January 15, 2020

नए साल का संकल्प!!


नए साल का संकल्प!!  
- गिरीश पंकज 
 उसने इस बार भी मुझसे कहा था कि नए साल पर कुछ करके दिखाऊँगा। मैंने उसे गंभीरता से नहीं लिया; क्योकि पिछले साल भी उसने वादा किया था कि अगले साल कुछ करके दिखाऊँगा; लेकिन कुछ ख़ास नहीं किया। मतलब वो पक्का झूठा निकला। कुछ लोग हमारे यहाँ यही करते हैं।  जो कहते हैं, वो करते कहाँ हैं? मैं सोचने लगा, कहीं ये लड़का बर्बादी की राह पर तो नहीं चल पड़ाइतनी उम्र हो गई है। कुछ तो करे।
युवक के वादे को मैं भूल चुका  था, मगर उस दिन नये साल के पहले दिन ही बंदा बाजार में मिल गया। उसने विचित्र हुलिया बना रखा था। उसने मैली-कुचैली किस्म की जींस की फुलपैंट पहन रखी थी, जो बुरी तरह फटी हुई थी. सामने से लगभग तार-तार।  टी-शर्ट का रंग भी मैला-कुचला किस्म का था। बंदे ने दाढ़ी भी बढ़ाई हुई थी।  बाल भी लड़कियों की तरह लम्बे कर रखे थे।
 मैं चिंतित हो गया. पूछा, ''अरे-अरेतुमने ये क्या हाल बना रखा है? फुलपैंट की माली हालत इतनी खराब? क्या हुआ, दिवाला पिट गया है क्या?''
वह हँसकर बोला,  ''आपके दिमाग का निकल गया है।  फैशन को समझ नहीं पाए और दिवाला पीट रहे हैं मेरा।''
मैंने कहा, '' भाई, मेरे तुम जैसे कपडे़ पहने हुए हो, उसे किसी भिखारी को भी दोगेतो नहीं लेगा।  हाथ जोड़कर यही कहेगा कि बाबूजी,  भिखारी हूँ मगर इतना भी निर्लज्ज नहीं कि इतने फटे कपड़े दान में ले लूँ। खैर, अब तुम कहते हो तो मान लेते है कि यही फैशन है। अच्छा, तो यह बताओ , तुमने कहा था कि नए साल में कुछ करके दिखाऊँगा, क्या कर रहे हो इस बार? तुम बोल रहे थे, कुछ नया करूँगा। कुछ किया?''
युवक बोला, ''बिलकुल, नया ही  करना है। देखिए, शुरुआत तो इस हुलिया से हो गई है।  ये जो जींस देख रहे हैं न आप ? ब्रांडेड है, अंकल !!  मॉल से खरीदी है. बहुत बड़ी कंपनी है। फलाने हीरो ने पहनी थी।  ''
''मतलब जो तुम नया कुछ करने वाले थे, उसकी शुरुआत इस फटी जींस से हो रही है? वाह, नया साल और फटी जीन्स!!  तुम तो धन्य हो।  तुम होगे कामयाब एक दिन। ''
मेरी बात को सुनकर वह फिर उखड़ गया, ''ये क्या मज़ाक है अंकल, आप मेरी इस जींस को बार-बार फटी कह रहे हैं? अरेयह ब्रांडेड जींस है।  लेटेस्ट फैशन वाली। डू यू नो ब्रांडेड?  पाँच हजार में खरीदी है और आप इसे फटी कहकर इसकी 'बेइज़्ज़ती खराब' करने पर तुले हैं? इसे फटी नहीं, फैशनेबल जींस कहते है ''
मैंने कहा, ''ओहसॉरी भाई, माफ़ करो।  यह कमाल की जींस है। अद्भुत है।  हम धन्य भये इसके दर्शन करके ! तुम्हारे माता-पिता भी गर्व करते होंगे तुम पर कि कितना होनहार लड़का है। फटी पेंट पहनता है।  सादगी से रहता है। अच्छा तो यह बताओ, क्या सोचा है। इस साल का एजेंडा क्या है?''
वह बोला, ''बॉलीबुड की हर फिल्म देखूँगा।  आजकल अच्छी-अच्छी फिल्में बन रही है।''
''अच्छा-अच्छाउससे कुछ ज्ञान मिलेगा तुमको ताकि अपने कैरियर के लिए कुछ करोगे ? कुछ फिल्मे होती होंगी ऐसी।  ''
मेरी बात पर  वह हँसकर बोला, ''ज्ञान-फ्यान के लिए नहीं अंकल, आजकल के लड़के और लड़कियाँ इंटरटेन के लिए  फ़िल्में  देखते हैं.. उससे हमें पता चलता है कि फैशन का लेटेस्ट ट्रेंड क्या चला रहा है। उस हिसाब से फिर हम अपने बाल को कभी खड़ा कर लेते हैं, कभी आड़ा, कभी तिरछा। कभी पीला, कभी

नीला, कभी हरा कर लेते हैं।  फिर  हीरो के माफिक स्टाइल मारते हैं।  उसी की तरह कपड़े सिलवाते हैं। हीरो की माफिक ही चलते हैं, बोलते है।  मज़ा आता है।  इस साल अब तो यही करना है मुझे।''
''और पढाई- लिखाई ? कैरियर? सब गए तेल लेने? ''  मेरे इस प्रश्न पर वह फिर हँसा और बोला, ''समय मिला, तो वो भी करेंगे न । इतनी जल्दी क्या है।  कैरियर तो कल भी बन जाएगा; लेकिन फैशन जो आज है, वो कल नहीं रहेगा इसलिए उसके अनुसार विहेब ज़रूरी है। आप नहीं समझोगे मेरी बात। बिकॉज़  यू आर ए बैकवर्ड परसन!''
''मतलब नए साल में तुम केवल और केवल फैशन ही करोगे? और कुछ नहीं?''
''जी हाँ, यही सोचा है।  फैशन ही मेरा पैशन है. ये कर लूँ, फिर कैरियर भी है । माँ कसम!''

इतना बोलकर युवक मुस्करायाफिर घड़ी देख कर अचानक चौंका, ''ओह , चलूँ।  मेरा तो टाइम हो रहा है। नई फिल्म लगी है।  सुना  है कि उसमे हीरो और हीरोइन ने भी जो जींस पहनी है, वो पीछे से पूरी फटी हुई है. देखना है पीछे से फटी पेंट में कितना ब्यूटीफुल लुक आता है।  पेंट कैसी है, कितनी फटी है। इसका बारीक अध्ययन करके उसी की तरह की सिलवाऊँगा।  वैसे मॉल में मिल ही जाएगीतो खरीद लूँगा।''
"अच्छा, तो यह बताओ कि तुम पुरानी फटी जींस का करोगे क्या ?"
मेरे प्रश्न पर होनहार युवक ने कहा, " किसी ज़रूरतमंद भिखारी को दे  दूँगा।"
मैंने कहा,  "अगर भिखारी ने लेने से इंकार कर दिया, तो क्या करोगे? मैंने पहले ही कहा है कि भिखारी भी आजकल स्मार्ट हो गए है। वे फटी जींस को स्वीकार नहीं करते।"
इस बार युवक कुछ बोला नहीं। मुझे घूरकर देखने लगा। मैं घबरा गया। मैने कहा, "ओह सॉरी, माफ करना।" फिर होनहार युवक को शुभकामनाएँ  दीं, मगर वो तो लिए बगैर ही आगे बढ़ गया।  

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष