March 17, 2010

बांधवगढ़

जब शेर भी हमारे साथ डिनर पर पहुंचा...

- वंदना अवस्थी दुबे
मध्य प्रदेश के बाघ अभयारण्यों में से एक है बांधवगढ़। शहडोल जिले के अंतर्गत बांधवगढ़ पहुंचने के लिए विन्ध्य पर्वत श्रृंखला को पार करना होता है। इतने घने और हरे जंगल पूरी पर्वत श्रृंखला पर हैं, कि मन खुश हो जाता है। बांधवगढ़ पहुंचने के लिए विन्ध्य पर्वत श्रृंखला को पार करना होता है। हमारी गाड़ी पहाडिय़ों पर सर्पिल रास्तों से होती हुई आगे बढ़ रही थी। इतना सुन्दर दृश्य!! वर्णातीत!
इसी पर्वत श्रृंखला में है मोहनिया घाटी, जहां पहली बार सफ़ेद शेर मिला था, इसीलिए उसका नाम मोहन रखा गया। सुबह 10 बजे हम बांधवगढ़ पहुंचे। वहां ठहरने के लिए एक रिसॉर्ट में बुकिंग पहले ही करा ली गई थी। हम सीधे वहीं पहुंचे, वह रिसॉर्ट इतनी खूबसूरत जगह पर है कि यहां से बाहरी दुनिया का अहसास ही नहीं होता। अलग- अलग बने खूबसूरत कॉटेज और घना बगीचा। आम्रपाली के अनगिनत पेड़, और उन पर लटकते असंख्य आम। अनारों से लदे वृक्ष। मन खुश हो गया। लंच के बाद हम नेशनल पार्क के भ्रमण पर निकले। पहले दिन तो हम जंगल की खूबसूरती ही देखते रह गए। रास्ते में हिरन और चीतलों के असंख्य झुंड नजर आए। शेर के पंजों के निशान भी दिखाई दे गए।
दूसरे दिन सुबह चार बजे उठ कर साढ़े चार बजे तक हम सब सफारी में सवार होकर जंगल के बीच थे। हमारी किस्मत अच्छी थी दो चक्कर लगाने के बाद ही जंगल के राजा के दर्शन हो गए। आराम फरमाता शेर.... अलस्सुबह ही शेर के दर्शन... उसकी गुर्राहट कानों में अभी भी गूंज रही है।
शाम के भ्रमण के बाद हमने कुछ शॉपिंग की और रात दस बजे के आस-पास अपने रिसॉर्ट पहुंचे गए। साढ़े दस बजे वेटर ने भोजन की सूचना दी। हम सब डाइनिंग स्पेस की तरफ बढऩे। पर्यटकों के रुकने की जगह को भी जंगल का अहसास दिलाने के लिये पूरे रिसॉर्ट को ही घने जंगल जैसा माहौल दे दिया गया था, लेकिन डाइनिंग स्पेस तो केवल आधे दीवारों से ही घिरा था। किसी चौबारे की तरह। खैर...हम डिनर के लिये पहुंच गए। अभी खाना प्लेट में निकाल ही रहे थे, कि बाहर की ओर से किसी जानवर के गुर्राहट की आवाज सुनाई दी। सब ने सुनी, मगर किसी ने कुछ नहीं कहा। एक बार...दो बार...तीन बार... अब बर्दाश्त से बाहर था... आवाज़ एकदम पास आ गई थी। मेरी बेटी ने पहल की- बोली ये कैसी आवाज़ है? अब सब बोलने लगे- हां हमने भी सुनी... हमने भी...
खाना सर्व कर रहे वेटर ने बेतकल्लुफ़ी से कहा- अरे ये तो बिल्ली की आवाज़ है। हममें से एक ने कहा... ऐसी आवाज़ में बिल्ली कब से बोलने लगी!!! नहीं... ये बिल्ली नहीं है... गुर्राहट और तेज़ हो गई... अब दीवार के उस पार शेर और इस पार हम... जंगल से लगा हुआ रिसॉर्ट... हदबंदी के लिये बाड़ तक नहीं... हमारा पूरा परिवार तो था ही, मेरी भांजी भी साथ में थी....हे ईश्वर!!! दौड़ कर दोनों बच्चों को किचन में बंद किया। सारे वेटर भी डरे हुए थे... बोले- हां शेर आ तो जाता है यहां... पिछले दिनों एक लड़के को खा गया था... काटो तो खून नहीं... टेबल पर जस का तस पड़ा खाना... हमने तय किया यहां खड़े-खड़े मौत का इंतज़ार करने से अच्छा है, अपने कॉटेज की तरफ़ जाना। हमारे कॉटेज डाइनिंग स्पेस से कम से कम सौ कदम दूर... इस समय जंगल का मज़ा देने वाले इस रिसॉर्ट पर कोफ्त हो आई।
कल तक जिसकी तारीफ़ करते नहीं थक रहे थे, आज वही मौत का घर दिखाई दे रहा था। खैर...धीरे-धीरे आगे बढ़े.. एक-दूसरे का हाथ पकड़ते किसी प्रकार कॉटेज तक पहुंचे। आह... सुकून की लम्बी सांस... पूरी रात आंखों में कटी। सबेरे जब हम फिर भ्रमण के लिये निकले- लोगों को कहते सुना- रात बोखा (मेल टाइगर का नाम) शहर की तरफ़
आया था!

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष