June 13, 2009

चींटियाँ

चींटियाँ
एक साल में 400 किलो 
पत्तियाँ काटकर फफूंद को खिलाती हैं
प्रत्येक 'खेतिहर' चींटी किसी विशिष्ट फफूंद की खेती करती हैं। शेष फफूदों को अपने खेतों में आने से रोकने के लिए चींटियां फफूंद-रोधी पदार्थों का उपयोग करती हैं। ये फफूंद-रोधी पदार्थ चींटियां स्वयं नहीं बनाती बल्कि चींटियों के शरीर पर रहने वाले जीवाणु बनाते हैं।
शायद आप न जानते हों कि चींटियां पिछले 5 करोड़ सालों से खेती करती आ रही हैं। वे अपने 'खेतो' में फफूंद उगाती हैं और उन्हें खाती हैं। इन फफूंदों को उगाने के लिए ये चींटियां पत्तियां काट-काटकर लाती हैं और उन्हें क्यारियों में बिछा देती हैं ताकि फफूंद इनका उपयोग अपने भोजन के रूप में कर सकें। लेकिन पत्तियों को पचाना आसान काम नहीं होता।
 वैज्ञानिक मानते थे कि ये फफूंदें जरूर पत्तियों में पाए जाने वाले मुख्य पदार्थ सेल्यूलो$ज को पचा सकती होंगी मगर जब इन फफूंदों को प्रयोगशाला में उगाया जाता, तो ये सेल्यूलो$ज को पचाने में असमर्थ रहती थीं। अब लगता है कि इस रहस्य का खुलासा होने को है। प्रत्येक 'खेतिहर'  चींटी किसी विशिष्ट फफूं द की खेती करती हैं। शेष फफूंदों को अपने खेतों में आने से रोकने के लिए चींटियां फफूंद-रोधी पदार्थों का उपयोग करती हैं। ये फफूंद-रोधी पदार्थ चींटियां स्वयं नहीं बनाती बल्कि चींटियों के शरीर पर रहने वाले जीवाणु बनाते हैं।
यह बात तो केमरॉन क्यूरी ने 10 साल पहले ही पता कर ली थी कि इन 'खेतिहर ' चींटियों के शरीर पर एक्टिनोमायसीट समूह के जीवाणु पाए जाते हैं। अब क्यूरी ने हार्वर्ड मेडिकल स्कूल, बोस्टन के जॉन क्लार्डी और अन्य साथियों के साथ मिलकर ऐसा एक फफूंद-रोधी पदार्थ शुद्घ रूप में प्राप्त करने में सफलता प्राप्त की है। इसे उन्होंने 
डेंटीजेरुमायसीन नाम दिया है और यह कैन्डिडा अल्बीकेन्स नामक खमीर के खिलाफ कारगर साबित हुआ है। इस आधार पर केमरॉन का मत है कि ये चींटियां तो दवाइयों के चलते फिरते कारखाने हैं। मगर सेल्यूलोज की बात तो रह ही गई। और क्यूरी ने इस महत्वपूर्ण मामले पर भी प्रकाश डाला है। क्यूरी का कहना है कि चींटियों की एक बस्ती की चींटियां प्रति वर्ष करीब 400 किलोग्राम पत्तियां काटकर फफूंदों को खिलाती हैं। फफूंद इन पत्तियों को पचाती हैं मगर चींटियों द्वारा पाले गए जीवाणुओं की मदद से ही वे यह काम कर पाती हैं। यानी जहां पहले दो जीवों (चींटी और फफूंद) के परस्पर सम्बंधों की बात हो रही थी, वहां लगता है कि वास्तव में तीन जीव शामिल हैं।
चींटियों की बस्तियों में जीवाणुओं की मदद से फफूंद द्वारा सेल्यूलोज को पचाया जाना इन्सानों के लिए जैव ईंधन का बढि़या स्रोत साबित हो सकता है। वैज्ञानिक जी-तोड़ कोशिश कर रहे हैं कि सेल्यूलोज को तोडऩे का कोई कारगर तरीका हाथ लग जाए। क्यूरी का मत है कि यही वह तरीका है।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष