September 10, 2011

वे हंसना सीख रहें हैं!


खुश और सेहतमंद रहने के लिए किसी विज्ञान की जरूरत नहीं होती, बस हंसना ही काफी होता है। हंसी मजाक को जर्मनी के साथ जोड़ कर कभी नहीं देखा जाता। जर्मन लोगों को बेहद संजीदा और कम बोलने वाला माना जाता है। जर्मन मेहनती होते हैं, मजाकिया नहीं।

क्या हंसना सिखाया भी जा सकता है? जी हां, जर्मन कम्पनियां खास तौर से अपने कर्मचारियों को ऐसी ट्रेनिंग में हिस्सा लेने के लिए भेज रही हैं जहां वे हंसना सीख सकें और काम के समय मजाक कर पाएं।
खुश और सेहतमंद रहने के लिए किसी विज्ञान की जरूरत नहीं होती, बस हंसना ही काफी होता है। हंसी मजाक को जर्मनी के साथ जोड़ कर कभी नहीं देखा जाता। जर्मन लोगों को बेहद संजीदा और कम बोलने वाला माना जाता है। जर्मन मेहनती होते हैं, मजाकिया नहीं। वे अपने काम को लेकर इतने दीवाने होते हैं कि काम के समय केवल काम ही करते हैं।
लेकिन लाइपजिग शहर के एक होटल के कांफें्रस हॉल में जर्मन हंसना सीख रहे हैं। यहां एक ट्रेनिंग चल रही है, जहां लोगों को हंसना सिखाया जा रहा है। ट्रेनर एफा उल्मन कातरिन हांसमायर के साथ मिल कर ट्रेनिंग के लिए आए लोगों के काम का मजाक उड़ाती हैं और उन्हें ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करती हैं। ट्रेनिंग के बारे में एफा बताती हैं, 'हम यहां ट्रेनर या टीचर की तरह नहीं, बल्कि दो मसखरों की तरह खड़े होते हैं। हम लोगों से बातें करते हैं, उन्हें प्रोत्साहित करते हैं और उन्हें आइना दिखाते हैं।'
अब समझ आया
आइना देखने के लिए 17 लोग देश के अलग- अलग कोनों से आए हैं। हैम्बर्ग, बर्लिन और बॉन जैसे शहरों से आए लोगों में कोई डॉक्टर है, कोई मैनेजर तो कोई टीचर। जर्मन इंस्टीट्यूट फॉर ह्यूमर इस विचारधारा को बदल देना चाहता है कि जर्मन हंसना नहीं जानते। जर्मन कंपनियों को यह समझ में आ गया है कि यदि काम के समय माहौल अच्छा हो और लोग आपस में हंस खेल लें तो इससे काम बेहतर तरीके से हो सकता है। लोग तनाव से भी आसानी से निपट पाते हैं।
रोजविथा राम डेफरींट यहां ट्रेनिंग के लिए आई हैं। वह बताती हैं, 'मैं बहुत हंसमुख इंसान हूं। मेरी पहली शादी इंग्लैंड में हुई। वहां के लोग बेहद हाजिरजवाब होते हैं, वे शब्दों के साथ खेलते हैं। मुझे यह देख कर बहुत अच्छा लगा और बुरा भी कि जर्मनी में कितने कम लोग हैं जो इस तरह से बात करते हों। अब जर्मन इंस्टीट्यूट फॉर ह्यूमर की मदद से जर्मनी में भी लोग खुल रहे हैं।'
कार्निवल पर तो हंसते हैं
एफा उल्मन ने 2005 में इस इंस्टीट्यूट को बनाया। पिछले छह साल से वह लोगों को हंसना सिखा रही हैं। वह भी रोजविथा की बात से सहमत हैं, 'ऐसा नहीं है कि जर्मन लोगों को हंसना नहीं आता, लेकिन काम करते समय वे नहीं हंसते। यदि आप उन्हें फुर्सत में मिलेंगे, जैसे कि कार्निवल के समय, वहां तो लोग एक दूसरे के साथ मिल कर खूब हंसना पसंद करते हैं। मेरा ख्याल है कि अब लोगों का ध्यान इस तरफ जा रहा है, क्योंकि कई लोग कहते हैं- मैं अपने दफ्तर में भी मस्ती- मजाक करना चाहता हूं, वह भी इस तरह से कि मेरे काम पर बुरा असर ना पड़े।'
60 वर्षीय हौर्सट गोएलडर बॉन की एक कंपनी में टीम लीडर हैं। वह भी यहां हंसना सीखने आए हैं। अपने अनुभव के बारे में वह कहते हैं, 'मुझे यहां बहुत कुछ सीखने को मिला। यहां इस ग्रुप के साथ काम करने में बहुत मजा आया। इस कमरे में मौजूद सभी लोगों के पास इतने अलग- अलग किस्म के आइडिया हैं। इस तरह के माहौल में चीजें मैनेज करने के कई नए ख्याल आपके दिमाग में आते हैं।

Labels:

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home