July 18, 2009

जीत की खुशी और हार का दंश

अक्सर हम जीतने पर खुशी से झूम उठते है और हाथों को हवा में लहराते है और इसके विपरीत हारने पर गर्दन व कंधे को झुका 
लेते हैं।
जब हम किसी प्रतियोगिता में जीतते हैं, तो हाथों को हवा में उठाकर लहराना, मुट्ठी बांधना वगैरह जैसे हाव-भाव का प्रदर्शन करते हैं। दूसरी ओर हार जाने पर आम तौर पर गर्दन व कंधे झुक जाना, कंधे उचकाना आम बात है। और ऐसे हाव-भाव लगभग सार्वभौमिक हैं यानी लगभग सभी संस्कृतियों में विजेता और पराजित एक-सी हरकतें करते हैं। तो क्या ये हाव-भाव नैसर्गिक हैं, जन्मजात हैं? इस सवाल का जवाब पाने के लिए कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया विश्वविद्यालय की जेसिका ट्रेसी और सैन फ्रांसिस्को राज्य विश्वविद्यालय के डेविड मात्सूमोतो ने नेत्रहीन एथलीट्स का अवलोकन किया। शोधकर्ताओं ने इस अवलोकन के लिए अवसर चुना था 2004 में आयोजित पैरालिंपिक (विकलांग खेलकूद स्पर्धा)। इस स्पर्धा में कई नेत्रहीन एथलीट्स ने भी हिस्सा लिया था। मात्सूमोतो और ट्रेसी ने विजयी व पराजित नेत्रहीन एथलीट्स के फोटोग्राफ्स खींच लिए। बाद में इनकी तुलना उन्होंने सामान्य (दृष्टियुक्त) एथलीट्स के इसी तरह के फोटोग्राफ्स से की। तुलना ने दर्शाया कि जन्मांध एथलीट्स जीतने-हारने पर उसी तरह के हाव-भाव प्रदर्शित करते हैं, जैसे सामान्य एथलीट्स करते हैं। जाहिर है जन्मांध एथलीट्स ने ये हाव-भाव देखकर तो नहीं सीखे होंगे। शोधकर्ताओं के अनुसार यह एक प्रमाण है कि विजयी व पराजित हाव-भाव नैसर्गिक हैं। अब अगला सवाल आता है। आखिर इन हाव-भावों का जैव विकास की दृष्टि से क्या महत्व रहा होगा कि ये विकसित हुए। मात्सूमोतो को लगता है कि जीतने के बाद स्पष्ट दिखने वाली चेष्टाएं करना शायद इस दृष्टि से महत्वपूर्ण है कि इससे शेष समाज पर दबदबा बनाने में मदद मिलती है। दूसरी ओर, हारकर शर्मिंदा होना इस बात की स्वीकारोक्ति- सी है कि हां भैया, हार गए, अब बस करो। इससे और टकराव को टालने में मदद मिलती है। कुल मिलाकर इस तरह के व्यवहार के प्रदर्शन से सामाजिक हैसियत स्थापित करने में मदद मिलती है। इसलिए विकास की दृष्टि से महत्वपूर्ण है कि ये व्यवहार सबमें एक समान हों। शोधकर्ताओं का मत है कि शेष प्राइमेट जंतुओं में भी लगभग इसी प्रकार के हाव-भाव देखे गए हैं। बहरहाल, बात इतनी स्प्ष्ट भी नहीं है। मानव जज्बात और हाव-भाव का अध्ययन करने वाले अन्य वैज्ञानिक मानते हैं कि यह कहना कठिन है कि हाथों को हवा में उठाकर या कंधे झुकाकर व्यक्ति क्या अभिव्यक्त करने का प्रयास करता है। जरूरी नहीं कि यह गर्व या शर्म की ही अभिव्यक्ति हो। यह मात्र रोमांच और खुशी का इजहार भी हो सकता है। वैसे स्वयं शोधकर्ताओं के परिणामों में भी काफी विविधता थी। जैसे यू.एस. व कुछ अन्य देशों के दृष्टियुक्त एथलीट्स हारने पर अपने-आप में सिमटने की प्रवृत्ति का प्रदर्शन करते हैं। इसका संबंध इस बात से हो सकता है कि यू.एस. कहीं अधिक व्यक्तिवादी है। मगर इन्हीं देशों के दृष्टिहीन एथलीट्स के हाव- भाव अन्य देशों के एथलीट्स के समान ही रहे। मात्सूमोतो और ट्रेसी का मत है कि इसका कारण यह हो सकता है कि व्यक्तिवादी संस्कृतियों में हारने पर अपनी भावनाएं दबाने का बहुत अधिक दबाव होता है जबकि नेत्रहीन लोग इस दबाव से मुक्त होते हैं। तो जीत या हार पर शारीरिक हाव- भाव का विश्लेषण किसी निष्कर्ष पर पहुंचा नहीं कहा जा सकता। यह कहना तो असंभव है कि ये हाव-भाव किस भावना के द्योतक हैं।  (स्रोत )

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष