November 15, 2008

रायपुर संग्रहालय में बापू के तीन बंदर

रायपुर संग्रहालय में बापू के तीन बंदर

-जे. आर. भगत
संग्रहाध्यक्ष, महंत घासीदास स्मारक संग्रहाय, रायपुर

रायपुर संग्रहालय में रखी तीन बंदरों की पत्थर की यह मूर्ति 16वी- 17 वीं शती के आस- पास की हैं। जो राजनांदगांव के गोंड राजाओं से प्राप्त हुई है।
महंत घासीदास स्मारक संग्रहाय में संग्रहीत प्रतिमा दीर्घा में प्रदर्शित तीन बंदरों की प्रतिमाएं मनोरंजन, ज्ञानवर्धक होने के साथ-साथ नैतिक शिक्षा से संबंधित सर्वोत्तम काकृतियों मानी जाती हैं। यद्यपि पत्थर से बनी इन मूर्तियों का कला पक्ष कमजोर है।
आखिर इन बंदरों की काकृतियों में ऐसा क्या है?

इन बंदरों में से एक दोनों हाथों से नेत्र मूंदे है, दूसरा अपने दोनों हाथों से कान मंूदे है और तीसरा अपने दोनों हाथों से अपना मुख ढंका हुआ है। यह तो जग जाहिर है कि बंदरों द्वारा अभिनीत इन मुद्राओं में तीन उपदेश छिपे हुए हैं -

१. बुरा मत देखो
२. बुरा मत सुनो
                                     ३. बुरा मत बोलो

उपरोक्त तीनों उपदेश हमारे उपनिषद, पुराण, गीता, रामचरित मानस आदि में आये हैं तथा पौराणिक आख्यानों में भी इनका विस्तृत दृष्टांत, व्याख्या एवं उद्धरण प्राप्त होता है। मध्य काीन संतों, महात्माओं तथा कवियों ने भी इन्हीं उपदेशों को अपनी-अपनी भाषा में प्रस्तुत किया है। कबीर, रहीम, तुसी, वृन्द, बिहारी आदि कवियों द्वारा रचित दोहे, कविताओं आदि में भी इन बंदरों के इस रूप को उदाहरण के रूप में रखा गया है।

जिस प्रकार ये बंदर बापू के माध्यम से सार्वभौमिक बन गए हैं उसी तरह उपनिषदों का यह संदेश आज भी सार्वभौम तथा प्रासंगिक है -
१. भद्रं कणैभि: श्रृणुयाम
(दूसरों की अच्छाईयां सुनो)

२. भद्रं पश्येमाक्षमिर्य जत्रा:
(दूसरों की अच्छाईयां देखो)

३. ऋ तं वदिष्यामि। सत्यं वदिष्यामि
(सदैव सत्य बोो)

छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव से प्राप्त गांधी जी के ये तीन बन्दर इस बात की ओर संकेत करते हैं कि इन बंदरों के माध्यम से नैतिक शिक्षा देने का चलन बहुत पहे यानि 16वीं शताब्दी से ही हो गया था। संग्रहाय में मौजूद बंदर की ये मूर्तियां इस बात का जीता जागता उदाहरण है। तीन बंदरों का यह रूप महात्मा गांधी को अत्यन्त प्रिय था तथा इन्हें वे अपने गुरू के रूप में स्वीकार करते थे।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष