August 18, 2018

मंथन

मानवीय एवं राष्ट्रीय मूल्य
रामेश्वर काम्बोज हिमांशु
आदमी जब जंगलों में रहता थासभ्यता से कोसों दूर तब भी वह अकेला नहीं था। उसके आसपास बहुत सारे लोग होते थे।समूह में रहने के कारण किसी एक आदमी की इच्छा ही प्रमुख नहीं होती थी। सबके  सुख-दुख का ध्यान रखना पड़ता था। सबके दुःख-दर्द में साझीदार होना पड़ता था। कबीलों में रहते-रहते आदमी ने जो कुछ सीखावह आने वाली पीढ़ी को सिखाया। अलाव के इर्द-गिर्द बैठकर एक-दूसरे को समझने की कोशिश हुई होगी। जीवन को बेहतर बनाने के उपाय सोचे होंगे। जीवन को तोड़ने वाली बातों का विरोध किया होगा। जीवन को ठीक-चलाने के कुछ नए नियम बनाए होंगेकुछ पुराने नियम चलते रहे होंगे । नए नियमों से वे बातें निकाली होंगी, जो आदमी को जोड़ने का काम नहीं करती थी। युगों-युगों की बहती नदी आज राष्ट्र और विश्व के कोने को सींच रही है। न जाने कितने विचार पत्थरों की तरह कुछ दूर लुढ़ककर धारा के बीच में ही बैठ गए। कुछ विचार ऐसे हैं, जो युगों-युगों से छनकर यहाँ तक आ पहुँचे। ये विचार युगों पहले जितने जरूरी थेआज भी उतने ही जरूरी है । इन्हीं जीवन मूल्यों को मानवीय मूल्य कहते हैंइनके बिना न तो जीवन चल सकता है और न मानवीयता ही बच सकती है।
किसी की आँखों से बहते आँसुओं को पोंछने वाली हथेलियाँ नहीं बदली हैं। निराश व्यक्ति को धीरज देने वाली आवाजें नहीं बदलीं। ठोकर खाकर गिरने वाले को सँभालने वाले हाथ हर जगह मौजूद हैं। भूखे को अपने हिस्से का कौर खिलाकर संतुष्ट होने वालों की कमी नहीं। दूसरों की खुशियों में झूम-झूमकर आज भी लोग गाते-नाचते हैं। ये सारे गुण सदियों से छन-छनकर आज तक क्यों चले आ रहे हैंइसलिए चले आ रहे हैं ; क्योंकि इनके बिना हमारा काम नहीं चल सकताहमारे गाँवशहर और देश का काम नहीं चल सकता। सीधे ढंग से कहें ,तो इस धरती के किसी भी मानव का काम नहीं चल सकता।
प्रेमदयाकरुणापरोपकारशांतिविश्वाससहयोग आदि ऐसे मूल्य हैं,जिनकी जरूरी लाखों साल पहले भी थीआज भी है और जब तक इंसान इस धरती पर रहेगातब तक इनकी आवश्यकता बनी रहेगी। धर्म और मत-मतान्तर  आते-जाते रहेंगे । आदमी का रहने का ढंग बदलता रहेगाजीवन के तौर-तरीके बदलते रहेंगे। अगर कुछ नहीं बदलेगा ,तो आदमी का वह हृदय ,दूसरों की पीड़ा से पसीज जाता हैवे आँखें जो दूसरों की दुर्दशा में भीग जाती हैं।
हम भारतीयों ने पूरी धरती को ही अपना कुटुम्ब मान लिया था। आज इस सच को स्वीकार करना समूची दुनिया की मजबूरी है । कोई भी ऐसा देश नहीं ,जिसका दूसरे देशों के बिना काम चल जाए। किसी एक देश पर बाढ़अकाल, भूकम्प का संकट हो ,तो दूसरे देश सहायता के लिए दौड़ पड़ते हैं। ऐसा क्यों होता हैमानवीय मूल्यों को बचाने के लिए यह दौड़ लगानी पड़ती है।जिस दिन यह दौड़ बंद हो जाएगी,उस दिन मानवता की  साँस रुक जाएगी।
कुछ ऐसे भी मूल्य होते हैं जिनकी आवश्यकता किसी विशेष स्थान या समय पर ही पड़ती है। स्थान और समय बदल जाने पर आवश्यकता भी बदल जाती है। पुराने ज़माने में सज़ा की जो स्थिति होती थीवह आज के नागरिक की नहीं है। किसी बात को आँख मूँदकर स्वीकार कर लेना आज संभव नहीं। समाज में आए परिवर्तनों के कारण पुरानी रूढ़ियाँ और विश्वास छूटे हैं। ये मूल्य ऐसे हैं ,जो समय की कसौटी पर खरे नहीं उतरे हैं। भाईचारा ऐसा मानवीय मूल्य है ,जो सारी कसौटियों को पार करके आज भी अपनी चमक बनाए हुए है।
जब-जब समाज ने मानवीय मूल्यों को ठुकराया हैतब-तब राष्ट्रीय मूल्यों पर चोट हुई है। आजादी के बाद राष्ट्रीय मूल्यों में तेजी से गिरावट आई है।राष्ट्रीय सम्पत्ति की तोड़फोड़दूसरों के धर्म और सम्प्रदाय को घृणा की दृष्टि से देखनाअपने हितों को देश के हित से बड़ा मानकर हड़तालें करनाक्षेत्रजाति-विरादरी के तुच्छ हितों के लिए जनता को गुमराह करनाये सब ऐसी बातें हैं, जिनसे हमारा राष्ट्र कमज़ोर होता है। अलगाव की भावना भड़कती है। छोटे-छोटे स्वार्थों पर लड़-झगड़कर राष्ट्र को मजबूत नहीं बना सकते।
एकता की स्थापना जिस तरह भी संभव होकी जाए। जिन विचारों एवं कार्यों से राष्ट्र की एकताआपसी भाईचारा धार्मिक सद्भावनाएँ नष्ट होती होंउनका त्याग किया जाए। हम क्षेत्र विशेष की भावना से ऊपर उठकर सोचें। राष्ट्र की सभी भाषाओं का सम्मान करेंसभी प्रांतों की परम्पराओं को समझें। जहाँ आपसी समझ की कमी होगी , वहीं भेदभाव उत्पन्न होगा।
धर्मनिरपेक्षता के बिना समूचे राष्ट्र को एकता के धागे में नहीं बाँधा जा सकता। छोटे-बड़े की भावनाऊँच-नीच का भेदभाव,भाषाओं के झगड़ेअपने प्रांत को राष्ट्र से भी ऊपर मान लेने की गलतफहमी राष्ट्र के लिए सबसे बड़ी बाधाएँ हैं। इन्हें दूर किए बिना राष्ट्रीय मूल्यों की रक्षा नहीं हो सकती। राष्ट्रमानवीय मूल्यों की शक्ति है। राष्ट्र के कमजोर होने पर मानवीय मूल्य कैसे पनप सकते हैं?
हमें जाति-पाँतिछुआछूतक्षेत्रीयता एवं व्यक्तिगत स्वार्थों की दीवारें गिरानी पड़ेगी। इन्हें गिराए बिना लोकतंत्र मजबूत नहीं हो सकता। राष्ट्रसभी धर्मों एवं हितों से ऊपर हैजब यह समझकर हम आचरण करेंगे, तब कोई भी शक्ति हमें कमजोर नहीं कर सकेगी। तभी मानवीय मूल्यों की नींव पर हमारे राष्ट्रीय मूल्य सिर ऊँचा करके खड़े हो सकेंगे।
सम्पर्कः सी-1702, जेएम अरोमा, सेक्टर-75, नोएडा- 201301 (उत्तरप्रदेश)
E-mail- chandanman2011@gmail.com

1 Comment:

Dr. Sushma Gupta said...

बहुत उपयोगी आलेख

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष