May 25, 2010

चोपता की वह चांदनी रात... ...

- मुन्ना के. पाण्डेय

इस तीखे मोड़ से मुड़ते ही चोपता अपनी सारी खूबसूरती आपके आंखों में भर देता है, और आप फटी- फटी आंखों और खुले मुंह से इस दृश्य और वहां पसरी अलौकिक शान्ति को बस देखते ही रह जाते हैं।
गढ़वाल वैसे तो अनेकानेक सुंदर-सुंदर जगहों से भरा पड़ा है। पर हम जिस जगह की बात कर रहे हैं वह चोपता है। चोपता गोपेश्वर से 38 किलोमीटर की दूरी पर केदारनाथ वन्य -जीव प्रभाग के मध्य स्थित एक छोटी किंतु बेहद ही खूबसूरत जगह है। यहां पहुंचने के दो रास्ते हैं- पहला जो अधिक आसान और सीधा है वह गोपेश्वर, मंडल होकर तथा दूसरा उखीमठ होकर। उखीमठ केदारनाथ बाबा की शारदीय पीठ है। चोपता को गढ़वाल का चेरापूंजी कहा जाता है। कारण यहां बदल कभी भी आकर आपके ऊपर हलकी- तेज फुहार छोड़ जाते हैं। जैसे ही आप गोपेश्वर की तरफ से आते हैं और जब माईल स्टोन यहां शो करता है कि चोपता 1 किलोमीटर रह गया है तभी आप अपने पैर अपनी गाड़ी के ब्रेक पर तेजी से लगाने को मजबूर हो जाते हैं। ना.. ना.. बात ज्यादा खतरे की नहीं है। दरअसल, इस तीखे मोड़ से मुड़ते ही चोपता अपनी सारी खूबसूरती आपके आंखों में भर देता है, और आप फटी- फटी आंखों और खुले मुंह से इस दृश्य और वहां पसरी अलौकिक शान्ति को बस देखते ही रह जाते हैं।
सामने दूर-दूर तक फैला विराट दुधिया हिमालय अपनी मौन तपस्या करता जान पड़ता है, आ बस इस दृश्य को पूरा जी लेना चाहते हैं। एक सलाह है, जहां तक सम्भव हो, कैमरे की क्लिक के बजाये दिल के कैमरे में इसे पहले क्लिक करें फिर कहीं और क्योंकि, चोपता मन नहीं भरने देता हां,आपकी छुट्टियां ही कम पड़ जाती हैं। यह जगह अपने दूर- दूर तक फैले हरे- हरे बुग्यालों के लिए मशहूर है (बुग्याल- हरे घास के वो मैदान हैं जो उंचाई पर बर्फीली चोटियों से लगे हुए हैं)।
चोपता से 4 किलोमीटर ऊपर पंचकेदारों में से सबसे उंचाई पर स्थित तुंगनाथ का मन्दिर है। यहां तक जाने के लिए बढिय़ा ट्रेल पी.डबल्यू.डी. के सौजन्य से बनी हुई है।
चोपता आपको आम हिल स्टेशनों से अलग इस कारण भी लगेगा क्योंकि यहां टूरिस्टों के झुंड- चौड़े जत्थे उनका कूड़ा- कचरा, पोलीथिन के ढेर नहीं दिखते और एक बात, यहां आज भी दुकान वाला गैस की बजाय लकड़ी पर ही खाना बना कर देता है, वो भी लोकल सब्जियों के साथ। चूंकि यहां साल भर बेहद ठंडा वातावरण होता है तो आप यहां के होटलों में मडुवे की रोटी और लहसन की चटनी की मांग कीजिये (जो सामान्तया मिल जाती है)।
अब, इस जगह के बारे में कुछ बेहद जरुरी। यह क्षेत्र सघन वन क्षेत्र है अत: रात- विरात दे- भाल कर निकलिए। चोपता में इस जगह से लगभग 500 मीटर की दूरी पर एक ऊंचा टॉवर जंगलात विभाग ने बना रखा है, आप यहां से रात में दुर्लभ और लगभग गुम हो चुके जानवरों की प्रजातियां देख सकते हैं, जैसे कि 'कस्तूरी मृग, हिमालयन रीछ, और बाघ इत्यादि, पर इसके लिए चांदनी रात का होना जरुरी है। क्योंकि 'चोपता' की चांदनी रात बेहद खूबसूरत होती है... जिसे शब्दों में बयान करना मुश्किल है। यहां जब चांदनी हिम, शिखरों पर पड़ती है तब दिमाग की खिड़कियां बंद हो जाती हैं और दिल धड़कना भूल जाता है।
चोपता को एक बेस कैम्प की तरह यूज कीजिये क्योंकि मैं जिस चांदनी की बात कर रहा हूं वह केवल शरद पूर्णिमा के चांद की है। इस समय यहां का सारा इलाका बर्फ की सफेद चादर ओढ़ लेता है और जब बर्फ की इन चादरों पे चांदनी पसरती है... जी चाहता है कि बस सारी कायनात यहीं रुक जाए । वैसे भी इस पूर्णिमा में चांद का दीदार चोपता के ऊपर लगभग 4200 मी. पर स्थित चंद्रशिला से करना अधिक ठीक होता है जो तुंगनाथ मन्दिर से सीधी 1 किलोमीटर की चढ़ाई पर है। एक रात यहां गुजार लेने का दम सभी के बूते के बाहर की ची•ा है। और यह शौक अच्छी तैयारी और साजो- सामान की मांग करता है। इस मौसम में जबकि ऊपर कुछ भी नहीं मिलता खाने और गाईड के बगैर जाना जान- जोखिम में डालना है। यह वह मौसम होता है जब कई ट्रैकर्स गोपेश्वर से लगभग 23 किलोमीटर की ट्रेकिंग करके सीधे तुंगनाथ मन्दिर के सामने पहुंचते हैं। मन्दिर के कपाट शीतकाल के लिए पहले ही बंद कर दिए जाते हैं, और आपके पास इस चांदनी रात में चांद को निहारने का सुख पाने के लिए अपने साथ लाये टेंट या फिर मन्दिर के पीछे बनी एक छतरी के इर्द- गिर्द अपने को पूरी तरह बंद और अपने साथ लाए गर्म भारी कपड़ों पर ही निर्भर रहना पड़ता है। यह पूरी रात एक ऐसी याद दिल में छोड़ जाती है जिसे ना आप भूल पाते हैं ना ये खुद को आपको भूलने देती है।
अगले दिन चांद की पहाड़ी यानी चंद्रशिला से सूर्योदय देखिये। यह रात से कम खूबसूरत किसी भी सूरत में नहीं होती। सूर्य की पहली किरण जब सामने दूर- दूर तक पसरे चौखम्बा, गंगोत्री, केदार डोम, सतोपंथ नंदा घुंटी के शिखरों पर पड़ती है तो लगता है जैसे इन शिखरों ने स्वर्ण मुकुट धारण कर लिया है और सूर्य ने अपनी स्वर्ण- रश्मियों से इनका अभिषेक कर दिया है... पर जल्दी कीजिये यहां बादल शीघ्र घिर आते हैं...
तो फिर सोचना क्या है... हो आइये एक बार चोपता... फिर बताइए कैसी कही आपकी चांदनी रात?
वहां जाने के लिए ऋ षिकेश से एन.एच. 58 के साथ- साथ देवप्रयाग, नन्द प्रयाग, रुद्र प्रयाग, चमोली गोपेश्वर होते हुए मंडल के रास्ते 'चोपता' और क्या...।
संपंर्क- सेक्टर 41, माल अपार्टमेंट (गेट नं.-1) माल रोड (दिल्ली यूनिवर्सिटी के पास) दिल्ली-110 054 , मोबाइल: 09968734648,
Email- kunal23rs@gmail.कॉम, jaaneanjaane.blogspot.com


0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष