October 14, 2019

अनकही

आइए इस दीपावली खुशियाँ बाँटें...
-डॉ. रत्ना वर्मा

 भारतीय संस्कृति में आने वाले हमारे पर्व- त्योहार आनंद- उल्लास के साथ उत्सव मनाने का अवसर तो होते ही हैं,  साथ- साथ दैनिक जीवन की भाग- दौड़ और व्यस्तता के बीच शांति और राहत प्रदान करने वाले भी होते हैं। सबसे महत्त्वपूर्ण बात इन अवसरों पर परिवार और समाज के बीच आपसी सौहार्द्र का वातावरण निर्मित होना है और यही हमारी भारतीय संस्कृति की विशेषता है।
तभी तो हम अपने पर्व त्योहार चाहे वह गणेश चतुर्थी हो या नवरात्रि, दीवाली हो या होली, सब आपस में  मिल-जुलकर ही मनाते हैं। देखा जाए तो ये सभी पर्व त्योहार पारिवारिक सामाजिक एकता को प्रदर्शित करते हैं। जो देश की एकता और अखंडता का प्रतीक है। इन अवसरों के बहाने हमें पीढ़ी दर पीढ़ी एक सीख मिलती है कि कैसे हम अपनी संस्कृति अपने समाज और अपने देश की अस्मिता, उसके पर्यावरण और प्रकृति तथा उसकी महान परंपराओं को बचा कर रखें। 
हम कितनी ही तरक्की कर लें, कितने ही आधुनिक बन जाएँ;पर अपनी जड़ों का साथ नहीं छोड़ते। लेकिन यह भी सत्य है कि प्रत्येक व्यक्ति, प्रत्येक परिवार काम सिर्फ अपने लिए और अपने परिवार के लिए करता है। उसकी जिम्मेदारी भी वहीं तक सीमित होती है, इसके इतर कुछ करने के लिए न तो उस पर दबाव होता और न कोई जोर- जबरदस्ती। इन सबके बाद भी मनुष्य होने के नाते इंसानियत का ज़ज़्बा भी सबमें कूट-कूटकर भरा होता है। यही इंसानियत हमें सिखाती है कि अपनी खुशियों में दूसरों को भी शामिल करें ताकि हमारी  खुशियाँ दोगुनी हों।  
दीपावली के त्योहार के साथ दीप दान की परंपरा भी जुड़ी हुई है । दान की परम्परा हमारी संस्कृति का एक अभिन्न अंग रहा है। दान को पुण्य से जोड़कर भले ही एक कर्मकाण्ड में तब्दील कर दिया गया हो ; लेकिन इसके पीछे का उद्देश्य बहुत ही सकारात्मक है। किसी जरूरतमंद की सहायता करना हमेशा ही पुण्य का काम माना गया है। आज भी जब कोई हाथ किसी की सहायता के लिए उठते हैं तो उसे सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है। तभी तो जब कोई आपदा आती है, तो पूरा देश पैसे, अनाज, कपड़े, दवाई आदि के रूप में सहायता देने को तत्पर रहता है। मानवीय सेवा भी ऐसे समय सबसे बड़ी सहायता होती है; क्योंकि बाढ़, भूकंप जैसी आपदाओं में मानवीय सहायता पहली आवश्यकता होती है।
अब आप कहेंगे कि दीपावली जैसे उत्सव के माहौल में ये आपदा की बातें क्यों? दरअसल किसी अवसर पर जरूरतमंदों की सहायता करने के बाद जो खुशी मिलती है, वह किसी दीपावली से कम नहीं होती। आजकल तो शहर क्या गाँव में भी लोग अपने घरों को बिजली झालरों से रोशन करते हैं। पर्यावरण इतना बिगड़ रहा है फिर भी इतने पटाखे फोड़ते हैं कि इतनी आतिशबाजी करते हैं कि शर्म आती है ,  अपने को पढ़े लिखे और जागरूक कहने में। आखिर इतना पैसा बहाकर हम कौन सी खुशियाँ पाना चाहते हैं। 
कितना अच्छा हो यदि इस दीपावली अपनी खुशियों में किसी ऐसे को भी शामिल कर लें  जो अभावग्रस्त होने के कारण अपने घर में दीये नहीं जला पाता या अपने बच्चों को नए कपड़े नहीं दिला पाता, या मिठाई नहीं खिला सकता। ऐसा करके हम खुशियाँ तो बाँटेंगे ही साथ ही अपने पर्यावरण को भी स्वच्छ स्वस्थ बनाए रखने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाएँगे।
इस संदर्भ में मैं एक प्रेरक लघु फिल्म के बारे में बात करना चाहूँगी।  पति घर के लिए मिट्टी के दिए खरीद कर लाता है उसे देखते ही पत्नी कहती है ये क्या मुझे तो कलर किए हुए डिजाइनर दिये चाहिए ? मैं अपनी दीवाली खूबसूरत दीयों से मनाना चाहती हूँ। पति विरोध नहीं करता और कहता है ठीक है तुम स्वयं चलो और अपनी पसंद के दिये ले लो हम ये दिये वापस कर देंगे। पत्नी बाजार जाकर मशीनों से बने आकर्षक दिये खरीद लाती है। फिर पति पत्नी को कुम्हार के बनाए उन दीपकों को यह कहकर वापस करने कहता है कि क्या फर्क पड़ेगा यदि इस दीवाली उसके घर अँधेरा रहेगा हम तो इन रंग बिरंगेदियो से अपना घर रोशन कर लेंगे।  पत्नी देखती है  कुम्हार अपनी चाक से बनाए दीयों के साथ अकेला बैठा होता है उसके पास कोई ग्राहक नहीं आता। पत्नी सब समझ जाती है और पति से कुछ पैसे माँग,  अपने घर के लिए खरीदे उन रंग बिरंगे दीयों  के साथ मिठाई का डिब्बा  कुम्हार को सौंपकर उसे दीपावली की शुभकामनाएँ देते हुए खुशी- खुशी उन सादे दीयों के साथ घर लौट आती है ।
कहने का तात्पर्य यही है कि आप अपनी हैसियत के अनुसार किसी भी प्रकार की सहायता कर सकते हैं। बहुत लोग सिर्फ दीपावली ही नहीं साल भर कुछ ऐसा कर्म करते हैं जैसे किसी बच्चे की पढ़ाई का जिम्मा, किसी अस्पताल में कोई विशेष सुविधा, भूखे को भोजन, बीमार को दवाई , सेवा,  प्रकृति को बचाने वृक्षारोपण, अपने मुहल्ले की या किसी तालाब की सफाई आदि...। तो खुशियाँ बाँटने और पाने  के लिए अवसरों की कमी नहीं है बस आपका दिल बड़ा होना चाहिए। दान ऐसा दीजिए कि उस दान का मान बढ़े। यही खुशियों की असली दीपावली होगी।
सुधी पाठकों को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ। 

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष