September 18, 2016

अनकही


डायरी बोलती है...

  डॉ. रत्ना वर्मा
   
80 के दशक में जब मैंने पत्रकारिता के क्षेत्र में प्रवेश किया था और दैनिक नवभारत में प्रशिक्षु पत्रकार के रूप में अपनी नयी पारी की शुरूआत की तो सपने तो बहुत थे पर भविष्य की कोई स्पष्ट रूपरेखा  मन में नहीं थी। उस समय मेरे लिए इतना ही बहुत था कि मैं स्वावलम्बी बन गई हूँ। समय आगे सरकता गया और पता ही नहीं चला कि अखबारों में काम करते करते जिंदगी के इतने साल कब बीत गए। एक दौर ऐसा आया जब मुझे विभिन्न समाचार-पत्रों में नौकरी करते- करते उब सी होने लगी, तब मुझे लगा कि अब स्वयं की ही पत्रिका निकालनी चाहिए, पर साहस नहीं कर पा रही थी, मन में एक भय था कि अकेले क्या यह मैं कर पाऊँगी। 2001 में एक पत्रिका का शीर्षक दिल्ली से अनुमोदित होकर आ भी गया था , पर तब उसे निकाल नहीं पाई थी।  पर परिवार में सभी का सहयोग और प्रोत्साहन मिला तो हिम्मत आ गई।
और अंतत: जब 2008 में जब मैं उदंती.com की तैयारी कर रही थी तब लगा था काश मेरे बाबूजी मेरे साथ होते। हृदयघात से 1987 में वे हम सबको छोड़कर चले गए। वे होते तो शायद मैं बहुत पहले ही अपनी पत्रिका निकाल चुकी होती। अकेले साहस बटोरते- बटोरते कई साल बीत गए, हाँ इतना जरूर है कि उनके आशीर्वाद से उदंती के प्रकाशन को भी आठ साल बीत गए। इन आठ वर्षों में मैंने अपने बाबूजी को हर पल याद किया। उनकी सिखाई, बताई बातें और उनके दिए संस्कारों को लेकर हमने सभी बाधाओं को पार किया और आगे बढ़ते ही चले गए।
 मुझे याद है, जब मैंने पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखा , तब मैं घर में सबसे बड़ी थी। मुझसे बड़ी बहन की शादी हो चुकी थी। छोटे भाई बहन तब स्कूल कॉलेज में पढ़ाई कर रहे थे।  माँ- बाबूजी के साथ मेरा ज्यादा समय बीतता था। तब बाबूजी मेरी प्रत्येक सप्ताह प्रकाशित होने वाली फीचर रिपोर्ट और अन्य लेखों  को बड़े ध्यान से पढ़ते और मुझे प्रोत्साहित करते, साथ ही सलाह भी देते। कई फीचर्स की तैयारी में तो उन्होंने मेरी भरपूर सहायता भी की। इसी तरह स्कूल और कॉलेज के समय में अच्छी पत्र- पत्रिकाएँ घर लाकर पढऩे- लिखने का जो चस्का उन्होंने लगाया था, वह सब आगे जाकर मेरे बहुत काम आया।  बाबूजी ने अपनी इच्छाओं को हम बच्चों पर कभी नहीं थोपा। हमें पढऩे लिखने का उचित माहौल दिया और आगे बढऩे के लिए हमेशा उत्साहित किया।
जब से होश सम्भाला है अपने बाबूजी को मैंने खादी के कपड़ों में ही देखा है। खादी का कुर्ता पाजामा हो या धोती कुर्ता, ठंड के मौसम में जैकेट या कोट, वे सब खादी की ही पहनते थे।  उनकी वह उज्ज्वल छवि आँखों में बसी हुई है। यह सब लिखते हुए मैं उन्हें महसूस कर पा रही हूँ। एक बार उन्होंने मुझसे अपने गाँव पलारी को केन्द्र में रख कर रिपोर्ताज तैयार करवाया था। मैं तभी से जान गई थी कि वे बहुत अच्छा लिख सकते हैं। राजनीति में रहते हुए उन्हें विभिन्न विषयों पर बोलते हुए तो बहुत सुना था, वकील थे तो प्रत्येक विषय पर उनकी पकड़ थी ; लेकिन उनकी लेखनी से परिचय उनके जाने के बाद हुआ ।माँ ने उनकी अलमारी से उनकी लिखी डायरी के बारे में बताया। ये डायरी उन्होंने 1975- 76 में आपातकाल के दौरान जेल में रहते हुए लिखीं थीं।
26 जून 1975 से इंदिरा गांधी ने जब पूरे देश में आपातकाल लगाया था तब कांग्रेस विरोधी राजनैतिक दलों के प्रमुख कार्यकर्ताओं को देश भर के विभिन्न जेलों में बंद कर दिया गया। मेरे बाबूजी भी उन्हीं में से एक थे। आपातकाल में 22 महीने जेल यात्रा के दौरान, जेल की एकाकीपन को खत्म करने के लिए उन्होंने डायरी लिखना आरंभ किया था ;   जिसमें उन्होंने अपने बचपन से लेकर शिक्षा, वकालत, परिवार, गाँव- घर और वहाँ के लोग तथा राजनीतिक जीवन की घटनाओं को सिलसिलेवार ऐसे लिखा है मानों बचपन से लेकर अब तक के लम्हों को वे फिर से जी रहे हों।  जाहिर है इस डायरी में राजनीति की बातें सबसे ज्यादा हैंआखिर उनके जीवन का सबसे अधिक समय राजनीति में ही तो बीता है। उनके अपने पारिवारिक और व्यक्तिगत जीवन में जो भी उतार- चढ़ाव आए ,उसे उन्होंने जैसा महसूस किया , वैसे का वैसा अपनी सीधी- सरल और खड़ी भाषा में डायरी के पन्नों पर उतार दिया है। सही मायनों में यह जेल डायरी एक प्रकार से उनका जीवन- वृत्तान्त है।
बरसों तक उनकी लिखी ये डायरियाँ माँ के पास सुरक्षित रखी रहीं। अपने जीवन काल में बाबूजी ने भी कभी इनकी ओर पलट कर नहीं देखा और न कभी हम बच्चों से इसकी चर्चा की। उनके चले जाने के कई बरस बाद , जब माँ ने इन्हें निकाला और हम सब धीरे- धीरे एक एक डायरी पढ़ने लगे तो भौचक रह गई कि 22 महीनों में उन्होंने अपने जीवन के हर पहलू को याद करते हुए बस लिखा ही लिखा है। आपातकाल की 30 वीं बरसी 2008 में सांध्य दैनिक छत्तीसगढ़ के संपादक सुनील कुमार जी से इस डायरी के संदर्भ में मेरी बात हुई तब उन्होंने अपनी साप्ताहिक पत्रिका इतवारी अखबार में आपातकाल की कहानी बृजलाल वर्मा की जुबानी शीर्षक से किश्तवार प्रकाशित करने की अनुमति दी। (उन दिनों मैं उक्त पत्रिका में सहायक संपादक के रुप में कार्य कर रही थी)
यह मेरा सौभाग्य है कि मुझे उनकी इस डायरी को पढऩे और इसे संपादित करने का अवसर मिला है। मुझे अपने पर गर्व है कि मैं उनकी बेटी हूँ। उदंती के नौवें वर्ष में प्रवेश करने के अवसर पर, इस अंक को मैं अपने बाबूजी पर केन्द्रित कर रही हूँ। उनकी डायरी के कुछ अंश आप सबसे साझा करते हुए मैं अपनी आदरांजलि प्रगट कर रही हूँ। विश्वास है आप सबको यह अंक पसंद आयेगा।                                                                                                                 

3 Comments:

Dr Purnima Rai said...

भावभीनी श्रद्धांजलि!!
आपकी लिखी बातें पढ़ते-पढ़ते मुझे अपने पिता जी की याद आ गई।नमन आपको एवं आपके पिता जी को...सादर

Asha Pandey said...

बहुत सुन्दर.डायरी विचारों का पुलिन्दा होती है.एक नहीं ,कई कई रचना को अपने में समेटे हुये.

Unknown said...

Babuji ki yaad aate hi lagta hai mai ab bhi bachhi hu aur unki chatrachhaya me hu.kaaash...

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष