March 10, 2017

उदंती.com , मार्च 2017

उदंती.com ,  मार्च 2017

यदि अपने आप को किसी रंग में रंगना है, तो प्रेम के रंग में रंग; क्योंकि इस रंग में रंगा हुआ मनुष्य मृत्यु के बंधनों से छूट जाता है।     
                   - सनाई
  

Labels:

3 Comments:

At 20 March , Blogger नीलिमा शर्मा said...

बहुत सुंदर रचनाये शामिल बेहतरीन रचनाकारों की

 
At 22 March , Blogger Unknown said...

Sabhi rachnayen bahut achchhi hain

 
At 18 April , Blogger Satya sharma said...

बहुत ही बेहतरीन और सार्थक रचनाओं के लिए सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home