September 10, 2011

वे हंसना सीख रहें हैं!


खुश और सेहतमंद रहने के लिए किसी विज्ञान की जरूरत नहीं होती, बस हंसना ही काफी होता है। हंसी मजाक को जर्मनी के साथ जोड़ कर कभी नहीं देखा जाता। जर्मन लोगों को बेहद संजीदा और कम बोलने वाला माना जाता है। जर्मन मेहनती होते हैं, मजाकिया नहीं।

क्या हंसना सिखाया भी जा सकता है? जी हां, जर्मन कम्पनियां खास तौर से अपने कर्मचारियों को ऐसी ट्रेनिंग में हिस्सा लेने के लिए भेज रही हैं जहां वे हंसना सीख सकें और काम के समय मजाक कर पाएं।
खुश और सेहतमंद रहने के लिए किसी विज्ञान की जरूरत नहीं होती, बस हंसना ही काफी होता है। हंसी मजाक को जर्मनी के साथ जोड़ कर कभी नहीं देखा जाता। जर्मन लोगों को बेहद संजीदा और कम बोलने वाला माना जाता है। जर्मन मेहनती होते हैं, मजाकिया नहीं। वे अपने काम को लेकर इतने दीवाने होते हैं कि काम के समय केवल काम ही करते हैं।
लेकिन लाइपजिग शहर के एक होटल के कांफें्रस हॉल में जर्मन हंसना सीख रहे हैं। यहां एक ट्रेनिंग चल रही है, जहां लोगों को हंसना सिखाया जा रहा है। ट्रेनर एफा उल्मन कातरिन हांसमायर के साथ मिल कर ट्रेनिंग के लिए आए लोगों के काम का मजाक उड़ाती हैं और उन्हें ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करती हैं। ट्रेनिंग के बारे में एफा बताती हैं, 'हम यहां ट्रेनर या टीचर की तरह नहीं, बल्कि दो मसखरों की तरह खड़े होते हैं। हम लोगों से बातें करते हैं, उन्हें प्रोत्साहित करते हैं और उन्हें आइना दिखाते हैं।'
अब समझ आया
आइना देखने के लिए 17 लोग देश के अलग- अलग कोनों से आए हैं। हैम्बर्ग, बर्लिन और बॉन जैसे शहरों से आए लोगों में कोई डॉक्टर है, कोई मैनेजर तो कोई टीचर। जर्मन इंस्टीट्यूट फॉर ह्यूमर इस विचारधारा को बदल देना चाहता है कि जर्मन हंसना नहीं जानते। जर्मन कंपनियों को यह समझ में आ गया है कि यदि काम के समय माहौल अच्छा हो और लोग आपस में हंस खेल लें तो इससे काम बेहतर तरीके से हो सकता है। लोग तनाव से भी आसानी से निपट पाते हैं।
रोजविथा राम डेफरींट यहां ट्रेनिंग के लिए आई हैं। वह बताती हैं, 'मैं बहुत हंसमुख इंसान हूं। मेरी पहली शादी इंग्लैंड में हुई। वहां के लोग बेहद हाजिरजवाब होते हैं, वे शब्दों के साथ खेलते हैं। मुझे यह देख कर बहुत अच्छा लगा और बुरा भी कि जर्मनी में कितने कम लोग हैं जो इस तरह से बात करते हों। अब जर्मन इंस्टीट्यूट फॉर ह्यूमर की मदद से जर्मनी में भी लोग खुल रहे हैं।'
कार्निवल पर तो हंसते हैं
एफा उल्मन ने 2005 में इस इंस्टीट्यूट को बनाया। पिछले छह साल से वह लोगों को हंसना सिखा रही हैं। वह भी रोजविथा की बात से सहमत हैं, 'ऐसा नहीं है कि जर्मन लोगों को हंसना नहीं आता, लेकिन काम करते समय वे नहीं हंसते। यदि आप उन्हें फुर्सत में मिलेंगे, जैसे कि कार्निवल के समय, वहां तो लोग एक दूसरे के साथ मिल कर खूब हंसना पसंद करते हैं। मेरा ख्याल है कि अब लोगों का ध्यान इस तरफ जा रहा है, क्योंकि कई लोग कहते हैं- मैं अपने दफ्तर में भी मस्ती- मजाक करना चाहता हूं, वह भी इस तरह से कि मेरे काम पर बुरा असर ना पड़े।'
60 वर्षीय हौर्सट गोएलडर बॉन की एक कंपनी में टीम लीडर हैं। वह भी यहां हंसना सीखने आए हैं। अपने अनुभव के बारे में वह कहते हैं, 'मुझे यहां बहुत कुछ सीखने को मिला। यहां इस ग्रुप के साथ काम करने में बहुत मजा आया। इस कमरे में मौजूद सभी लोगों के पास इतने अलग- अलग किस्म के आइडिया हैं। इस तरह के माहौल में चीजें मैनेज करने के कई नए ख्याल आपके दिमाग में आते हैं।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष