August 15, 2008

उदंती

खूबसूरत गोडेना फाल

- संतोष साव


गोंडवाना समाज द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य का नाम बदलकर गोंडवाना राज्य करने की मांग कई दिनों से की जा रही है। छत्तीसगढ़ का नाम गोंडवाना होगा या नहीं यह तो वक्त ही बतलाएगा परंतु छत्तीसगढ़ में एक सुंदर जलप्रताप जरूर है जिसका नाम 'गोडेना फाल` है।

छत्तीसगढ़ राज्य की उड़ीसा सीमा पर स्थित है गोडेना फाल । यह रायपुर से लगभग 180 किलोमीटर है। यहां राजिम, गरियाबंद मैनपुर होते हुए पहुंचा जा सकता है। मैनपुर से 22 किलोमीटर दूर तारेंगा स्थित है जहां वन विभाग का विश्रामगृह है। तोरेंगा से 12 किलोमीटर दूर बम्हनीझोला में वन विभाग का बेरियर लगा है। यहां प्रति व्यक्ति 15 रुपए का शुल्क देकर प्रवेश लिया जा सकता है। वाहन के प्रवेश हेतु 50 रुपए का शुल्क देय है। बम्हनी झोला में करलाझर में भी वन विभाग का विश्रामगृह है। यह सारा इलाका उदंती कहलाता है जो उदंती नदी के नाम पर 237 वर्गकिलोमीटर क्षेत्र में फैला है। अभयारण्य के बीचों बीच उदंती नदी बहती है। उदंती नदी पर ही बनता है 'गोडेना फाल`।



ग्रेनाइट व संगमरमर की चट्टानों से गिरती हुई उदंती नदी गोडेना फाल बनाती है। कई रंगों के चमकीलें चट्टानों से गिरता हुआ पानी, झरने की खूबसूरती को बढ़ा देता है। इन बेशकीमती चट्टानों को देखकर ही शायद इस राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ व छत्तीसगढ़ के लोगों को 'अमीर धरती के गरीब लोग` कहा होगा। यहां घूमते हुए आपको यह गौरव होगा कि आप कोरंडम व डायमंड प्रक्षेत्र के बिल्कुल करीब है।

गोडेना फाल जाते हुए आप उदंती अभयारण्य घूमने का आनंद भी ले सकते हैं। यह अभयारण्य मूल नस्ल के जंगली भैसों के लिए संरक्षित है। यह साजा, साल बीजा, हल्दू आदि वृक्षों से भरा हुआ घने जंगलों वाला अभयारण्य है। यहां चीतल, सांभर, नीलगाय, जंगली सूअर आदि पाये जाते हैं।

अभयारण्य से लौटते हुए 'दहीमन` नाम वृक्ष को देखना बहुत कौतुहलपूर्ण लगता है। कहते हैं इस वृक्ष के नीचे बैठने से रोगी व्यक्ति निरोगी हो जाता है। जानवर अस्वस्थ हो जाने पर इस वृक्ष के नीचे पनाह लेते हैं। जख्मी जानवर इस वृक्ष की छाल से अपने जख्म ठीक कर लेते हैं। यह प्रकृति के गुणकारी रूप को बताता है।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष