August 20, 2009

पीपल का पेड़ और मैं

- हरि जोशी 
मैं हूं और मेरे सामने पीपल का पेड़ है,
पतझर कल ही गई है,
एक- एक पत्ता जो सूख चुका था,
उड़ गया हवा में,
 अब निर्वस्त्र रह गया, दुबला, दरिद्र पेड़।

कल जो पत्ता कृशकाय था,
हवा के छोटे- छोटे थपेड़े भी सह न सका,
अन्तत: उखड़ गया जड़ से।

आज से सहस्त्रों पान, स्निग्ध और भोले भाले
नई हवा के प्रवाह में,
सुख ही नहीं देंगे, ये नवजात शिशु समूह
हिल हिल कर नहीं, हाथ हिलाकर,
 वसंत का स्वागत करने वाले हैं।

नवजात पत्तों की शिराओं में भी बहता है धवल दुग्ध,
जो मात्र स्फूर्ति ही नहीं,
जीवन भर, लडऩे की जिजीविषा भी देता है।

जो पत्ता वृद्ध था, कड़ा हुआ, फिर उखड़ा,
आंधी के प्रथम प्रहार ने निर्वासित कर दिया।
वह अपने शिशुपन में, लचीला था,
 हरा भरा उत्साह से भरपूर बहुत।

पत्ता चाहे हरा पीला या सूखा था,
वृक्ष से जब तक जुड़ा था, संरक्षित सुरक्षित था
टूटते ही हो गया अनाथ,
खाने लगा दर दर की ठोकरें।

मुझे ज्ञात है एक वर्ष पूर्व ही
प्रथम जन्मदिन था उसका,
इस वर्ष हो गई उसकी मृत्यु,
एक वर्ष का जीवन पूरा कर,
 छोड़ गया सारा संसार,
आ जाएगा नया पत्ता उसकी जगह,
किन्तु उसका अता पता अब किसी को नहीं।

कैसी भी तुरुप चाल चले,
उसका अवसान होना है,
पत्ते और मनुष्य में उम्र का ही भेद है,
अन्यथा नियति वही,
लाल होना, हरा- भरा होना,
पीला पड़ जाना, फिर उड़ जाना।

पीपल की पूजा होती, क्योंकि वह छांह देता,
फसलों, बच्चों को, सुख देता लहलहाने का।

मनुष्य लहलहाने का नहीं,
 लहूलुहान करने का अनुभव देता,
सिर्फ एक वर्ष नहीं, पूरे सौ वर्ष तक,
हां उसके बाद पत्ता तो उसका भी कटता है।
कौन उसके साथ में भटकता है।
नदी
उसे मात्र नदी न कहो,
वह अलौकिक ही नहीं संपूर्ण साध्वी भी है,
पारदर्शी, अतल गहराई युक्त, उदार हृदय वाली।
निरन्तर प्रवाहमान, उमंग में छलछलाती,
करूणामयी तुरही, सांस्कृतिक दुंदुभि।
 
गजबदनी प्राणियों के लिए ही नहीं,
चीटियों, भ्रमरों के लिए भी,
आशीर्वाद का स्नेह छलकाती बढ़ती ही जाती वह।
आशा की किरण,और विश्वास की  यह देवी
किनारे पर खड़े शिशु वृक्षों को,
जलपान, पयपान कराती चलती।

भविष्य के छायादार, फलदार वृक्ष यही होंगे,
पूर्णतया आशान्वित रहती
अपने साम्राज्य की सतर्क महारानी,
सबके लिए सिंचन कर, जीवन में हर्ष लाती है।

छाया के तले हरी दूर्वा पर झपकी लें,
पदन्यासी विश्राम करेंं।
तनिक भेदभाव नहीं, धर्म का या पंथ का,
स्नान करें, चाहें स्तुतिगान करें।

स्थायी आमंत्रण, निर्मल स्वच्छ, होने का,
प्रत्येक मां बच्चे का ज्यों  व्यक्तित्व संवारती,
भीतर और बाहर से, निष्कलुष हो जाने का
आज, इसी क्षण उसी सूत्र को बताएगी,
भले वह कल कल कहे।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष