July 12, 2018

उदंती.com - जुलाई- 2018

उदंती.com -  जुलाई- 2018
 
बारिश रुकी हुई है कल से
और घुटन भी ज़्यादा है
रोकर कब दिल हलका हुआ है
                  -गुलज़ार
दूर तक फैला हुआ पानी ही पानी हर तरफ़
अब के बादल ने बहुत की मेहरबानी हर तरफ़
              -शबाब ललित
कच्चे मकान जितने थे बारिश में बह गए
वर्ना जो मेरा दुख था वो दुख उम्र भर का था
              -अख़्तर होशियारपुरी
'कैफ़' परदेस में मत याद करो अपना मकाँ
अब के बारिश ने उसे तोड़ गिराया होगा
               -कैफ़ भोपाली

Labels:

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home