May 24, 2010

किताबें

छत्तीसगढ़ के पुरोधा

छत्तीसगढ़ में पत्रकारिता के इतिहास और उसके नवजागरण में उसकी भूमिका को सामने लाने के उद्देश्य से कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय तथा माधवराव सप्रे पत्रकारिता शोधपीठ की संयुक्त परिकल्पना में छत्तीसगढ़ की पत्रकारिता- हमारे पुरोधा खण्ड- 1 का प्रकाशन संभव हो सका है। इसमें नई पीढ़ी को हमारे पुरोधा पत्रकारों के विषय में संक्षिप्त जानकारी के साथ उनके योगदान, उनका जीवनवृत्त एवं उनके कार्य को सम्मिलित किया गया है। प्रथम खंड में पंडित माधवराव सप्रे, पं. रविशंकर शुक्ल, बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल, पदुमलाल पुन्नालाल बक्शी, कुलदीप सहाय, यदुनंदन प्रसाद श्रीवास्तव केशव प्रसाद वर्मा, गंजानंद माधव मुक्तिबोध, पं. स्वराज्य प्रसाद द्विवेदी, चंदूलाल चंद्राकर, मायाराम सुरजन और हरि ठाकुर को शामिल किया गया है।
इस प्रकाशन का उद्देश्य भारतीय पत्रकारिता के संपूर्ण इतिहास में छत्तीसगढ़ के योगदान की मुक्कमल पहचान को रेखांकित करना है ताकि शोधार्थी उनके जीवन और कृतित्व पर शोध के लिए प्रेरित हो सकें। पत्रिका का संपादन माधवराव सप्रे पत्रकारिता शोधपीठ के अध्यक्ष परितोष चक्रवर्ती ने किया है।
स्वागत है मिजबान
किस्से- कहानी कहना और सुनना पुरातन काल से ही भारतीय संस्कृति की समृद्घशाली परम्परा रही है। अभी ज्यादा समय नहीं बीता है कि जब हमारे ग्रामीण अंचलों में सांझ ढलते ही गांव के किसी बुजुर्ग की चौपाल पर बैठकें जम जाया करती थीं और चल पड़ता किस्से और कहानियों का लम्बा दौर जिसमें पता ही नहीं चलता था कि आधी रात कब हो गई। लेकिन अब ये बातें स्मृतियां बनती जा रही हैं। इन स्मृतियों को संजोने का प्रयास एकलव्य संस्था द्वारा किया गया है, मिजबान के रूप में। मिजबान बुन्देलखंडी लोककथाओं का संकलन है जिसमें मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले में प्रचलित बुन्देलखंडी लोककथाओं में से 12 कहानियों को चुना गया है। इन कहानियों में बहुत से स्वाद हैं और सभी पढऩे वाले को आकर्षित करते हैं। इन कहानियों को अतनु राय के चित्रों ने बेहद सजीव बना दिया है।
प्रकाशक- एकलव्य, मूल्य- 30 रुपए।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष