November 03, 2020

तीन लघुकथाएँ

-कृष्णा वर्मा

1. अनपढ़ माँ

यूँ तो गोमती रोज़ ही अपने बहू-बेटे को सर फेंक कर काम में जुटा देखती, लेकिन पिछले कुछ दिनों से उसने जो जुनून उनमें देखा, ऐसा पहले कभी नहीं देखा! - दिन-रात वह दोनों कम्प्यूटर पर दीदे गढ़ाए रहते। आपस में खुसुर-पुसुर करते, आशा-निराशा साफ उनके मुख पर तैरती नज़र आती। ऐसा आभास होता जैसे किसी ख़ास काम की खोज में हों। कई बार अंग्रेज़ी में किसी से फोन पर भी लम्बी वार्तालाप करते सुना, पर गोमती ने कभी कुछ पूछा नहीं। जब कभी भी वह उनके आस-पास उपस्थित होती तो बहू-बेटा अचानक अंग्रेज़ी में बतियाने लगते। पिछले कुछ दिनों से कभी-कभार बेटा माँ से लाड़-प्यार भी जताने लगा था। और तो और, सास की कही बातों पर अचानक बहू ने मुँह फुलाना भी छोड़ दिया था। यह सब देख गोमती मन ही मन बुदबुदाती,  हो ना हो कुछ घुईंयाँ तो पक रही हैं। कभी वह अंजानी शंका में घिर कर ख़ुद ही मन को ढा लेती और कभी ख़ुद ही ढाँढस दे फिर कामों को निपटाने में लग जाती। कुछ ही दिनों बाद घर का माहौल बदला-बदला सा लगने लगा। बहू-बेटा चहके-चहके से नज़र आने लगे। चारों ओर अचानक अबोली खुशी का नाद सुनाई देने लगा। कुल मिला कर कहें तो घर में रामराज्य सा हो गया।

छुट्टी का दिन था, माँ ने मेज़ पर नाश्ता लगाया। मनपसंद व्यंजन देखते ही बेटा बोला, ‘अरे वाह! क्या बात है माँ, आज तो सब कुछ अपने बहू-बेटे की पसंद का बनाया है। 

फीकी सी मुस्कान देते गोमती बोली,  अरे खा लो बेटा, क्या पता फिर कब

माँ थोड़े ही जाने वाली है तेरे साथ विदेश। अच्छा,  यह तो बता कब का जाना तय किया है?’ 

यह सुनते ही, पति-पत्नि एक दूसरे को आवाक देखते रह गए। उनकी आँखें ऊपर की ऊपर ही टँगी रह गईं और मुँह तो जैसे निवाला चबाना ही भूल गया।

बिना उनकी ओर ताके गोमती बोली,  अरे!  खाओ भई, रुक क्यों गए? क्या अच्छा नहीं लगा?’   सकपकाते हुए से दोनों एक साथ ही बोले,  नहीं-नहीं, बहुत स्वादिष्ट बना है।

लेकिन माँ, ‘तुम्हें किसने बताया हमारे जाने का?’

 तेरी माँ भले स्कूल ना गई हो बेटा, पर उसकी आँखें बहुत पढ़ी-लिखी हैं। जीवन में अनुभवों की कई जमातें पास की हैं उसने। फिर तुम्हारी गुलाबी मुस्कानों के पीछे का पढ़ लेना कौन मुश्किल है उसके लिए!

2.छुटकारा


            डेंगू की चपेट में आई मंगला अपनी बीमारी से आखिरी साँस तक लड़ती रही। पर होनी कब टलती है। वही हुआ जिस बात की चिंता मंगला की आँखों में अंतिम पल तक बनी रही। कैसे जिएगी उसकी सात बरस की प्यारी सी गुलबिया उसके बिना।

            नकारा विश्वा तो पहले से ही घुटनों- घुटनों कर्ज़ में डूबा हुआ था। और आज तो उसकी दुनियाँ ही अँधेरी हो गई। मंगला थी तो दो जून की रोटी नसीब हो रही थी। फूल सी गुलबिया उसे अचानक पहाड़ सी दीखने लगी। बस यही सोच कर वह बेहाल हुआ जाता था कि कुछ ही बरसों में ताड़ सी बढ़ जाएगी। कैसे सम्भालूँगा सब अकेले। इस बोझ से कैसे मुक्ति पाए, इस सोच में दिन-रात वह बेचैन रहता।

            एक सुबह हिम्मत जुटा कर उसने कस्सी उठाई, और गुलबिया को साथ लेकर निकल पड़ा जंगल की ओर कि आज इस झंझट से छुटकारा पाकर ही लौटूँगा। चलते-चलते भूखे-प्यासे बाप-बेटी दोनों बहुत थक गए। थकान के मारे विश्वा रास्ते में एक पेड़ के नीचे ढेर हो गया।   

थकी-टूटी नन्हीं गुलबिया पिता की थकान न देख सकी। और अपने नन्हें-नन्हें हाथों से उसके पाँव दबाने लगी। थोड़ी देर सुस्ता कर दोनों फिर चल दिए जंगल की ओर। कुछ दूर पहुँच कर घने पेड़ों की आड़ में विश्वा कस्सी से गड्डा खोदने लगा। पिता को हाँफते और पसीने से भीगता देख भोली गुलबिया से रहा ना गया बोली, ‘लाओ बापू मैं तुम्हारी मदद कर दूँ। तुम बैठ कर थोड़ा आराम कर लो, मैं खोद देती हूँ। और अपने छोटे-छोटे हाथों से पिता के माथे पर छलकता पसीना पोंछने लगी।

            यह देख कर विश्वा का मन द्रवित हो उठा। उसने कुदाल वहीं फेंक तड़प कर गुलबिया को सीने से सटा लिया और सोचने लगा. ‘किस बात की सज़ा देने जा रहा हूँ अपनी फूल सी कोमल बेकसूर बच्ची को। किससे छुटकारा पाना चाहता हूँ मैं? इस शीतल छाँव से।   


3.पेंशन

दिन-रात पेंशन के लिए चक्कर लगाते चक्करघिन्नी से हो गए थे सुमेर चौधरी।

आए दिन दफ्तर के एक से दूसरे कमरे के चक्कर लगाते सुबह से शाम हो जाती  और हाथ लगती फिर वही निराशा, जिसे जेब में डाल भारी कदमों से चल देते घर की ओर।

इंतज़ार करती पत्नी ने आज फिर लटका मुँह देखा तो रुआँसी हो बोली.. अजी कब तक चलेगा ऐसा, मीरा के पापा। अब तो रसोई के सब डब्बे भी मुँह चिढ़ाने लगे हैं।

आठ वर्षीय ननिहाल आई धेवती की ओर इशारा करती बोली.. एक  लाड़ ना लड़ा सकी इसे।

आज तो चावल का दाना तक नहीं है घर में। जाओ बाज़ार से पाँव भर चावल ही ले आओ।

बाज़ार का नाम सुनते ही गुड़िया नाना के साथ जाने को मचलने लगी।

बिटिया तुम थक जाओगी बहुत दूर है बाज़ार। धूप भी बहुत तेज़ है किसी दिन शाम को ले चलूँगा तुम्हें।

ले क्यूँ नहीं जाते.. ज़रा मन  बहल जाएगा बच्ची का।

ढीले हाथ से जेब टटोलते हुए उदास आवाज़ में बोले.. पाव भर चावल भी मुश्किल से हो पाएगा। बेबसी से गुड़िया की ओर देख  बोले.. इसने यदि किसी गुब्बारे पर भी हाथ रख दिया तो सह नहीं पाऊँगा।

3 Comments:

Sudershan Ratnakar said...

ज़िंदगी के सच को उजागर करतीं बहुत सुंदर लघुकथाएँ।

Neeraj said...

बहुत सुंदर 😊

अनिता मंडा said...

तीनों लघुकथाएँ अच्छी लगी।

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष