July 12, 2018

प्रेरक

खुश रहने वाले... 
निशांत
अनेक महान विचारक और दार्शनिक यह कह गए हैं कि खुश रहना एक आदत होती है और खुश रहने वाले व्यक्ति जीवन की अनेक बातों में से खुशी का चुनाव करते हैं, मतलब कि लोगों के सामने खुश या दु:खी होने के विकल्प होते हैं और कुछ लोग खुशी को चुनते हैं। अब यह बात कितनी सही है, यह तो विवाद का विषय है; पर मैं अपने अनुभव से इतना समझ पाया हूँ कि हमेशा ही खुश रहनेवाले व्यक्तियों में कुछ बातें ऐसी होती हैं, जो उन्हें औरों से अलग करती हैं। वे कौन सी बातें हैं? वे कौन से लक्षण हैं जो कुछ लोगों के व्यवहार में खुशी के होने का अहसास कराते हैं?
खुश लोगों के लक्ष्य स्पष्ट होते हैं
जीवन जीने का एक स्पष्ट उद्देश्य होना चाहिए। इसी प्रकार जीवन में लक्ष्यों का होना बहुत ज़रूरी है। आपके बनाए लक्ष्यों के पूरा होने का उतना महत्त्व नहीं होता जितना इस बात का कि लक्ष्यों के पूरा होने पर आपको प्राप्त होने वाली उपलब्धि आपको किस प्रकार का व्यक्ति बनाती है। यदि आप थोड़ी से सफलता से फूल कर कुप्पा हो जाते हैं, तो वह वास्तविक खुशी नहीं है। खुश रहने वाले व्यक्ति जीवन में सफलता, समृद्धि और शांति के लिए सार्थक लक्ष्य बनाते हैं। वे अपेक्षित परिणामों की कामना करते हैं और उनके लिए मंजिल तक पहुँचने से अधिक ज़रूरी यह बात होती है कि वे इस यात्रा में सीखते जाएँ और अपने अनुभव को गहरा करते जाएँ।
खुश लोग अपने पैशन को फ़ॉलो करते हैं
पैशन क्या होता है? पैशन है आपके दिल की आवाज़,जो आपको कुछ करने के लिए प्रेरित करती रहती है। यह आपका कोई शौक, कोई हुनर या स्किल है ,जिसमें आप बहुत अच्छे हों। हो सकता है आप संगीत में अच्छे हों या लेखन में या चीजें बनाने में या खाना बनाने में। पैशन कुछ भी हो सकता है। खुश लोग अपने जीवन को पैशन से जीते हैं। वे उसे निखारने के लिए बहुत मेहनत करते हैं। वे औसत से अधिक, बहुत अधिक मेहनत करते हैं। वे अपने सपनों को बाँधकर-छिपाकर नहीं रखते। वे उस काम को करते हैं, जिससे वह प्रेम करते हैं और उसे अपने जीवनयापन का ज़रिया बनाने का सोचते हैं।
पैशन काअनुसरण करनेवाली सलाह हमेशा सही नहीं होती; लेकिन इसके सिवाय और क्या विकल्प है? यदि आप किसी विषय-वस्तु में अच्छे हों, तो क्यों उसे ही अपने जीवन का आधार बनाएँ! अपने पैशन को दरकिनार करके यदि आपने भेड़चाल में वह सब किया, जो आपको खुश रखे, तो आपको क्या मिला?
खुश लोग देखभालकर दोस्ती करते हैं
देख- भालकर, सोच- विचारकर दोस्ती करने का अर्थ कैलकुलेशन करके स्वार्थी बनकर दोस्ती करना नहीं है। "You are the average of the five people we spend the most time with."?-?Jim Rohn "खुश लोग जानते हैं कि उनके दोस्त उनके जीवन पर पॉज़िटिव और निगेटिव प्रभाव डाल सकते हैं। खुश लोग उन लोगों को दोस्त बनाते हैं ,जोपॉज़िटिव गुणों से युक्त होते हैं और एक-दूसरे को सफल बनाने में सहायक होते हैं। वे जानते हैं कि बुरे लोगों के प्रभाव में जीवन में कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। बुरे दोस्त अच्छे व्यक्तियों को अपने अवगुणों में घसीट लेते हैं और उन्हें अपने स्तर तक गिरा देते हैं।
खुश व्यक्ति संतुष्ट और आभारी होते हैं
खुश व्यक्ति उन चीजों की कद्र करते हैं ,जो उन्हें जीवन से प्राप्त होती हैं।  उनकी संतुष्टि ऐसी नहीं होती जो उन्हें प्रगति करने से रोकती है ;बल्कि उन्हें निगेटिव पर फ़ोकस नहीं करने देती और आगे बढ़ते रहने के लिए प्रेरित करती है।
खुश व्यक्ति जानते हैं कि हर चमकती चीज़ सोना नहीं होती। वे दूसरों से आगे निकलने के लिए लालच और फ़रेब का सहारा नहीं लेते ;बल्कि मेहनत करते हैं। वे हर नई वस्तु को पाने के लिए लालायित नहीं रहते। वे जीवन से मिलनेवाली चीजों के लिए आभारी होते हैं और संतुष्ट होते हुए भी आगे बढ़ते रहते हैं।
खुश व्यक्ति दूसरों की सहायता करते हैं
खुश व्यक्ति हमेशा दूसरों की सहायता करते हैं। वे किसी से भी कभी मुँह नहीं फेरते। वे जानते हैं कि दूसरों की सहायता करने और खुश होने में बहुत गहरा संबंध होता है। जब हम दूसरों की सहायता करते हैं तो इस प्रक्रिया से उत्पन्न होनेवाला पॉज़िटिव प्रभाव सहायता पाने और सहायता करने वाले के जीवन को खुशहाल बनाता है। खुश व्यक्ति अपने काम को मन लगाकर कर पाते हैं। उनकी खुशी दूसरों तक भी पहुँचती है और उनके साथ रहनेवालों को जीवन जीने के गुर समझ में आने लगते हैं।
खुश व्यक्ति परिवर्तनों को स्वीकार कर लेते हैं
खुशियाँ स्वीकृति में ही पनप सकती हैं। खुश व्यक्ति जानते हैं कि वे हर चीज को नियंत्रित नहीं कर सकते। वे जानते हैं कि बहुत सी चीजें हमारे नियंत्रण के बाहर होती हैं। वे परिस्थितियों से लडऩे की बजाय उन्हें स्वीकार कर लेते हैं और उनकी सीमाओं के भीतर स्वयं को ढालने का प्रयास करते हैं। वे अचानक ही घटित हो जाने वाली बातों पर झुँझलाते नहीं हैं। घर से निकलते ही यदि बारिश होने लगे ,तो वे परेशान नहीं हो जाते ; क्योंकि वे जानते हैं कि इसपर उनका कोई नियंत्रण नहीं था। वे छाता लेकर चलते हैं ,लेकिन भीग जाने पर भी अपना मूड ऑफ़ नहीं करते।
खुश व्यक्ति अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखते हैं
बाहर से अच्छा दिखना और भीतर से अच्छा महसूस करना एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। यदि आपकी जीवनशैली स्वास्थ्यप्रद है, आपका आहार संतुलित पोषक है, और आप नियमित व्यायाम करते हैं, तो आप हमेशा अच्छा अनुभव करते हैं।
खुश व्यक्ति जानते हैं कि स्वास्थ्य की देखभाल करना बहुत ज़रूरी है। वे ऐसे काम नहीं करते, जिनसे स्वास्थ्य को नुकसान पहुँचे। वे ठीक समय पर सोते और ठीक समय पर उठते हैं। वे स्वाद के लिए भोजन नहीं करते। वे अपने शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य का भी ध्यान रखते हैं। वे तनाव में नहीं रहते और शांति से समस्याओं पर विचार करके उनका हल खोजते हैं। वे जानते हैं कि शरीर के स्वस्थ रहने पर हर कार्य के लिए ऊर्जा मिलती है, फोकस बना रहता है, और अच्छी अनूभूतियाँ होती हैं। (हिन्दी ज़ेन से)

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष