October 22, 2009

घोंसले में रहने वाला मेंढक

यह तो सभी जानते हैं पंक्षी घोंसला बनाते हैं, लेकिन क्या आपने घोंसला बनाने वाले मेढ़क के बारे में सुना है। भारत के एक वैज्ञानिक ने मेंढकों की तीन ऐसी दुर्लभ प्रजातियां ढूंढने का दावा किया है जो अपने अंडे देने के लिए घोंसले बनाते हैं।
मेंढक की ये प्रजातियां केरल और कर्नाटक की पश्चिमी पहाड़ी श्रंखलाओं के जंगलों में पाई जाती है जहां ख़ूब बारिश होती है।  दिल्ली विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ इनवॉयरोंमेंटल स्ट्डीज के वरिष्ठ वैज्ञानिक एसडी बीजू ने बताया कि पूरी दुनिया से इस तरह की यह पहली रिपोर्ट है और एशिया में इस तरह के मेंढक की यह एकमात्र प्रजाति है, जो कीटों और गर्मी से बचने के लिए घोंसला बनाता है। चमकीला हरा या हल्की लालिमा लिए हुए हरे रंग वाले विलुप्तप्राय प्रजाति के इस मेंढक को एक सदी के बाद फिर से खोज निकाला गया है जो एशिया भर में सिर्फ यहीं पाए जाते हैं
 इनका घोंसला 53 से 80 मिमी लंबा और 28-64 मिमी चौड़ा होता है, जिसमें एक साथ 43 से 72 अंडे समा सकते हंै। इस घोंसले को बनाने में मादा मेढ़क 15 मिनट से आधे घंटे का वक्त लेती है।
वैज्ञानिक को दुर्लभ प्रजाति के इन मेंढकों का पता 20 वर्ष के शोध के बाद चला है। वर्ष 2000 से 2005 के बीच केरल में वयनाड जिले के कलपेट्टा में किए गये इस अध्ययन की रिपोर्ट करेंट साइंस के नए अंक में प्रकाशित हुआ है।
क्या आपने खेले हैं ऐसे अनोखे खेल

जिंदगी में आनंद और उत्साह भरने की कला कोई फिनलैंड वासियों से सीखे। फिनलैंड वासियों ने अपने मनोरंजन के लिए अनेक ऐसे खेल ईजाद किए है जिनके बारे में सुनकर अन्य लोग सोच में पड़ जाते हैं, जैसे मोबाइल फोन थ्रोइंग गेम। पिछले दिनों फिनलैंड में मोबाइल फोन थ्रोइंग वल्र्ड चैम्पियनशिप आयोजित की गई। फिनलैंड में आयोजित की जाने वाली अन्य खेल प्रतियोगिताओं में वाइफ कैरीइंग रेस, बूट थ्रोइंग, सौना एन्ड्योरेस जैसे अनेक खेल शामिल है। खास बात यह है कि फिनलैंड वासियों के लिए ये प्रतियोगिताएं मजाक नहीं है, बल्कि इन खेल आयोजनों को लोग बड़ी गंभीरता से लेते है।
मोबाइल फोन थ्रोइंग प्रतियोगिता की शुरूआत वर्ष 2000 में फिनलैंड में अंतरराष्ट्रीय खेल के रूप में हुई। इसके बाद से हर साल इसके आयोजन का सिलसिला बरकरार है। इस खेल में यह देखा जाता है कि आपने कितनी दूरी से मोबाइल फोन फेंका है या उसे फेंकने की आपकी शैली कैसी है। इस खेल में हर प्रकार के मोबाइल फोन इस्तेमाल किए जा सकते है, बस शर्त यह है कि उनका वजन 220 ग्राम या उससे अधिक होना चाहिए।

वाइफ कैरीइंग चैम्पियनशिप  प्रतियोगिता में पुरूषों को अपनी पार्टनर को कंधे पर लादकर दौड़ लगानी होती है। इस रेस में पानी इत्यादि जैसी कुछ बाधाएं भी होती हैं, जिन्हें सफलतापूर्वक पार करना किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं होता।
 बूट थ्रोइंग वल्र्ड चैम्पियनशिप के दो बार आयोजक रहे हैरी किनूनन कहते है कि इस खेल की शुरूआत की कहानी तो ज्ञात नहीं है, पर मैं समझता हूं कि शराब के नशे में चूर कुछ लोगों ने अपने जूते उतार कर फेंके होंगे और जब उन्हें इसमें आनंद मिलने लगा, तो यह एक खेल बन गया। वर्ष 1992 में
फिनलैंड में प्रथम बूट थ्रोइंग वल्र्ड र्चैम्पियनशिप आयोजित की गई थी। धीरे-धीरे यह खेल ब्रिटेन और न्यूजीलैंड जैसे देशों में भी लोकप्रिय हो गया। इस खेल के नियम-कायदे सुनिश्चित करने का कार्य इंटरनेशनल बूट थ्रोइंग एसोसिएशन पर है। बूट थ्रोइंग गेम के लिए इटैलियन मैन्यूफैक्चरर द्वारा खास तौर पर जूते डिजाइन किए जाते है। इस खेल के दौरान इस संबंध में भी कड़ी नजर रखी जाती है कि खिलाडिय़ों ने निषेध वस्तुओं का सेवन तो नहीं किया। फिनलैंड में यह खेल काफी लोकप्रिय है।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष