September 23, 2009

किसानों के लिए खुशखबरी

मधुमक्खी से डरते हैं हाथी
अफ्रीकी किसानों ने हाथियों से अपनी जमीन और फसलों को बचाने के लिए क्या-क्या नहीं किया, कभी बाड़ बनाई, तो कभी तेज रोशनी दिखाई और यहां तक कि रबर से बने जूतों के तले तक जलाए लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली। किसान अपनी फसलों को बचाने के लिए अभी तक प्रयासरत हैं। और इस प्रयास से एक सवाल पैदा हुआ है।
और तब कहीं जाकर अब इस सवाल का जवाब खोज निकाला गया है। ऑक्सफोर्ड युनिवर्सिटी में कार्यरत ल्यूसी किंग का कहना है कि मधुमक्खियों की भिनभिनाती आवाज से यह काम हो सकता है। किंग को किसी ने बताया था कि जहां मधुमक्खियों का छत्ता जहां होता है वहां हाथी कभी नहीं जाते हैं। उन्हें किसी ने यह भी बताया था कि एक बहुत बड़े हाथी को मधुमक्खी ने काट लिया था, तो वह पूरी तरह पगला गया था। किंग ने इस विचार को आजमाने पर विचार किया।
उन्होंने केन्या के बफेलो स्प्रिंग तथा सम्बुरो नेशनल रिजर्व में हाथियों के 17 झुण्डों को मधुमक्खी की आवाज की 4 मिनिट की रिकाडिंग सुनाई। इसके लिए किंग ने एक कृत्रिम पेड़ के तने में इस आवाज की रिकार्ड स्पीकर पर बजाई तो 17 में से 16 झुण्ड इस पेड़ से दूर ही रहे। कुछ झुण्ड तो इन आवाजों की जगह से 100मीटर की दूरी पर रुक गए। औसत दूरी 64 मीटर थी।
किंग कहती हैं कि मधुमक्खी की आवाज तो अच्छे से काम कर रही है, लेकिन इसको चलाने के लिए जो साधन लगते हैं वे महंगे हैं। उनका कहना है कि ज्यादा सस्ता तरीका यह होगा कि हाथियों को भगाने के लिए किसान अपने यहां सचमुच के मधुमक्खियों के छत्ते लगाएं। इससे वे हाथियों को तो भगा ही सकते हैं साथ ही शहद बेचकर अपनी आमदनी भी बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा मधुमक्खियां परागण में भी मददगार होंगी। वे इस तरह के प्रयोग कर भी रही हैं। किसानों के लिए यह मीठे फायदे का सौदा रहेगा। यदि यह प्रयोग सफल होता है तब तो भारत में गांवों में उत्पात मचाने वाले हाथियों पर भी आसानी से काबू पाया जा सकेगा।
इसे कहते हैं सादगी
सादगी की मिसाल देते समय इंग्लैंड के तत्कालीन प्रधानमंत्री ग्लैडस्टोन को भी याद किया जाता है। वे प्रधानमंत्री होते हुए भी सादा जीवन जीना पसंद करते थे। एक बार एक समाचार पत्र के संपादक ने उनसे साक्षात्कार के लिए समय मांगा। प्रधानमंत्री ट्रेन से कहीं जा रहे थे उन्होंने संपादक को  स्टेशन पर ही बातचीत के लिए बुला लिया। संपादक स्टेशन पहुंचा और प्रथम श्रेणी के डिब्बे की ओर लपका। पर ग्लैडस्टोन वहां कहीं दिखाई नहीं दिए। तभी प्रथम श्रेणी के उस डिब्बे में बैठे एक युवक ने उनसे पूछा कि क्या आप प्रधानमंत्री की तलाश कर रहे हैं। उसके हां कहने पर युवक ने बताया कि वे तो द्वितीय श्रेणी के डिब्बे में मिलेंगे।
संपादक द्वितीय श्रेणी में पहुंचा और ग्लैडस्टोन को वहां बैठे देख बोला आप देश के प्रधानमंत्री हैं फिर भी द्वितीय श्रेणी से सफर कर रहे हैं। यदि प्रथम श्रेणी में बैठे उस युवक ने आपके यहां बैठे होने की जानकारी नहीं दी होती तो मैं तो लौट ही जाता। यह सुनकर ग्लैडस्टोन बोले- अच्छा, आपको मेरे बेटे ने ही बताया होगा। यह सुनते ही संपादक तो और भी सकते में आ गया-  यह क्या माजरा है प्रधानमंत्री व्दितीय श्रेणी में और उनका बेटा प्रथम श्रेणी में। वह फिर कुछ सवाल करता कि प्रधानमंत्री तुरंत बोले- मित्र, हैरान न हों,  मैं एक किसान का बेटा हूं और वह एक प्रधानमंत्री का बेटा। मुझे द्वितीय श्रेणी की यात्रा सुविधाजनक लगती है और उसे प्रथम श्रेणी की।
क्या आज की दुनिया में ऐसी सादगी कहीं नजर आएगी। ग्लैडस्टोन की इसी सादगी ने ही उन्हें सफलता की ऊंचाइयों पर पहुंचाया था।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष