December 25, 2010

आपके पत्र/ मेल बॉक्स



सागर सा गहरा
उदंती के माध्यम से पाठकों तक जो जानकारी पंहुचती है वह दुर्लभ है। रोटी खाते ही शेरू बन गया अछूत आज की जातिवादी और सड़ी- गली वर्ण व्यवस्था वाली सोच का तालिबानी और कुरूप चेहरा है। प्रेमवन तो अनुकरणीय है, पर लुटेरा प्रशासन उसमें भी बाधा ही बनता है। नारे दीवारों की शोभा बनकर रह जाते हैं। मुक्तिबोध की कहानी पढऩे का अवसर मिला केवल उदंती के कारण। सभी के लिए कुछ न कुछ सागर -सा गहरा है, इस उदंती के गागर में। अनावश्यक सामग्री है ही नहीं। आपको इतना परिमार्जित अंक निकालने के लिए बधाई।
- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'
rdkamboj@gmail.com
आज के साहित्यकार ?
उदंती का ताजा अंक मिला। साज- सज्जा बहुत आकर्षक है सदैव की तरह। विचार सामग्री भी रोचक और विविधतापूर्ण है। छत्तीसगढ़ के संदर्भ में उभरते सवालों तथा कालजयी रचनाओं को साहित्य के माध्यम से बखूबी संजोकर रख रही हैं। आपके इस प्रयास की जितनी भी प्रशंसा की जाए कम है। वैसे तो आज साहित्यकार खेमे में बंटे हुए हैं, आत्ममुग्धता का भाव ओढ़े हुए सामाजिक चिंतन से विमुख अथवा उधारी की सोच से ग्रस्त दिखते हैं। इस दृष्टि से उदंती का कार्य मार्गदर्शी है, प्रेरणास्पद है।
-ब्रिजेन्द्र श्रीवास्तव, ग्वालियर, मो. 09425360243
brijshrivastava@rediffmail.com
अच्छी पहल
हिंदी सिनेमा के बारे में तो हर जगह पढऩे को मिल जाता है, पर क्षेत्रीय सिनेमा पर मैटर ढूंढऩा मुश्किल हो जाता है। उदंती की अच्छी पहल के लिए बधाई।
- नव्यवेश नवराही, जालंधर, navrahi@gmail.com
प्रशंसनीय कार्य
रॉक गार्डन की तर्ज पर रश्मि सुंदरानी द्वारा दुर्ग में कबाड़ का जो उपयोग किया गया है वह प्रशंसनीय है। उनसे प्रेरणा लेते हुए कबाड़ का यदि इसी तरह शहर के सौन्दर्य वृद्धि में उपयोग कर लिया जाए तो सरकार और शहरवासियों दोनों की समस्याओं का समाधान होगा। इसी तरह दीनानाथ द्वारा की गई पहल भी सराहनीय है। अगर निजी तौर पर व्यक्ति ऐसे उदाहरण पेश करता रहे तो पर्यावरण को बनाए रखने में आसानी होगी।
- पूजा शुक्ला, रायपुर (छ.ग.)
मार्गदर्शी दीपकों की दिव्य ज्योति
उदंती के अक्टूबर अंक में अनकही के लिए बधाई देना चाहता हूं - मूल्यहीनता के इस युग में आप की खोज- मूल्य रक्षा की है। आज हमारे समाज का दुर्भाग्य है कि मीडिया इन महानताओं को महत्व नहीं दे रहा है। ये घटनाएं यदि औरों के लिए उदाहारण बन सके तो अंधेरे के खिलाफ ये रोशनी के दिए आशा जागते हैं ।
- सुरेश यादव, नई दिल्ली
sureshyadav55@gmail.com
जाग्रत समाज के बूते ही इस तरह की सामाजिक समस्याएं दूर हो पाएंगी।
-लोकेन्द्र सिंह राजपूत, ग्वालियर म.प्र.
www.apnapanchoo.blogspot.com
ओय ओय.... गिर गया
उदंती के अक्टूबर अंक में प्रमोद ताम्बट का सटीक व्यंग्य मानो कह रहा है ... ओय ओय ... सुरेश कलमाड़ी गिर गया और अब तो सचमुच गिर गया है, बच नहीं पाया है। सभी रचनाएं बेहतरीन, ताजातरीन, सार्थक अंक।
- अविनाश वाचस्पति, नई दिल्ली मो.09868166586
avinashvachaspati@gmail.com
छत्तीसगढ़ में रेजीमेंट
डॉ. परदेशीराम वर्मा ने छत्तीसगढ़ में रेजीमेंट बनाए जाने को लेकर जो सवाल उठाए हैं उस विषय को गंभीरता से लेते हुए विचार किया जाना चाहिए। छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद ने अब सारी हदें पार कर ली है।
- राजेश साहू, राजनांदगांव (छ.ग.)

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष