September 27, 2012

अनकही

पर्यटन संस्कृति

मानव प्रकृति के अनुपम सौन्दर्य के करीब जाकर तृप्ति और पूर्णता का अनुभव करता है। इसी पूर्णता को पाने के लिए वह प्रकृति के और करीब जाना चाहता है। प्रकृति को समझना, मानव सभ्यता के विकास को जानना, अपनी संस्कृति पर गर्व करना मानव की स्वाभाविक प्रवृत्ति है। इन्हीं जिज्ञासाओं के कारण ही पर्यटन-संस्कृति ने जन्म लिया है।
 सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक महत्व को समझने के लिए 27 सितंबर, 1980 से विश्व पर्यटन दिवस मनाने की शुरूआत हुई। 1979 में स्पेन में आयोजित तीसरे अधिवेशन के विश्व पर्यटन महासभा में यह निर्णय लिया गया था। बताने की आवश्यकता नहीं कि पर्यटन से जहां संस्कृति का विकास होता है, सभ्यताओं के बीच संवाद अदायगी होती है, वहीं पर्यटन से जुड़े उद्योगों से रोजगार के नए रास्ते खुलते हैं।
भारत के संदर्भ में देखें तो हम पाते हैं कि हमारे यहां पर्यटन का शुभारंभ तीर्थयात्रा के रूप में हुआ था। धर्म प्रधान भारतीय अपनी धार्मिक आस्था से वशीभूत होकर मोक्ष की प्राप्ति के लिए चारों धाम की यात्रा पर निकला करते थे। मोक्ष प्राप्ति की इस धार्मिक मान्यता ने लोगों को यात्रा के लिए प्रेरित किया। इस तरह लोग एक स्थान से दूसरे स्थान आने-जाने लगे। इन यात्राओं से विभिन्न संस्कृतियों का मेल हुआ, साथ ही व्यापार और व्यवसाय के क्षेत्र में भी वे आपस में भागीदारी करने लगे।
भारत में धार्मिक यात्राओं का चलन आज भी जारी हैं, परंतु इसके साथ ही भागदौड़ वाली जिंदगी से सुकून पाने, आराम करने और प्रकृति की खूबसूरती को देखने के लिए लोग पर्यटन पर निकलने लगे। छुट्टियों का मौसम चाहे वह गर्मी का हो या दशहरा-दीपावली का, पर्यटन स्थलों की ओर जाने वाली रेल गाडिय़ों में आरक्षण के लिए लंबी कतारें महीनों पहले ही लगने लगती हैं। अब तो पर्यटन को बढ़ावा देने हवाई यात्रा करने वालों के लिए लुभावने पैकेज ऑफर मिलने लगे हैं और यही हाल पहाड़ी स्थलों, ऐतिहासिक स्थलों, प्राचीन धरोहर वाले स्थानों के होटलों में बुकिंग का भी होता है।
इन सबका परिणाम यह है कि भारत के अनमोल धरोहरों की ओर जब विदेशी सैलानियों का ध्यान आकर्षित होने लगा और वे बड़ी संख्या में भारत आने लगे तथा भारत को विदेशी मुद्रा के रूप में आय का एक बड़ा स्रोत मिलने लगा तब राज्य सरकारों ने पर्यटन व विदेशी व्यापार को बढ़ावा देने के लिए नए-नए उपाय शुरु कर दिए। लेकिन इन सबके बाद यह भी सत्य है कि हमारी सरकार पर्यटन स्थलों पर सुरक्षा व्यवस्था के साथ रहने-खाने की पर्याप्त सुविधा मुहैय्या करवाने की दिशा में उतनी सफल नहीं हो पा रही है। हमारे देश में पर्यटन के लिए इतने अधिक और बड़ी संख्या में अनोखे स्थान उपलब्ध हैं यदि उन छिपे हुए स्थानों को पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाए तो पर्यटक उन नए स्थलों में जाने के लिए उत्सुक बैठें हैं, परंतु अफसोस उन स्थलों तक पहुंचने व रहने की पर्याप्त व्यवस्था न हो पाने के कारण पर्यटक वहां तक पहुंच ही नहीं पाते।
इसी प्रकार जिन स्थलों पर निजी व्यवसायियों ने अपना जाल फैलाया है वहां उनकी मनमानी पर्यटकों को निराश करती है। चाहे वे टैक्सी वाले हों, होटल वाले हों अथवा व्यापारी हों, हर जगह ऐसी लूट-खसोट मची होती है कि पर्यटक सोचने पर मजबूर हो जाता है कि वे यहां जिंदगी के कुछ पल आराम पाने, शांति से समय बिताने और कुछ अच्छा देखने व जानने आए हैं या और अधिक मुसीबत झेलने?
पांच सितारा होटलों के एयरकंडीशंड कमरे में बैठकर योजनाएं सिर्फ पांच सितारा पर्यटकों के लिए बनती हैं यानी जो पांच सितारा खर्च वहन कर सकता है उसके लिए पर्यटन सुकून भरा, बाकी के लिए मुसीबत। अक्सर पढऩे व सुनने में आता है कि विदेशी सैलानी भी यहां आकर बहुत अच्छा अनुभव लेकर नहीं लौटते। अतिथि देवो भव: के लिए प्रसिद्ध भारत देश में अतिथि को इतना लूटा जाता है कि वे दोबारा भारत आने से डरने लगते हैं।
पर्यटन को जब विदेशी मुद्रा के आय के एक बड़े स्रोत के रूप में देखा जाता है तो फिर हमारी सरकार कोई ठोस कदम क्यों नहीं उठाती? आजादी के इतने बरस बाद भी हम पर्यटन को एक प्रमुख उद्योग के रूप में स्थापित नहीं कर पाएं हैं यह अफसोस-जनक है।
 यह तो सर्वविदित है कि मैसूर व कुल्लू का दशहरा, जयपुर का पतंग मेला, पुष्कर मेला, सोनपुर मेला, गोवा कार्निवल, आदि कई भारतीय उत्सव देशी-विदेशी सभी पर्यटकों को हर वर्ष अपनी ओर खींच कर लाते हैं इसके बाद भी हम कहीं कमजोर से पड़ जाते हैं। 
पर्यटन से जुड़ी एक और महत्वपूर्ण बात है जिस पर बात करना जरूरी है- हम पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए चाहे जितने उपाय कर लें चाहे जितनी योजनाएं क्यों न बना लें यदि हम इसके दूसरे पहलू की ओर ध्यान नहीं देंगे तो सारी योजनाएं धरी की धरी रह जाएंगी। और यह जिम्मेदारी आती है स्वयं पर्यटकों पर। पर्यटन के नाम पर यदि हम अपनी संस्कृति अपनी परंपरा अपनी धरोहर को विकृत करेंगे, प्रदूषित करेंगे, गंदगी फैलाएंगे तो ऐसे पर्यटन को बढ़ावा देने से तो अच्छा है कि उन्हें वे जिस हाल में हैं, उसी हाल में छोड़ दें। हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी प्रकृति को स्वच्छ रखें, अपने ऐतिहासिक, पुरातात्विक धरोहरों को सुरक्षित रखें, अपनी संस्कृति को प्रदूषित न होने दें। यदि हम इस दूसरे पहलू का ध्यान रखते हुए उतनी ही गंभीरता से योजना बनाएंगे, तभी अपने देश के इन अनमोल धरोहरों, सौंदर्य स्थलों को संजोकर रख पाएंगे और अपनी स्वर्ग जैसी धरती पर गर्व कर सकेंगे।
    -डॉ. रत्ना वर्मा

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष