June 12, 2009

श्रम की गरिमा का सम्मान

श्रम की गरिमा का सम्मान
'श्रम सभ्यताओं की प्राण शक्ति है। यदि श्रम को उपेक्षित किया जाता है तो हर समाज में आलस्य का कैंसर पैदा हो जाता है।' श्रम की इसी गरिमा को पूरा सम्मान देते हुए एकलव्य द्वारा 'कुम्हार, धोबी, बुनकर, मोची- हमारे समय में श्रम की गरिमा' नामक नई पुस्तक का प्रकाशन किया गया है। 
 इस किताब में समाज के निचली कही जाने वाली जातियों के द्वारा किये जाने वाले कामों पर बड़ी गहराई से, न केवल प्रकाश डाला गया है बल्कि  इन जातियों को ऐसे कामों के दौरान जिन परेशानियों को आत्मसात करना पड़ता है उसका भी खुलासा किया गया है।
आधुनिक लाइफ स्टाइल में जीने वाले शहरी बच्चों के लिए लिखी गयी इस किताब में लेखक की यही अपेक्षा है कि बच्चे इन लोगों के जीवन को पास से देखें। इससे बच्चों का ही नहीं बल्कि बड़ों का भी नजरिया बदलेगा और सदियों से शोषित इन जातियों के परिश्रम का सही आंकलन हो सकेगा।
आदिवासी, पशु पालक, चर्मकार, किसान,  कुम्हार, बुनकर, धोबी, नाई के जीवन क्रम, मान्यताएं, उनका सामाजिक दर्जा आदि पर विस्तार से लिखते हुए प्रो.कांचा आइलैया ने इन समुदायों के कौशल को भी दर्शाया है। अकुशल श्रमिक कहे जाने वाले श्रमिकों के श्रम को समाज ने किस तरह से उपयोग करने के बाद इनको उपेक्षित किया है इसको बखूबी लिखा गया है।
एकलव्य द्वारा प्रकाशित इस किताब के लेखक प्रो. कांचा आइलैया हैं। चिंत्राकन दुर्गा बाई व्याम ने
किया है। 
 धूप में गुलाबी होती  कहानियाँ
यह पुस्तिका हिमाचल के उन सभी खूबसूरत इंद्रधनुषी मौसमों को समर्पित है जो इन कहानियों के गवाह बनें। प्रिया आनंद की इन कहानियों में पहाड़ी देवियों की रहस्यमयता ने बहुत सारे द्वार खोले हैं। वे अपनी कहानियों के बारे में स्वयं कहती हैं कि 'पहाड़ की किसी भी सड़क से आती इन देवियों को देखने का जो अलौकिक अहसास मैंने पाया है वह भी मेरी कई कहानियों का आधार बना हैं।'
पुस्तक की इन कहानियों को लेकर इमरोज ने अपनी कवितामय टिप्पणी दी  है जैसे वे 'मैदानÓ कहानी के बारे में कहते हैं कि सारे रंगों से रंग-रंग भी होती है, भीगती है और गुलाबी धूप में गुलाबी होती रहती है।  'नीली यमुना' तरंग नाम की अहसासमंद औरत की खूबसूरत कहानी है। जिसमें यमुना का नीला रंग भी है गंगा का सफेद रंग और सरस्वती का गुलाबी रंग भी। वे कहते हैं कि अपनी कहानियों में प्रिया खुद ही एक सवाल बन जाती है और खुद ही एक जवाब।
 कहानी संग्रह की लेखिका प्रिया पिछले 36 वर्षों से लेखन में सक्रिय हैं। उनकी 250 के लगभग कहानियां एवं लेख विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। उनका यह दूसरा कहानी संग्रह है। पहले कहानी संग्रह का नाम है 'मोहब्बत का पेड़'। पिछले आठ वर्षों से पत्रकारिता से जुड़ी प्रिया वर्तमान में हिमाचल प्रदेश के 'दैनिक दिव्य हिमाचल' में कार्यरत है।
पूनम प्रकाशन दिल्ली द्वारा प्रकाशित इस संग्रह का मूल्य 150/- है।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष