August 13, 2020

भिखारी और चोर

भिखारी और चोर
-रावी
मेरी वाटिका के द्वार पर वह आया और बोला, ‘‘बाबूजी, अपनी बगीची से कुछ फूल मुझे ले लेने दीजिए।’’
फटेपुरानों कपड़ों से अस्तव्यस्त रूप में तन ढके उस तरुण बालक को ध्यानपूर्वक देखते हुए मैंने पूछा, ‘‘तुम कौन हो?’’
‘‘भिखारी’’, उसका उत्तर था, और उसमें सन्देह का कोई स्थान न था।
‘‘भिखारियों को ऐसी चीज न माँगनी चाहिए। तुम चाहो तो मैं तुम्हें एक पैसा या एक रोटी दे सकता हूँ।’’ मैंने कहा।
‘‘ये तो मुझे दूसरों से पेट भरनेभर को मिल जाती है।’’ उसने कहा और असन्तुष्ट होकर चला गया।
अगले दिन माली ने सूचना दी कि बगीची में कुछ फूलों की चोरी हुई है। मैंने पहरे की व्यवस्था कर दी, किन्तु चोरी का क्रम न रुका। हर रात किसी समय कुछ फूल टूटकर गायब हो जाते।
एक दिन मैंने उसी लड़के को बाजार में देखा। सड़क किनारे बैठा वह फूलों की मालाएँ बना रहा था।
‘‘तुम चोर हो।’’ मैंने पास जाकर उसे पकड़ा।
‘‘बिलकुल नहीं बाबूजी, यह आप कैसी बात कहते हैं! मैं तो भिखारी हूँ। भीख के पैसे बचाकर कुछ फूल खरीद लाता हूँ और मालाएँ बनाकर उन्हें बेच देता हूँ। कुछ दिनों बाद मुझे भीख माँगने की जरूरत न रह जागी। मुझे चोर बताने का आपके पास कोई सबूत है?’’
बालक के स्वर में कड़क थी। उसकी चोरी का मेरे पास कोई सबूत नहीं था। कई लोग हमारी बातचीत सुन रहे थे। ऐसी बेसबूत की बात कहकर मैं उनकी दृष्टि में स्वयं को लज्जित अनुभव कर रहा था। चुप होकर मैं चल दिया।
कुछ दूर पहुँचकर मैंने देखा, ‘‘बालक मेरे पीछे आ गया है। एकान्त पाकर उसने मुझसे कहा, ‘‘बाबूजी, मैं हूँ तो वही भिखारी और आपकी भीख पर ही पनप रहा हूँ। अन्तर इतना है कि आप अपने हाथ से उठाकर देते तो दुनिया के सामने भी आपका कृतज्ञ होता, किन्तु अब अकृतज्ञ हूँ।’’
फूलों की हानि तो मेरे लिए कोई हानि नहीं थी, लेकिन एक बहुत बड़ी वस्तु मेरे हाथ से निकल गई थी। 

Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home