November 03, 2020

अनकहीः हम सबको आलोकित करें...


  - डॉ. रत्ना वर्मा

हम भारतवासियों के लिए उत्साह, उमंग और खुशियों के साथ मिल-जुलकर मनाने वाला, साल का सबसे बड़ा सांस्कृतिक पर्व है -दीपावली। कोरोना के साए में पिछले सभी पर्व- त्योहार हमने सावधानी बरतते हुए, अकेले- अकेले यह कहते हुए मना लिये कि दीवाली तक तो सब कुछ सामान्य हो ही जाएगा, तब उजालों के इस महापर्व को हम सब मिल-जुलकर एकसाथ मनाएँगे। यह तो आप सब मानेंगे कि धैर्य और साहस के साथ हर मुसीबत का सामना करते हुए सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ना ही मनुष्य का सबसे बड़ा गुण और धर्म है।  से बहुत ही जिम्मेदारी से प्रत्येक भारतीय नागरिक ने अब तक निभाया है और आगे भी निभाएँगे।

 लेकिन फिर भी हम मनुष्य ही तो हैं , जब विपदा आती है, तो कुछ लोग कमज़ोर पड़ जाते हैं और निराशा के अंधकार में डूब जाते हैं , ऐसे समय में किसी का भी धैर्य न टूटे बस इसका ही तो ध्यान रखना है, क्योंकि कहते हैं न जब पानी सर से ऊपर चला जाता है, तो फिर कोई बाँध उको बिखरने से रोक नहीं सकता। आज इस अनिश्चितकालीन वैश्विक आपदा की घड़ी में हम सबको एक दूसरे का संबल बनकर, सबको साथ लेकर चलना है। पिछले कई महीनों से हम अपने आस-पास देख ही रहे हैं कि इस वायरस ने असंख्य अपनों को, असंख्य लोगों के  सुनहरे पनों को, असमय छीन लिया है। किसी के लिए भी यह अपूरणीय क्षति है इस दुःख से उबरना उनके लिए बहुत मुश्किल है। यह तब और अधिक दुःखदायी हो जाता है , जब इस महामारी की चपेट में आए अपने परिजन को उनका परिवार कंधा तक नहीं दे पाता। पारम्परिक संस्कारों से बँधा परिवार कितनी सघन पीड़ा सहने को मजबूर है; यह शब्दों से बयाँ  नहीं किया जा सकता। ऐसे समय में भावनात्मक संबल ही सबसे बड़ा सहारा बनता है।

 इस दौर में अनेक परिवार अलग- अलग भी हो गए हैं। जिनके बच्चे बाहर नौकरी कर रहे हैं, वे अपने माता- पिता के पास नहीं आ पा रहे हैं, आ भी रहे हैं तो एक दूरी बनाकर उनसे मिलने जाते हैं । बुजुर्ग माता- पिता के लिए यह एकाकीपन झेलना बहुत भारी हो गया है। स्कूल –कॉलेज बंद हैं, तो बच्चे घर के भीतर कैद हो कर रह गए हैं। युवाओं में एकाकीपन और नकारात्मकता घर करती जा रही है। घर में रह कर घर- बाहर, पति, बच्चे सबको संभाल रही महिलाएँ जिस प्रकार का तनाव झेल रही हैं, उनकी व्यथा का तो बखान ही नहीं किया जा सकता। असंख्य परिवार आर्थिक रूप टूट चुके हैं । इस प्रकार अनेक पारिवारिक, सामाजिक और मानसिक समस्याएँ इस दौर में उभर कर आ रही हैं । हम इन सबसे किस प्रकार बाहर निकल सकते हैं, टूटे- बिखरे लोगों को फिर से किस प्रकार से सक्षम बना सकते हैं, समाज की मुख्य धारा में पूर्व की तरह उन्हें  किस प्रकार से शामिल कर सकते हैं, यह गंभीरता से सोचना होगा;  ताकि उनके भीतर उभर रहे नकारात्मक सोच को निकालकर सकारात्मक ऊर्जा भर सकें।

इस दौर में बहुतों को अपने उद्योग और व्यापार में नुकसान हुआ है , पिछले कई महीनों से उनका कारोबार प्प हो गया है और उनसे जुड़े असंख्य कर्मचारी भी बेकार हो गए हैं, जिनके लिए चाहकर भी वे कुछ नहीं कर पा रहे, ऐसे में बेकार हो चुके मजदूर और कर्मचारियों को जीवन के आवश्यक संसाधन जुटाना मुश्किल हो रहा है, उन्हें अपना और अपने परिवार का पेट भरने के लिए दूसरे रोजगार के साधन अपनाने पड़ रहे हैं ऐसे कई परिवारों की लोगों ने सहायता भी की है, ताकि वे अपना रोजगार फिर से खड़ा कर सकें, यही सबसे बड़ा मानव धर्म है। इस मामले में सोशल मीडिया ने बहुत बड़ी भूमिका निभाई है, जो काबिले- तारी है।   

आधुनिक जगत् में दिनचर्या में आनेवाले कई प्रकार के दबाव और तनाव भरी जिंदगी में सुख और शांति पाने के लिए जरूरी है हमारा दृष्टिकोण सकारात्मक हो, तभी हम इस आपदा के साथ आगे बढ़ सकते हैं। जो सब दृष्टि से सबल हैं, वे आगे आकर इस संकट की घड़ी में मानव सेवा करके अपने जीवन को सार्थक मोड़ दे सकते हैं। हमारी संस्कृति में सेवा को ही सर्वश्रेष्ठ धर्म माना गया है।सेवा परमो धर्मःकी बात कही जाती है। सेवा के अंदर दान, त्याग तथा समर्पण का भाव छुपा होता है। रूरतमंद की सेवा करके आप अपनी भी सेवा करते हैं; क्योंकि आप जितना दोगे, उससे कई गुना पाओगे। अपने लिए तो सब जीते हैं, एक बार दूसरों के लिए जीकर देखिए ;कितनी आत्मिक शांति मिलती हैं यह आप जान जाएँगे!

तो आइ
, उजाले के इस पर्व पर मन का अँधेरा मिटाएँ और सबके दिलों में रोशनी के दीप जलाएँ। बाहरी चमक-दमक से नुकसान ही होता है, यह इस कोरोना काल ने सबको अच्छे से बता दिया है, तो क्यों न मिट्टी के दिये जलाकर बिना शोर- शराबे के प्रदूषण मुक्त दीवाली मनाकर एक नया उदाहरण सबके सामने रखें। अपने घरों को बिजली के लट्टुओं से जगमग करने के बजा
उसपर खर्च होने वाले पैसे से किसी एक गरीब के घर को रोशन करें, अर्थात् उन्हें आथिर्क रूप से संबल बनाएँ। कानफोड़ू पटाखों पर लाखों खर्च करके आप अपने ही स्वास्थ्य के साथ नाइंसाफी कर रहे हैं। बच्चों को एक बार कह कर तो देखिए कि इन पटाखों पर जितना पैसा तुम एक दिन में खर्च कर रहे हो उससे किसी एक परिवार का सात दिन का भोजन आ सकता है? ऐसा नहीं है कि हम प्रदूषण मुक्त दीपावली की बात पहली बार कर रहे हैं, हर साल करते हैं , सरकार भी अपने स्तर पर प्रतिबंध लगाने की बात करती है; पर कभी सफलता नहीं मिलती।  लेकिन प्रयास तो हम सबको मिलकर ही करना होगा। बस एक बार दृढ़ निश्चय करने की आवश्यकता है, फिर देखिए कैसे खुशियों से रोशन हो जाएगी आपकी ही नहीं,  हम सबकी दीवाली।

हम सबको आलोकित करें, तो हम स्वयं भी आलोकित होंगे। दीप पर्व की असंख्य शुभकामनाओं के साथ-

जहाँ तक हो सके हमदर्दियाँ बाँटो माने में,
मीं को सींचते रहने से दरिया कम नहीं होता।
 ( डॉ .गिरिराज शरण अग्रवाल)

6 Comments:

विजय जोशी said...

बहुत ही सुंदर. कठिनाई भरे इस दौर में जरुरत है सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़कर समाज हित सेवा का संकल्प, जो सार्थक स्वरूप के साथ उभरा है उपरोक्त लेख में. अहर्निषं सेवामहे. सो हार्दिक बधाई.

Sudershan Ratnakar said...

बहुत सुंदर सकारात्मक सोच। दृढ़ निश्चय से सब कुछ सम्भव हो सकता है।हार्दिक बधाई

प्रगति गुप्ता said...

बहुत बढ़िया लेख रत्ना जी...सकारात्मक सोच ही नई उम्मीदों को जाग्रत कर हमें इस विषमकाल से निकाल कर ले जाएगी। उम्मीदों के दीपक जब तक जलते रहेंगे, आगे बढ़ने के हौसले हमको बहुत कुछ नया देंगे।

Vibha Rashmi said...

रत्ना जी की 'अनकही ' में सब कुछ सिमट आया । आलेख में सामाजिक सरोकार के सभी बिन्दुओं पर चर्चा हुई है ।कोरोनाकाल जनित समस्याएँ और पीड़ाओं पर भी चर्चा की गयी है ।आलेख में इस विपरीत समय मे सकारात्मकता बनाए रखने को प्रेरित किया है । गिरिराजशरण अग्रवाल भाई की पंक्तियाँ प्रेरणादायी हैं ।रत्नाजी की बधाई ।

प्रीति अग्रवाल said...

इस मिट्टी की काया में,जागृति का तेल डाल, मन के दिये जलाने होंगें!..यही सहज, सुंदर संदेश देती आपकी मंशा का हार्दिक अभिनन्दन रत्ना जी!...सच है अपने अंदर का अंधकार मिट गया, तो हर ओर, ज्ञान और संतोष का उज्ज्वल प्रकाश फैल जाएगा! हर दिन दीवाली होगी! आपको व आपकी समस्त टीम को बहुत बहुत बधाई! सभी को दीवाली की अनेकों शुभकामनाएँ!

रत्ना वर्मा said...

दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाओं के साथ आप सबका बहुत बहुत आभार, शुक्रिया

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष