February 25, 2009

लघुकथाएँ

  - अख़्तर अली
डर
दंगाइयों से किसी तरह अपनी जान बचा कर वह भाग निकली । भागते-भागते वह एक जंगल में पहुंच गई। जंगल बहुत सुनसान था लेकिन उसे डर नहीं लगा। फिर रात हो गई और अंधेरा छा गया लेकिन उसे अंधेरे से डर नहीं लगा। अंधेरी रात में जंगली जानवरों की आवाजे आने लगी लेकिन उसे डर नहीं लगा। चलते-चलते वह एक बस्ती में पहुँच गई, वहां उसे कुछ आदमी दिखाई दिये जिन्हें देखते ही वह डर से कांपने लगी और वापस जंगल की तरफ भाग गई ।
आंखे
मरीज ने आंख के डॉक्टर से कहा- डॉक्टर साहब इन आंखों से बहुत परेशान हूं इनका कुछ ठीक ईलाज कीजिये ।
डॉक्टर ने आंख चेक कर कहा - दिखाई भी ठीक देता है, आंखे जलती भी नहीं है, पानी भी नहीं बहता, दिखने में भी लाल नहीं है , आखिर आंखों से आपको समस्या क्या है ?
मरीज ने कहा - ये सपने बहुत ज्यादा देखती है।
प्रेम कथा
लडक़ी का नाम - खामोशी।
लडक़े का नाम - चुप ।
गाँव का मुखिया - शोर ।
कहानी का अंत - पारंपरिक ।

Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home