September 18, 2016

मेरे बाबूजी

असली छत्तीसगढिय़ा 
वही जो शोषण के 
विरुद्ध आवाज उठाए 

धान का कटोरा कहे जाने वाले छत्तीसगढ़ के लिए सदा संघर्षरत रहे सपूतों में मेरे बाबूजी (बृजलाल वर्मा) का नाम प्रमुखता से लिया जाता है। वे डॉ. खूबचंद बघेल तथा ठा. प्यारेलाल सिंह से प्रभावित ऐसे नेता थे जिनके मन में अंचल के किसानों, श्रमिकों पर होने वाले शोषण के प्रति पीड़ा थी, उनके लिए उन्होंने सदैव संघर्ष किया, उनके अधिकारों के लिए आवाज उठाई।
छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ के वासियों की पहचान के संदर्भ में उनके अपने मापदंड थे, उनका कहना था- 'यहाँ की मिट्टी से जिसे प्यार हो, यहाँ के रहने वालों के प्रति जिनके दिल में दुलार हो, यहाँ की अस्मिता विरोधी लोगों के खिलाफ जिनकी भावना में प्रबल प्रतिकार हो, फिर चाहे वह कितना भी सशक्त सत्ताधारी क्यों न हो, वह शोषण करने वालों के विरुद्ध आवाज उठाने वाला हो, तथा वह बिना किसी स्वार्थ के छत्तीसगढ़ के हित के लिए बात करता हो, उसके सामने चाहे उसका हिमायती हो चाहे आलोचक वह अपनी बात पर दृढ़ता से डटा रहे वही असली छत्तीसगढ़ी है।'
एक सम्पन्न कृषक परिवार से होने के बाद भी बाबूजी छल-कपट से दूर ग्रामीण प्रकृति के नेता थे। उन्हें छत्तीसगढ़ के कृषक पुत्र होने पर गर्व था, वे छत्तीसगढ़ी में बोलकर स्वाभिमान का अनुभव करते थे, उनके इन्हीं सरल प्रकृति का ही परिणाम था कि वे अपने क्षेत्र में जनता के प्रिय जननेता थे। उनकी इसी लोकप्रियता के चलते वे भारतीय जनसंघ, जनता पार्टी और लोक दल के प्रदेशाध्यक्ष बनाये गए  थे।
वे छात्र जीवन से ही आजादी के आंदोलन से जुड़ गए  थे। नागपुर में विधि की शिक्षा की दौरान भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान उन्हें एक वर्ष, परीक्षा में बैठने नहीं दिया गया था। विधि की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने रायपुर और बलौदाबाजार में वकालत आरंभ की। उन्होंने इसे पेशे के रूप में कभी नहीं अपनाया, इसे शोषण के विरूद्ध लड़ाई का माध्यम बनाया, इसी दौरान वे सहकारी आंदोलन से जुड़े और उन्होंने किसानों में जागृति लाने का बीड़ा उठाया। इस आंदोलन के नेतृत्व के दौरान वे जेल भी गए ।
उनके राजनैतिक जीवन की शुरुवात कृषक मजदूर प्रजा पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने के साथ हुई। १९५२ में व वे पहली बार सोशलिस्ट पार्टी के बैनर तले विधायक चुने गए । बाद में वे प्रजा सोशलिस्ट पार्टी में शामिल हो गए , १९६५ में  कांग्रेस में शामिल जरूर हुए पर ज्यादा दिन यहाँ न रह सके। १९६७ में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारका प्रसाद मिश्र के विरुद्ध बगावती बिगुल बजाने वालों में वे सबसे आगे थे। ३६ विधायकों के साथ मिलकर उनके  नेतृत्व में मिश्र की सरकार गिरा दी गई थी; फिर संयुक्त विधायक दल की सरकार में बाबूजी का नाम मुख्यमंत्री पद के लिए प्रस्तावित किया गया, जिसे उन्होंने उदारता से इंकार कर दिया और गोविंद नारायण सिंह को मुख्यमंत्री के पद पर आसीन किया गया, लेकिन संविद सरकार में मंत्री के रूप में उन्होंने सिंचाई, विधि योजना विकास, कानून और जेल जैसे आठ विभागों को कुशलतापूर्वक सँभालकर अपनी कर्मठता का परिचय दिया। १९७० में आप जनसंघ में आ गए , १९७४ में मध्यप्रदेश जनसंघ के अध्यक्ष निर्वाचित हुए, इस पद पर वे जनता पार्टी के उदय होने तक आसीन रहे। १९७५ में जयप्रकाश नारायण के आंदोलन में सहयोग के कारण २७ जून को वे 'मीसाज् के अंतर्गत गिरफ्तार कर लिए गए। २२ माह की मीसा बंदी के दौरान वे रायपुर, सिवनी, जबलपुर तथा दिल्ली के जेलों में रखे गए ।
१९७७ के चुनाव में अविभाजित मध्यप्रदेश की महासमुंद संसदीय क्षेत्र में अपने प्रतिद्वंदी को हराकर उन्होंने बहुमत से विजयश्री हासिल की और भारत सरकार में उन्हें पहले उद्योग मंत्री फिर संचार मंत्री बनाया गया।
संचार मंत्री के रूप में उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों के लिए जो कुछ भी किया वह एक सच्चा ग्रामीण हितैषी दृढ़ निश्चयी व्यक्ति ही कर सकता था। छोटे-छोटे गाँवों में पब्लिक कॉल ऑफिस खोलकर उनकी व्यवस्था गाँव के ही गैर सरकारी व्यक्ति को सौंपा जाना, उनकी कार्यशैली का अनुपम उदाहरण है। देश, प्रदेश के साथ-साथ छत्तीसगढ़ में भी उन्होंने अनेक डाक एवं तार घर का निर्माण किया पहले डाक घर की जिम्मेदारी गाँव के किसी शिक्षक को सौंपी जाती थी, परंतु बाबूजी ने किसी ग्रामीण को ही इसकी जिम्मेदारी सौंपकर, रोजगार के नए आयाम खोले, जो उनकी स्वतंत्र व क्रांतिकारी सोच का परिणाम है।
स्वाधीनता के समर के एक समर्पित सेनानी के नाते उनके सामने आजादी के नये लक्ष्य, आदर्श और उद्देश्य थे, वही उनके बाद के सार्वजनिक जीवन की तलाश भी बने। बाबूजी को सत्ता और अधिकार के ऊंचे पद मिले, परंतु वह संतोष नहीं जो उनकी राजनीतिक सक्रियता का परम उद्देश्य था। राजनीति में आये गिराव ने उन्हें दुखित कर दिया था संभवत: इसीलिए उन्होंने अपने अंतिम दिनों में अपने को राजनीति से पूर्णत: विलग कर लिया थालेकिन समाज व किसानों के लिए कुछ कर पाने की उनकी तड़प तब भी कम नहीं हुई थी। वे अंतिम समय तक उनके लिए लड़ते रहे।
 छत्तीसगढ़ अंचल की शोचनीय स्थिति और यहाँ के लोगों की व्यथा को दूर करने के लिए वे सदैव प्रयासरत रहे, छत्तीसगढ़ के प्रति हो रही उपेक्षा के प्रति उनके मन में आक्रोश था। पृथक छत्तीसगढ़ के लिए भी उन्होंने जनता पार्टी में रहते हुए आवाज उठाना शुरू कर दिया था और अंत तक वे इसके लिए प्रयास करते रहे थे। उन्होंने पृथक छत्तीसगढ़ का सपना देखा था, और इसके लिए निरंतर संघर्षरत भी रहे। यह सपना उनके जीवन काल में तो पूरा न हो सका पर इस प्रयास में उनकी भागीदारी को छत्तीसगढ़ वासी भूला नहीं सकते।
वे चाहे सत्ता में रहे हों या विपक्ष में बैठे हों उन्होंने अपना ध्यये जनता की सच्ची सेवा ही रखा- छत्तीसगढ़ अंचल उनके अवदान को उनकी सेवा को कभी भुला नहीं सकता। वे छत्तीसगढ़ के सच्चे माटी पुत्र थे।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती. com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी,कविता, गीत,गजल, व्यंग्य,निबंध,लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है।आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही साथी समाज सेवी संस्थाद्वारा संचालित स्कूलसाथी राऊंड टेबल गुरूकुल में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है।
शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से साथी राऊंड टेबल गुरूकुलके बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है।
अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर,तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में),क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर,पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर,जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ।
सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी,रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबाइल नं.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष