के दुश्मन तो नहीं बन रहे और निरोगी काया के फार्मूले को झूठला रहे।
यह सब कहने यह मतलब नहीं कि आप बरसात में पकौड़े का मजा ही न लें। बिल्कुल लें बल्कि अपने दोस्तों और परिचितों को भी इसमें शामिल करें, क्योंकि बारिश में जब आप रेन कोट या छतरी लेकर सड़क पर निकलते हैं तो ढेरों मुसीबतें झेलनी पड़ती है जो इस भीगे मौसम के नशे को फीका करने में कोई कसर नहीं छोड़ते। इसलिए बूंदों में जाने क्या नशा है ... गाते हुए कुछ पल के लिए तन मन को भीगोने आए इस सुहाने मौसम को हाथ से फिसल कर जाने मत दीजिए।

2 Comments:

Mayur Malhar said...

अच्छी प्रस्तुति के लिए बधाई.

सहज साहित्य said...

बूँदों में क्या नशा है ! यह लेख तो भावपूर्ण कविता जैसा है । मन-प्राण को भिगोने वाला । अच्छी और ज़मीन से जुड़ी भाषा और गहन जीवन -अनुभव के बिना इस तरह का लेखन सम्भव नहीं । सुजाता जी को हार्दिक बधाई !
रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ नई दिल्ली

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष