July 25, 2012

खोज: 10 नए अनोखे प्राणी

अभी 30 मई को वैज्ञानिकों ने वर्ष 2011 में खोजे गए जीव- जंतुओं और वनस्पतियों में सर्वोत्तम 10 प्राणियों के नामों की घोषणा की है ये क्रिया पांच वर्ष पहले प्रारंभ की गई है और प्रत्येक वर्ष यह घोषणा 23 मई को की जाती है। इस संदर्भ में 23 मई का महत्व यह है कि इसी दिन जीव जंतुओं और वनस्पतियों के नामांकन और वर्गीकरण को निर्धारित करने वाले स्वीडन के वनस्पति शास्त्री कैरोलस लीनियस का जन्म दिन भी है। 


1. पापुआ न्यूगीनी में एक ऐसी आर्किड पुष्प मिला है जो रात में 10 बजे के आस-पास खिलता है और सूर्योदय से पहले उसकी पंखुडिय़ां बंद हो जाती हैं। यह विश्व का एक मात्र रात में ख्रिलनेवाला आर्किड है।

2. चीन में करोड़ों वर्ष पुराना एक विचित्र नागफनी (कैकटस) की जीवाश्म (फासिल) मिला है। यह वनस्पति देखने में एक कांतर जैसा कीड़ा लगता है। जिसके पचासों पैर हों।

3. खूबसूरत झालरदार गुब्बारे की तरह दिखने वाला समुद्री जीव वास्तव में एक अत्यंत जहरीली जेलीफिश है।

4. अत्यंत आकर्षक दमकते हुए नीलेरंग का रोएंदार जिस्म वाला यह विशाल मकोड़ा (टेरेन्टुला) ब्राजील के पवर्तीय क्षेत्र में मिला है।

5. साढ़े छह इंच लम्बी यह विश्व की सबसे विशाल कांतर हैं।

6. स्पंज जैसी दिखने वाली यह चीज वास्तव में कुकुरमुत्ता (मशरूम) की एक नस्ल है। इसकी खासियत यह है कि मुट्ठी में दबाने से यह स्पंज की तरह सिकुड़ जाता है और मुट्ठी खोलने पर फिर से पहले वाले आकार में आ जाता है।

7. यह चित्र विश्व में धरती के सबसे ज्यादा गहराई में रहने वाले जीव का है। सिर्फ 0.5 मिलीमीटर लंबाई का यह कीड़ा दक्षिण अफ्रीका की 1.3 किलोमीटर गहरी सोने की खान की तलहटी में पाया गया।

8. यह खूबसूरत नेपाली पोस्ते का फूल (पापी) हजारों साल तक इसलिए अनजाना बना रहा क्योंकि यह पहाड़ों पर 11000 से 14000 फीट की ऊंचाई पर सिर्फ पतझड़ के मौसम में खिलता है।

9. ये परजीवी ततैया स्पेन में मिलती है। धरती से सिर्फ एक इंच ऊपर उड़ते हुए अपने शिकारी चीटों की तलाश करती है। चींटी देखते ही ये गोता लगाकर उस चींटे के बदन में अपना अंडा डाल देती है।

10. यह छींकने वाला बंदन बर्मा (म्यांमार) में पाया जाता है। काले बालों और सफेद दाढ़ी वाला ये बंदर पानी बरसने पर छींकता है। इस नस्ल का अस्तित्व संकटग्रस्त है।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष