May 15, 2018

पेपर लीक

पेपर लीक
- डॉ॰ बलराम अग्रवाल
ग्यारहवीं कक्षा की बात है। शिव कुमार गुप्ता जी हमें भौतिक शास्त्र पढ़ाया करते थे। वह युवा थे और एम एस-सी पास करने के तुरन्त बाद ग्यारहवीं-बारहवीं कक्षाओं को पढ़ाने के काम में लग गए  थे। हम किंचित शरारती थे, लेकिन पढ़ने-लिखने में ज्यादा बुरे नहीं थे; सो कुछ ही समय में शिव कुमार जी से रिश्ता छात्र और शिक्षक मात्र का न रहकर मित्र-जैसा बन गया था।
वह ट्यूशन नहीं पढ़ाते थे। क्लास में कह रखा था--जिसे कोई परेशानी हो, घर आकर भी उनसे पूछ सकता है। न्युमरिकल आदि के हल पूछने के लिए हम यानी मैं और मेरा दोस्त किशन (इन दिनों वह सुप्रसिद्ध कर्मकांडी व ज्योतिषाचार्य पं. कृष्ण कुमार शर्मा के रूप में ख्यात है), अक्सर जाते ही रहते थे। परीक्षा के दिनों में किसी सूत्र से पता चला कि पेपर इस बार शिव कुमार जी ने सेट किया है। बस, किताब उठाकर एक शाम जा पहुँचे उनके घर और उनके स्टडी रूम में जा बैठे। खबर अन्दर पहुँचा दी।
''पूछो, क्या पूछना है।'' अपने कमरे में हमें बैठा देखते ही शिव कुमार बोले।
''इस बार का पेपर तो आपने सेट किया है।'' हमने सीधे-सीधे अपनी बात कही।
''हाँ, किया तो है, लेकिन याद नहीं है कौन-कौन से सवाल पेपर में लिखकर दिए हैं।'' उन्होंने सहज भाव से कहा।
''कोई बात नहीं, आप अपनी तरफ से 5 सवालों पर निशान लगा दीजिए,बस।'' अपनी किताब उनके आगे सरकाकर हमने कहा।
''और, उनमें से एक भी नहीं आया तब।'' किताब की ओर देखे बिना उन्होंने पूछा।
''ऐसा हो नहीं सकता कि उनमें से एक भी न आए। आप निशान लगा दीजिए।''
हमारी जिद से हारकर उन्होंने किताब अपनी ओर खिसका ली और पन्ने पलट-पलटकर निशान लगा दिए। फिर कहा, ''इन 5 के ही भरोसे मत रहनाअपनी तरफ से भी कुछ पढ़ लेना।''
''जी।'' हमने कहा और उछलते-कूदते घर वापस आ गए । देर रात तक बैठकर हमने उन पाँच प्रश्नों को अच्छी तरह खरल किया और घोंटकर पी गए । अगली सुबह हम दोनों जितना तरोताजा कोई तीसरा लड़का नहीं रहा होगा, यह निश्चित है।
दही-पेड़ा खाकर स्कूल गए। क्लास-रूम में पहुँचे। कॉपी ली। नाम और रोल नम्बर वाले कॉलम भरे। पर्चा पकड़ा। पढ़ा और बेहोश होकर डेस्क पर ढह गए ।
शिव कुमार जी द्वारा बताया हुआ एक भी सवाल उसमें नहीं था।
भला हो उनकी उस सलाह का कि 'इन 5 के ही भरोसे मत रहनाअपनी तरफ से भी कुछ पढ़ लेना।' हमने अपने अनुमान से भी कुछ इम्पोर्टेंट चीजें पढ़ ली थीं, सो पास हो गए।
परीक्षा-काल के बाद, अकेले में शिव कुमार जी को इस दुर्घटना से परिचित कराया। चिर-परिचित सहज स्वर में बोले--''क्लास में जो पढ़ाता हूँ, उसे ध्यान से सुना करो। इम्पोर्टेंट पर निशान लगवाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।''
उनके जितना सरल अध्यापक आज भी भुलाए नहीं भूलता, जो हम जैसे चपल छात्रों के मुँह से अपनी शिकायत सुनकर लेशमात्र भी क्रोधित नहीं हुआ था। जिसे अपना ही बनाया पेपर लीक करना नहीं आता था। भूल जाता था कि उसने लिफाफे में बन्द करके प्रिंसिपल को क्या दिया है। भूल तो आज के अध्यापक भी जाते होंगे, लेकिन रख-रखाव वाली मशीनरी अब काफी विस्तार पा गई है, उसका क्या किया जाए।
इधर हमने बारहवीं पास करके स्कूल छोड़ा, उधर एकाध साल बाद उन्होंने भी नौकरी छोड़कर घर का कारोबार सँभाल लिया था और बुलन्दशहर छोड़कर लुधियाना जा बसे थे। निरी अध्यापकी में उन दिनों रखा भी क्या था।
सम्पर्कः एम-70, नवीन शाहदरा, दिल्ली-32
मोबाइल; 8826499115, Email- 2611ableram@gmail.com

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष