August 13, 2015

उदंती- अगस्त 2015

उदंती- अगस्त 2015

आप को जो भी मिला है , उसका अधिक मूल्यांकन न करें और न ही दूसरों से ईर्ष्या करें। वे लोग जो दूसरों से ईर्ष्या करते हैं, उन्हें मन को शांति कभी प्राप्त नहीं होती।                 - गौतम बुद्ध 

Labels:

1 Comments:

At 23 October , Blogger सहज साहित्य said...

गिरीश पंकज की गज़लें , भावना सक्सैना का लेख,वृन्दावन लाल वर्मा की कहानी शरणागत और कमला निखुर्पा के हाइकु प्रभावशली हैं कथाएँ एवं प्रसंग ताज़गी का अहसास कराते हैं। रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home