January 15, 2019

सच्चा साथी

हाइबन
सच्चा साथी 
 प्रियंका गुप्ता

उस रात जाने क्यों मन थोडा उदास सा था...अजीब सी बेचैनी...। बहुत सारी बातें थी मन में, पर समझ नहीं आ रहा था कि बेचैनी थी आखिर किस बात पर...। अजीब सा अहसास...। बहुत हद तक कारण अगले दिन समझ आ गया...जब शैडो के जाने की ख़बर मिली...।
शैडो...कहने को किसी को जो हिकारत से कहा जाता है...वो था...यानी कि गली का कुत्ता...स्ट्रीट डॉग था वो...। मेरी गली का एक वफादार बाशिंदा...। बहुत सारे इंसानों से ज्यादा भावनाएँ मैंने उसमे देखी थी...। इंसानी हिसाब से देखा जाए तो वो एक दीर्घायु जी कर गया...। तेरह साल की उम्र...जब कुत्तों की अधिकतम आयु शायद चौदह साल ही होती है...।
अंतिम के तीन दिन, जब उसने खाना-पीना छोड़ा...उसके पहले तक वो सचमुच शैडो बन कर मेरे साथ चला...। नाम उसका वैसे मोती था, पर जब वो इस मोहल्ले में आया था, जाने कैसे चुनमुन ने उसे `शैडो' बुलाना शुरू कर दिया था...। वो अपने दोनों नाम पहचानता था...। बातें समझता था...। रात को मेरे गेट का ताला बंद होने से पहले अगर किसी दिन वो कहीं लापता होता और रोटी न खा पाता, तो दूसरे दिन सुबह गेट खोलते ही एक ख़ास अंदाज़ में शिकायत होती मुझसे...और मेरे इतना कहते ही...हाँ, हाँ, समझ गए, कल खाना नहीं मिला था न...अभी देते हैं...बिलकुल शांत हो जाता था...।
लम्बाई-चौडाई यूँ थी कि अपनी जवानी के दिनों में कि मजाल है कोई अनजान मोटरसाइकिल वाला भन्नाटे से सही सलामत गली से गुज़र सके...। इसलिए बच्चों का लाडला था शैडो...क्योंकि गली क्रिकेट में फील्डिंग के साथ साथ वो इस तरह के घुसपैठियों से भी सबको बचाता था...।
एक वफादार साथी की तरह न जाने कितनी दूर तक वो अक्सर मेरे साथ चला है, एक बच्चे की तरह न जाने कितनी बार दो पैरों पर खड़े हो कर गले लगा है...और जाने कितनी बार किसी अनजान को मेरे दरवाज़े पर ऐन्वेही फटकने से भी रोका था...।
लोगो को अपनी भयानक आवाज़ से कँपा देने वाला शैडो हमारे झूटमूठ धमकाने पर यूँ दुबक जाता था कि बरबस हँसी आ जाती थी...। जिसने उसे कुछ सालों पहले तक देखा था, वो उसे `गली का कुत्ता' कहने की बजाए `गली का शेर' ही कहते थे...।
वो किसी एक का नहीं था, फिर भी सबका था । मौत को अपना बना वो तो अपने कष्टों से मुक्ति पा गया, पर आज भी जब मेरी ही तरह उसे इस गली के कई लोग याद करते हैं, तो ऐसे में मुझे उन लोगों पर तरस आता है जो अपने कर्मों के कारण ऐसी याद से भी वंचित हैं, उस प्यार से वंचित हैं, जो एक `गली का कुत्ता' पा गया...।
शैडो के जाने के बाद उसकी विदाई में बस एक ही बात दिल में गूँजी थी...तुम बहुत याद आओगे, हमेशा याद आते रहोगे...हर उस पल में जब कोई साया साथ चलेगा...।
वफ़ा की सीख
बेजुबान दे जाते
नेह से भरे

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष