February 13, 2019

उदंती.com फरवरी 2019

उदंती.com फरवरी 2019

अभी न होगा मेरा अंत
अभी-अभी तो आया है।
मेरे वन में मृदुल वसन्त
अभी न होगा मेरा अन्त।
       -सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home