July 18, 2009

अनकही

बिन पानी सब सून
पिछले महीने 15 दिन तक उत्तराखंड की सुंदर वादियों के बीच रहने का मौका मिला। छत्तीसगढ़ की भयानक गर्मी से राहत तो मिली परंतु इस प्रदेश की नदियों पर बन रहे छोटे-बड़े बांधों के कारण यहां की नदियों के अस्तित्व पर संकट के घने बादलों का साया भी नजर आया। यह तो अकाट्य सत्य है कि पूरा देश पिछले कई बरसो से पानी की समस्या से दो- चार हो रहा है। ऐसे में उत्तराखंड की खूबसूरती के बीच मैं वहां की बर्फीली हवाओं से गुजरकर आ रही खतरे की घंटी को साफ-साफ सुन पा रही थी। जल विद्युत परियोजनाओं के कारण हो रहे नुकसान की स्पष्ट तस्वीर मेरे सामने थी क्योंकि गंगोत्री के हरे भरे और घने पेड़ों से अच्छादित पहाड़ों के जिन मार्गों से मैं पांच साल पहले गुजरी थी आज वहां कदम-कदम पर भारी विस्फोटों के कारण मानवकृत भूस्खलन, भू-धंसाव व भूकंप जैसे खतरे जहां-तहां नजर आ रहे थे।

यह भी जग जाहिर है कि उत्तराखंड की नदियां भारत की प्राणरेखा हैं, जो अनगिनत लोगों को जीवन देती हैं, लेकिन अब शायद हम ऐसा नहीं कह पाएंगे क्योंकि यहां की नदियां सूखने की कगार पर पहुंच गयी हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि गंगोत्री मार्ग पर जल विद्युत परियोजनाओं के निर्माण के बाद उत्तरकाशी में गंगा कहीं-कहीं पर ही नजर आयेगी क्योंकि अधिकतर स्थानों पर गंगा विद्युत परियोजनाओं के कारण सुरंगों के अंदर से प्रवाहित होगी। मैं उन सुरंगों के किनारे से गुजरी हूं जिन्हें देखकर सोच रही थी कि ये मानव निर्मित सुरंगे जो प्रकृति से छेड़छेाड़ कर बनाई जा रहीं हैं, हमारा किस तरह भला कर पाएंगी। गंगा में अधिकांश भारतीयों की आस्था है और यह हमारी राष्ट्रीय नदी भी है, परंतु विकास के इस मॉडल से पहाड़ की नदीघाटी सभ्यता समाप्त हो जाएगी।

 इसी तरह यमुना नदी पर भी कई बांध बनाने की योजना है इन बांधों के कारण यमुना के भी दर्शन लोगों को नहीं होंगे, क्योंकि यमुना की जलधारा भी इन बांधों के लिए बनने वाली सुरंगों में कैद हो जाएगी। उत्तराखंड के नगर चाहे नदी तट पर बसे हों, या पर्वतों के ऊंचे ढलानों पर, सभी इन नदियों के जल पर जीवित हैं। वैज्ञानिक अध्ययनों के अनुसार इन नदियों के संरक्षण व संवर्धन के लिए समय रहते ठोस उपाय नहीं किए गए तो नदियों का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा।

यह तो सबको पता है कि पानी की समस्या साल भर रहती है। लेकिन गर्मी के मौसम में यह अधिक उभर कर सामने आती है। प्राकृतिक संसाधनों के भरपूर दोहन के भयंकर परिणाम हम इन दिनों देश के हर बड़े छोटे महानगरों में देख ही रहे हैं। अधिकांश महानगरों में पानी को लेकर आए दिन प्रदर्शन और आंदोलन हो रहे हैं। देश भर की नदियों का पानी पिछले कुछ सालों में इतना अधिक प्रदूषित हो गया है कि वह मनुष्य के लिए जहर जैसा बन
गया है।  गंगा यमुना के प्रदूषित होते जल की बात को हमारी सरकार भी स्वीकार करती है। लेकिन यह भी सत्य है सरकारों के दृष्टिकोण के कारण विकसित हुई उपभोक्तावादी जीवन शैली ने जल का उपयोग व अधिकार भाव तो बढ़ाया है, लेकिन उसके लिए कत्र्तव्य निभाने की कोई जिम्मेदारी उन्हें महसूस नहीं होती। और यह जिम्मेदारी महसूस भी भला कैसे हो पाएगी क्योंकि उनकी आंखों का पानी ही मर गया है।

  पानी को लेकर देश भर में बरसो- बरस कई विवाद चल रहे हैं, जैसे कर्नाटक और तमिलनाडु में कृष्णा नदी को लेकर, भारत और बंगला देश में गंगाजल को लेकर तो भारत और पाकिस्तान के बीच सिंधु नदी के पानी को लेकर तथा पंजाब की रावी तथा चेनाब को लेकर भी पाकिस्तान को कई प्रकार समस्याएं हैं। आजादी के बाद सबसे पहले सिंधु नदी के पानी को लेकर विवाद आरंभ हुआ था। तथा नेपाल की नदी कोसी को लेकर बिहार में मचाया जाने वाली प्रयलंकारी तांडव हम सबको पता ही है। दरअसल सन् 2002 की बनी जलनीति में सरकार ने प्रकृति प्रदत्त पानी का मालिकाना हक कम्पनियों को दे दिया है- जो पानी के साझे हक को खत्म करके किसी एक व्यक्ति या कंपनी को मालिक बनाती है। यह नई जलनीति ईस्ट इंडिया कंपनी की गुलामी से और अधिक भयानक गुलामी के रास्ते खोलती है।

यहां इन सबकी चर्चा इसलिए करनी पड़ रही है क्योंकि इन सबसे पानी को लेकर होने वाली गंभीर समस्या का आभास होता है। प्रश्न यह उठता है कि जिसके बिना जीवन की कल्पना तक नहीं की जा सकती उस प्रश्न को हमारे देश को चलाने वाले, योजनाकार भला किस तरह अनदेखी करके चल सकते हैं। पानी को लेकर चिंतित कुछ संस्थाएं इस दिशा में लोगों को जागरुक करने की महती भूमिका निभा रही हैं पर भयानक रुप अख्तियार करती जा रही इस समस्या को लेकर हमारी सरकारें गंभीरता पूर्वक विचार क्यों नहीं करतीं। जिस देश में पीने का पानी भी यदि 21 दिन बाद मिलेगा उस देश के भविष्य की कल्पना सहज ही की जा सकती हैं। दिल्ली, चेन्नई, कोलकाता, अहमदाबाद जैसे बड़े औद्योगिक शहरों में कई बरसों से पीने का पानी खरीद कर ही पिया जा रहा है... इसके बाद भी हम अपने आप को अत्याधुनिक होने की बात बड़े गर्व से करते हैं। जिस देश की राजधानी में पीने के पानी के लिए त्राहि- त्राहि मची हो वहां हम ये कैसी आधुनिकता का डंका बजा रहे हैं।

सब बातों का एक ही सार है कि बिन पानी सब सून....
पानी हमारे जीवन में सर्वाधिक महत्व की चीज है। जिसकी यदि अभी से चिंता नहीं की गई तो जैसा कि वैज्ञानिक कह रहे हैं कि अगला युद्ध पानी के लिए होगा, के लिए हम सबको तैयार रहना चाहिए। हम पानी के प्राकृतिक रुप को निर्बंध छोड़ देते है, जबकि इसके संरक्षण के लिए बड़े पैमाने पर योजना चलाने की आवश्यकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि एक घर के ऊपर जितना पानी गिरता है वह उस परिवार की वार्षिक जरूरत से पांच गुना तक अधिक होता है। छत के पानी को बटोर कर आसानी से साल भर के पेयजल की व्यवस्था हो सकती है।

 हमारी सरकार को चाहिए कि वे अत्याधुनिक तकनीक के जरिए जल संग्रहण और उसके उचित उपयोग को अपने योजनाओं में उच्चतम प्राथमिकता दें।
               
 - रत्ना वर्मा

2 Comments:

Devi Nangrani said...

Sampadakeeeey Manadal ko meri tammam shubhkamnayein jo ek star par racchit rachna aur in lekhakon se robaroo hone ka mauka diya

wishes
Devi Nangrani

श्याम कोरी 'उदय' said...

... यह सच है कि पानी मनुष्य जीवन का महत्वपूर्ण पदार्थ है पानी के बिना जीवन की कल्पना करना व्यर्थ है लेकिन क्या कहें कहीं पानी की अधिकता तो कहीं पानी की कमी समस्या बनी रहती है दोनो ही स्थिति मे जनजीवन प्रभावित होता है !!

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष