August 12, 2015

लोक जीवन


संस्कृति का लौकिक सन्दर्भ

विद्यानिवास मिश्र

 जैसे भारतीय संस्कृति के बारे में भ्रान्त धारणा है, यह कोरी आध्यात्मिक या अलौकिक संस्कृति है, लोक से इसका कुछ लेना देना नहीं, उसी प्रकार संस्कृत के बारे में यह अतिरेकी प्रचार है कि यह लोकभाषा नहीं है, इसके वाड्मय में केवल दर्शन है, अध्यात्म है, उपदेश है, अलौकिक जगत की बातें हैं। परन्तु वास्तविकता मिली नहीं, जब तक वह लोक में ओतप्रोत नहीं जब तक लोक व्यवहार से वह जुड़ा नहीं, तब तक उस ज्ञान को कोई मूर्त रूप नहीं मिलता। जिस संस्कृत भाषा का व्याकरण पाणिनि  ने रचा, उसे उन्होंने देवभाषा नहीं कहा, उसे केवल भाषा कहा। जिसे हम संस्कृत का आदिकाव्य कहते है, उस वाल्मीकि रचित रामायण की भूमिका में न केवल यह प्रश्न उठाया गया कि कौन इस समय इस लोक में ऐसा आदर्श मनुष्य है जो सत्यवादी हो, कृतज्ञ हो, धीर हो, वीर हो, जिससे देवता भी भय खायें, जो सभी प्राणियों के हित में तत्पर हो और इसी प्रश्न के उत्तर में राम का चरित रचा गया, बल्कि उस काव्य को ब्रह्मा का आशीर्वाद मिला कि महर्षि तुम्हारी यह कथा लोक में प्रचारित होगी।

लोक बड़ा व्यापक अर्थ है, उसका पहला अर्थ तो यह है कि जो कुछ भी इन्द्रियों के द्वारा अनुभव किया जाय, वह लोक है, दूसरा अर्थ है- जो यहाँ, जो अब है, वह लोक है। इसका तीसरा अर्थ है जनसमष्टि। लोक से ही निकला है शब्द लोक। इसी से जुड़े शब्द हैं लोकलज्जा लोकव्यवहार, लोकसंग्रह और लोकहित। संस्कृत वाड्मय में अदृश्य अतीन्द्रिय की चिन्ता न हो, ऐसी बात नहीं, पर चिन्ता ऐन्द्रिय और दृश्य की चिन्ता से जुड़ी हुई है। संस्कृत वाड्मय में इसीलिए मनोरम ऋतु चित्र हैं, मनोरम देश वर्णन है, लोकस्मृति के मनोरम प्रसंग हैं, लोक के उत्सव और लोकाचार के वर्णन ही नहीं, उन्हें अत्यधिक महत्त्वदिया गया है।
 संस्कृत में इसी कारण एक और दार्शनिक विचार है तो दूसरी ओर कामसूत्र, अर्थशास्त्र राजशास्त्र कुट्टनीयत, नर्ममाला, समरांगणसूत्रधार  वायुशास्त्र जैसे ग्रन्थ हैं , जिनमें लौकिक जीवन के विविध पक्षों पर विचार है, महाभारत और रामायण जैसे ग्रन्थों में जहाँ मोक्ष की चिन्ता है, वहीं राजव्यवहार, सामान्यजीवन के नियमों तथा मनुष्य को प्रभावित करने वाली प्रकृति की विविध रंगतों के भी चित्रण है।
बाहर के कुछ दुराग्रही विद्वान तो नाराज इसी बात पर हैं कि संस्कृत साहित्य बहुत लौकिक है, यहाँ तक कि कभी-कभी बहुत ही उच्छृंखल है, भोगप्रधान है, पर कैसा ढोंग है कि दर्शन के ग्रन्थ दु:खवादी हैं, वैराग्यपरक हैं। उन विचारकों की समझ में सीधी बात धँसती ही नहीं कि राग-विराग विरोधी नहीं होते, एक दूसरे के पूरक होते हैं। इसी तरह जहाँ सम्पूर्ण जीवन की स्वीकृति है, वहाँ इसके ऐन्द्रिय पक्ष को छोडऩा ही ढोंग है, उसे स्वीकार करते हुए उसी की सघनता और तीव्रता के भीतर लोकोत्तर की अवधारणा की जा सकती है। लोकोत्तर को समझने के लिए समझाने के लिए जो भी भाषा प्रयुक्त होगी, उसे लौकिक होना ही पड़ेगा, इसलिए लोक के अनुभव को लोक की प्रसिद्धि को माने बिना परमार्थ भी नहीं सधता।
भर्तृहरि ने वाक्यपदीय में यह सिद्धान्त प्रतिपादित किया कि जो व्यवहार निरन्तर चले आ रहे हैं, जिन व्यवहारों को लोक ने मान्यता दे रखी है, जो जीवन को व्यवस्थित रखते हैं वे तर्क के विषय नहीं होते। उन्होंने बात तो की भाषा के सन्दर्भ में। भाषा  लोक की स्वीकृति पर ही चलती है, क्यों वह प्रयोग, दूसरा नहीं, इस प्रश्न की यहाँ संगति नहीं, क्योंकि स्वीकृति उपयुक्त बातों को लेकर होती है, परन्तु उनका यह सिद्धांत सभी प्रकार के लोक व्यवहारों पर लागू होता है। स्व. पूज्य स्वामी अखंडानन्द जी कहते थे, लोक व्यवहार लोकायत से चलता है, तभी उसमें सामंजस्य होता है, वहाँ अदृश्य जन्मान्तर के सिद्धान्त को या सभी कुछ ब्रह्म है, ये सिद्धान्त लागू किये जाएँ तो अव्यवस्था उत्पन्न होगी। वहाँ कर्मवाद का तर्क लेकर चोरी के माल को पूर्वजन्म की सम्पत्ति कह कर छोड़ा जा सकता है। इसीलिए स्मृतियों के व्यवहार अध्याय या महाभारत का अनुशासन पर्व या शुक्रनीति या कामन्दकनीति या चाणक्य का अर्थशास्त्र, ये सभी पश्चिम के कुछ विचारकों को बहुत निर्मम और बहुत निर्नैतिक  लगते हैं। हाँ, निर्मम तो हैं ;पर निर्नैतिक नहीं, क्योंकि वहाँ लोक कल्याण और लोक में विश्वसनीयता प्रमुख नीतिनिर्धारक सिद्धान्त हैं। इसीलिए लोक के स्वरूप के परिवर्तन के साथ उनमें परिवर्तन होते रहने का विधान भी है। देशकाल-निरपेक्ष रह कर लोक में कोई नियम नहीं बनते। यदि लोकहित का विरोध न हो तो कुलरीति को भी मान्यता है, पर यदि लोकहित प्रभावित होता है तो कुलहित की उपेक्षा करनी पड़ती है। पूज्य स्वामी जी के कहने का अभिप्राय यह था कि लोकायत अद्वैत का विरोधी नहीं, दोनों के क्षेत्र अलग हैं, दोनों के धरातल अलग हैं। मानव व्यवहार संश्लिष्ट और बहुआयामी होता है, इसलिए उसमें सभी पक्षों के लिए उचित स्थान न हो तो व्यक्ति समष्टि के साथ सामंजस्य नहीं रख पाता।
संस्कृत के काव्यों, नाटकों और स्फुट मुक्तकों को पढ़े तो अनेक प्रकार के जीवन की छटाएँ मिलेंगी। संस्कृत ने लोक व्यवहार को इतना आदर दिया कि उसने प्राकृत कविता, प्राचीन तमिल कविता, अपभ्रंश गीति सबसे बहुत कुछ लिया, कथानक, उक्तिमाधुर्य, लयदारी और पूरी की पूरी लोकोक्ति। लोक व्यवहार पर आधृत हजारों लौकिक न्याय प्रचलित हैं, जैसे स्थाली पुलाक न्याय, बटलोई से चावल के दो दाने निकालकर पूरे चावल के पकने की परीक्षा जैसे होती है, वैसे ही दो एक बानगी लेने से ही पूरी स्थिति का परिज्ञान हो जाता है। पणिनि ने ऐसे न जाने कितने लोक व्यवहार के अनुभवों को अंकित करते हुए उसमें प्रचलित मुहावरों का विश्लेषण किया है।
एक मुहावरा है जो ,आज भी प्रचलित है, मुँह ताकना। ऐसे मुँह ताकने वाले निठल्ले के लिए संस्कृत में शब्द है लालाटिक, जो ललाट की ओर निहारता रहता है। संस्कृत भाषा में गृहस्थी के मनोरम चित्र हैं, गरीब घर के भी, सम्पन्न घर के भी, सामान्य किसान घर के अमृतभेजन पर श्लोक है-
तरूसां सर्षपशाकं नवोदनं सशराणि च दधीनि
अल्पव्ययेन सुन्दरि ग्रामजनो मिष्टमश्नाति।
मलाई की पर्त वाला दही, बहुत कम में ही गाँव का आदमी कितना बढिय़ा भोजन करता है। संस्कृत के दर्शन शास्त्र भी लौकिक उदाहरणों से ही अपनी बात हृदयमंग करते हैं, कुम्हार और जुलाहे के हस्तकौशल के उदाहरण पटे पड़े हैं, दर्शन की पोथियों में।
लोक के प्रति इस सजग दृष्टि के कारण ही संस्कृत साहित्य शताब्दियों बाद भी इतना मोहक बना हुआ है। उसकी एक-एक सूक्ति कंठहार बनी हुई हैं, उन्हीं सूक्तियों से आधुनिक भाषा की भीतरी बुनावट रची गयी है, कबीर की वाणी हो, तुलसी के भक्तिधारा हो, रईसी में पले भारतेन्दु का गद्य-पद्य हो, रामचन्द्र शुक्ल की आलोचना हो, वर्तमान रम्य साहित्य हो, सभी के लिए संस्कृत अक्षय स्रोत बनी हुई है, सिर्फ इसलिए संस्कृत का लौकिक पक्ष बड़ा रमणीय है, वह रूमानी नहीं है, कुछ अधिक गहरा है, उसका सम्बन्ध मनुष्य की सनातन संवेदना से है। प्रेम और ताप के सादृश्य की बात कालिदास ने की और कहा- प्रिय जितना ही जलाता है, उतना ही संतृप्त करता है, जैसे चढ़ते असाढ़ का तपा हुआ दिन यकायक बादलों से सँवरा जाता है बरस कर हरषा जाता है। इसी बात को अपभ्रंश के कवि ने कहा- प्रिय ने बड़ा सताया, पर उनके बिना काज नहीं सरता, आग घर जला देती है, तो भी उस आग की तलब सुबह शाम होती ही होती है।
साथ ही संस्कृत वाड्मय का ऐसा भंडार है, जिसे हमने प्राचीन इतिहास को सौंप रखा है, उसकी सतत वर्तमानता हमारी नजरों से ओझल हो गयी है।

घर बनाने से सम्बद्ध शास्त्र अभी इंजीनियरी में नहीं पढ़ाये जाते, औषधिविज्ञान भी बाहर चाहे बहुत महत्तपूर्ण हो, हमारे लिए अभी जादुई अजूबा है। उद्यान, कृषि, हस्ती-आयुर्वेदी, शालिहोत्र घोड़ों का पालन, धातुविज्ञान मुद्राविज्ञान, मौसम विज्ञान, गणित और खगोल-ज्योतिष की सामग्री केवल कौतुक का विषय है हम इनका परीक्षण करके इन्हें खारिज करें, यह तो हो सकता है, पर उन्हें बिना परीक्षण के हमने, समयोपयोगी नहीं है, इस कारण खारिज कर दिया है, यह अन्ध वैज्ञानिक दृष्टि संस्कृत वाड्मय के महत्त्वपूर्ण पक्ष को लोगों की पहुँच के बाहर रखे हुए है। इधर संगणक संरचना में संस्कृत के उपयोग की आँधी-सी चली है, पर लोग यह भूल गये हैं कि संस्कृत भाषा समग्र जीवन की भाषा है। इसलिए उसमें निहित जीवन के विविध पक्षों को उजागर किया जाय तो निश्चय ही हमारे चिन्तन में ताजगी और स्वाभाविकता आगी, क्योंकि संस्कृत किसी न किसी रूप में हमारे मन में ऐसी रची-पची है कि बिना उसके हम अपने को कहीं न कहीं कुछ अधूरा मानते हैं। हमारी संस्कृति का लोकपक्ष और संस्कृत का लोकपक्ष आज के दिन भी स्पृहणीय है, क्योंकि वह अनावश्यक भावोच्छ्वास के बिना मनोरम है, सजीव है और खुला हुआ है।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष