November 20, 2009

बहादुर कलारिन एक जीवंत दस्तावेज


- मुन्ना कुमार पांडे

सही मायनों में छत्तीसगढ़ के एक लगभग विस्मृत और बिखरे लोक - आख्यान को एक सूत्र, एक घटनात्मक क्रम में पिरोकर पूर्ण नाटक का पाठ बना देना कम रचनात्मकता की बात नहीं है। 'बहादुर कलारिन' नाटक रचनात्मक लेखन का जीवंत दस्तावेज है।

हबीब तनवीर के नाटक 'आगरा बाजार' के बारे में प्रसिद्ध रंग-समीक्षक नेमीचंद्र जैन ने कहा था- 'वैसे हिन्दी में संवेदनशील नाट्यालेख अभी भले ही कम और नाकाफी हो पर हिंदी रंगमंच का विस्तार पर्याप्त बल्कि हर देश की हर भाषा से ज्यादा व्यापक और विविधतापूर्ण है। उसमें देश-विदेश की अनेक भाषाओं और नाटककारों के श्रेष्ठ नाटक लगातार प्रस्तुत हो रहे हैं और इस प्रक्रिया में हिन्दी के नाट्य प्रर्दशन का कलात्मक स्तर और फैलाव बहुत बढ़ चुका है।' यद्यपि यह उक्ति 'आगरा बाजार' से संबंधित है, परंतु नाटककार के रचनात्मक और कलात्मक विवेक से मुक्त कुछ ऐसे ही आख्यान क्लासिक का दर्जा हासिल कर लेत हैं। 'बहादुर कलारिन' ऐसा ही नाटक है।
सही मायनों में छत्तीसगढ़ के एक लगभग विस्मृत और बिखरे लोक - आख्यान को एक सूत्र, एक घटनात्मक क्रम में पिरोकर पूर्ण नाटक का पाठ बना देना कम रचनात्मकता की बात नहीं है। 'बहादुर कलारिन' नाटक रचनात्मक लेखन का जीवंत दस्तावेज है। एक ऐसा लोक- आख्यान जिसकी कथा काफी मार्मिक थी। यह अपने कथ्य में पश्चिम के दु:खांत नाटकों का स्वरूप लिए हुए था जो कि भारतीय रंगमंच का क्षेत्र नहीं माना जाता है। दूसरे, इस लोक- आख्यान में नाटककार हबीब तनवीर को 'इडिपस कॉम्प्लेक्स' का एक पहलू नजर आने के बावजूद नाट्यालेखन में यह दिक्कत आई कि इस आख्यान को नाटक का रूप क्या और कैसे दें? ऐसा होना स्वाभाविक था। 'दरअसल लोककथा तो केवल मां-बेटे के बारे में थी। प्रेमी, जिसके माध्यम से छछान-छाडू ने जन्म लिया, उसका ना तो कोई खास जिक्र था और ना उसका कोई व्यक्त्वि कथा के अंदर दिखाया
गया था।'
'बहादुर कलारिन' के लोक-अख्यान का नाटकीय रूपांतरण पहली जरूरत थी, परंतु इससे भी पहले इसका नाट्यालेख तैयार करना महत्वपूर्ण था। हबीब साहब ने पटना में 'सफदर हाशमी समारोह' (2002) के व्याख्यान में कहा था- मान लो, फर्ज करो के वो राजा आया और सचमुच उसपर मोहित हुआ और सचमुच उससे वादा किया कि आऊंगा मैं वापिस मगर फिर भी, ऐसा उलझा अपने कामों में कि फिर वापिस नहीं सका।
उन्होंने नाटक में नायक की एंट्री दुबारा कराई। इससे हुआ यह कि 'इडिपस' की कथा का पहलू भी उभरा। इसका कारण था कि इस लोक- अख्यान को हबीब तनवीर महज नाटक के पाठ के तौर पर ही नहीं रखना चाहते थे, उनका रंगकर्म इसकी इजाजत उन्हें देता है, बल्कि इस लोक- आख्यान नाटक को मंच पर प्रस्तुत करने के लिहाज से इसमें कुछ बदलावों की जरूरत थी। साथ ही 'कलारिन' के आख्यान के बरबस हबीब साहब के मस्तिष्क में 'राजा इडिपस' की कथा भी थी, तो इस लोक- आख्यान का नाट्यालेख तैयार करने में रचनात्मक छूट ली। इस प्रयोग से नाटक में रोचकता गई और गतिशीलता भी। परंतु नाट्यालेख फिर भी इस अर्थ में इंडिपस की कथा से भिन्न है कि यहां पिता जानबूझकर पुत्र के हाथों मार दिया
जाता है।
'बहादुर कलारिन' का आख्यान कलमबद्ध होकर एक नाटक का रूप ले चुका था। अब जरूरत इसकी पूर्णाहुति यानी मंच पर प्रदर्शन की थी। बहादुर कलारिन के आख्यान में छछान छाडू की एक सौ छब्बीस शादियों की कथा है। जिसे नाट्यलेख में जस का तस रखा गया था, अब कठिनाई उसको मंच पर प्रदर्शित करने की थी। हबीब तनवीर ने अपने रंग कौशल से इसे एक अनूठे अंदाज में मंचित किया। उन्हीं के शब्दों में- जहां तक एक सौ छब्बीस शादियां दिखाने की समस्या थी। उसे मैंने यूं हल कर लिया कि पहली दो शादियां के सीन के बाद दो- तीन मिनट के गीत में बाकी शादियां निपटा दी। बस एक आखिरी शादी को रोक दिया।
हबीब साहब के इस रंग प्रयोग से मंच पर लोक आख्यान तथा नाटक में वर्णित 126 शादियों की रंगमंची पुष्टि भी सफलतापूर्वक हो जाती है। इस रंग-प्रयोग के बारे मेंं उन्होंने लिखा- 'मंडला की गोंड नाच पार्टी वह गाना गाती है, जिसमें : लड़के : लड़कियां नाचते गाते हैं... सारी लड़कियां नाचती हुई एक एक करके छछान के पास आकर खड़ी होती जाती हैं। पति- पत्नी की आरती उतारी जाती है, बहादुर हर एक बहू के हाथ में एक मूसल थमा देती है। लड़की मूसल लिए दूसरी तरफ से नाच में फिर शामिल हो जाती हैं। इस तरह नाच गाना भी चलता रहता है और एक के बाद एक शादी भी होती रहती है।' हाथ में मूसल देने के रंग प्रयोग से हबीब तनवीर ने लोक आख्यान के उस विश्वास को पुष्ट कर डाला कि सोरर गांव और चिरचारी (बहादुर कलारिन का गांव) की पथरीली जमीन पर अनगिनत गोल- गोल गड्ढ़े हैं जिनके बारे में विख्यात है कि ये ओखलियां थी। बहादुर अपनी बहुओं के हाथ में मूसल दे देती और कहती थी- जाओ धान कूटो।
रंगमंच एक ऐसा माध्यम है जिससे जनमानस का सीधा संपर्क होता है यह अपने समाज को प्रतिबिंबित करते हुए उसकी चिंतन धारा को भी प्रभावित करता है। यह समाज अपने अंचल की लोककथा, लोककला को जब मंच पर सजीव होते देखता है तो वह अभिभूत हो जाता है। हबीब तनवीर को बहादुर कलारिन के कथ्य को मंच पर प्रदर्शित करते समय थोड़ा संशय था कि क्या भारतीय समाज इस तरह के कथानक को स्वीकार करेगा। उन्होंने लिखा भी है - 'मुझे तो यह भी डर था कि राजनीतिक दलों की बात दूर रही, शायद गांव वाले इस नाटक को मंच पर स्वीकार करें लेकिन कोरबा के खुले मंच पर जब यह नायक खेला गया, जहां कारखानों में काम करने वाले और मध्यम कई के दफ्तरों में काम करने वालों के अलावा हजारों की संख्या में देहातों के लोग भी जमा थे तो यह देखकर मैं हैरान रह गया कि शुरू से आखिर तक ट्रेजेडी सन्नााटे में देखी गई।Ó
ऐसा होना सहज था। बहादुर दुलारिन का लोक आख्यान उन लोगों के सामने पहली बार मूर्त रूप में सामने आया था। इससे पहले वे लोग इस आख्यान को सुनते रहे थे, लेकिन जब सामने घटित आख्यान उन्हें दिखा तो कथानक की गंभीरता और त्रासदी का पहली बार अनुभव हुआ। इसकी एक वजह यह भी थी कि इस नाटक के क्रिया व्यापार में प्रेक्षकों को अनुभव की तीव्रता और गहराई दिखाई दी।
वैसे भी रंगमंच की अपेक्षा का वास्तविक अर्थ नाटक के मंच पर अभिनेताओं के माध्यम से दृश्य रूप में मूर्त हो सकने की क्षमता और दर्शकों को बांध लेने की सामथ्र्य से जुड़ा है। इस दृष्टि से निर्देशक हबीब तनवीर की रचनात्मकता ने इस नाटक को पूर्णता दी है। दरअसल अपनी संस्कृति, परम्पराओं और लोक जीवन के रंग इस नाटक के माध्यम से व्यक्त हुए। यही वजह है कि हबीब साहब के रंगप्रयोगों से यह लोक आख्यानक नाटक अधिक स्पष्ट हो सका।
नाट्य कला मनुष्य की कलात्मक अभिव्यक्ति का एक रूप है। इसी कलात्मक अभिव्यक्ति का श्रेष्ठतम रूप हमें इस लोक आख्यान 'बहादुर कलारिन' के नाटकीय रूप में दिखता है।
नाटककार रंगधुनी हबीब तनवीर ने अपने कुशल रंग-निर्देशन से छत्तीसगढ़ के इस लोग आख्यान को वैश्विक परिदृश्य पर लाकर रख दिया। यह उनकी रचनात्मक कुशलता ही थी अन्यथा यह बहुत संभव था कि यदि कलारिन के इस लोक आख्यान को उसके मूल रूप में ही प्रदर्शित किया जाता तो एक दोयम दर्जे का नाटक होता। यह परिवर्तन, प्रयोग सही भी थी क्योंकि नाटककार यदि अपने समय के समाज के परिवर्तनों और मूल्यों की पहचान नहीं रखेगा तो वह उम्दा नाटक नहीं लिख सकता।

4 Comments:

तरुण गुप्ता said...

lage raho munnabhai

a-vella-label-Ø said...

हबीब साहब को एक भावभीनी विदाई कहा जा सकता है श्री मुन्ना पाण्डेय जी के लेख को. हालाँकि रंगमंच, हिंदी साहित्य, और लेखन से मेरा कोई गहरा जुडाव नहीं है और ना ही इन सबका कोई अनुभव है लेकिन हबीब साहब जैसे रंगधुनी से वाकिफ होना और प्रभावित होना कोई अचरज की बात नहीं. बहादुर कलारिन नाटक और रचनात्मकता का मेल बहुत सरीखे से दर्शाया गया है इस लेख में. इस लेख को पढ़ कर मुझे अपने भीतर एक नयी उर्जा, नयी सोच और नयी दिशा का अहसास हुआ इसके लिए मैं श्री मुन्नाजी और उदंती.कॉम का आभारी हूँ.

Rupesh kumar said...

ÕãUéÌ ¥‘ÀUð
M¤Âðàæ

Durgesh Chakradhari said...

मुन्ना कुमार पाण्डे जी को मेरा प्रणाम मैं संगीत कला संथा में अध्ययन रत विद्यार्थी हूँ और इस संस्था के थिएटर विभाग में बहादुर कलारिन नाटक का मंचन हुआ जिसे देखने का सौभाग्य मुझे मिला । नाटक देखने पर मन में बहुत से सवाल उठे और उनके जवाब तलाशते हुए आपके इस पोस्ट तक पंहुचा आपके इस सुन्दर लेख को पढ़ने पर मन में पूर्णता का एहसास हुआ ।

सादर धन्यवाद

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष