December 18, 2017

व्यंग्य

शोकसभा में आमसभा का टच
गिरीश पंकज
भैया जी की बोलने या कहें कि धाराप्रवाह बकरने की कला अद्भुत है।
जब मूड में आते हैं तो फिर याद नहीं रहता कि शोकसभा में बोल रहे हैं या आमसभा में। माइक मिला नहीं कि शुरू हो गए सुपरफास्ट ट्रेन की तरह। उस दिन भी यही हुआ। एक शोक सभा में उन्हें बोलने का मौका मिला और वे चुनावी आमसभा समझ कर जो शुरू हुए कि फिर समझ ही नहीं पाए कि शोकसभा में हैं या कहीं और।
एक नेता का निधन हो गया था। उनके लिए शोक सभा आयोजित की गई थी इसलिए भैयाजी को भी बुलवा लिया गया था। न बुलाते तो वे और उनके चमचे ही चढ़ बैठते कि देश के इत्ते बड़े मोहल्ला छाप नेता को नहीं बुलाया। मजबूरी में लोग बुला ही लेते हैं।  हालाकि सबको ये पता है कि अगर एक बार माइक मैया जी के हाथों में आया तो हो गया काम। न जाने कितने मिनट बोलेंगे और क्या-क्या बोलेंगे, वे खुद ही नहीं जानते। इसलिए जब भैया जी का भाषण नाकाबिलेबर्दाश्त होने लगता है तो लोग तरह-तरह की जुगत बिठाने लगते है कि कैसे उनकी बोलती बंद कराए। कोई जा कर धीरे से लाइट गोल कर देता है, फिर भी वे बोलते रहते हैं।  माइक वाले को इशारा करके साउंड गायब कर दिया जाता है, फिर भी वीर तुम बड़े चलो की तर्ज पर में बोलते ही जाते हैं कई बार फुल बेशर्मी अपनाते हुए संचालक आकर कहता है कि आपका समय हो गया है, लेकिन भैया जी का दिल है कि मानता नहीं। कहते हैं, ‘बस, अभी ख़त्म करता हूँ’  और उसके बाद नए सिरे से शुरू हो जाते हैं. टोकाटाकी के बावजूद आधा घंटे तो आराम से निकाल लेते हैं। 
उस दिन भी यही हुआ। शोकसभा में आयोजक उनको बुला कर फँस  गए. जब उनके चमचे आयोजक के पास बार-बार भैया जी के नाम की पर्ची भिजवाने लगे और बाकायदा देख लेने की धमकी तक देने लगे तो आयोजक को उनका नाम लेना ही पड़ा। भैया जी लपक कर मंच पर  आए और कहने लगे, ‘खुशी की बात है कि आज इस शुभअवसर पर हम लोग यहाँ एकत्र हुए हैं। भगवान ऐसे अवसर हमें प्रदान करते रहे।  बोलो भारत माता की जय।किसी ने  भी  जय नहीं कहा। केवल चमचों ने ही स्वर-से-स्वर मिलाया क्योंकि चमचा-धर्म भी एक बड़ा युगीन धर्म है।
एक चमचा मुँह लगा था और समझदार भी था। वह आगे बढ़ा और भैया जी के कान में फुफुसाया, ‘भैया जी, रामलाल जी के निधन की शोकसभा है। उन पर कुछ बोलना है।
भैयाजी ने ध्यान से सुना और स्टार्ट हो गए, ‘रामलाल जी नहीं रहे।  लेकिन मैंने जो खुशी की बात कही है, उसके भाव को समझें।  आज स्वर्ग लोक खुश होगा कि उनके यहां रामलाल जैसे व्यक्ति की आत्मा पहुंची है। इसलिए स्वर्ग की खुशी की बात है।’  फिर इतना बोल कर भैयाजी बहक गए। आज देश की हालत किसी से छिपी नहीं है. महँगाई आसमान छू रही है, घोटाले-पर-घोटाले हो रहे हैं। देश कहाँ जा रहा है, हम देख रहे हैं। ऐसा इसलिए हुआ है कि हम मंत्री नहीं हैं। पहले थे, पर हमे तरीके हटा दिया गया। साजिश की गई। अपनों ने की। लेकिन मैं बता दूँ कि वो क्या कहते हैं न, सत्य परेशान हो सकता है, पराजित नहीं।  हम होंगे कामयाब एक दिन। मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास. बोलिए भारत माता की जय।
किसी ने जय नहीं कहा, केवल चमचे हुँकारा भरते रहे। चमचे ने फिर कान में कहा, ‘रामलाल के बारे में कुछ बोलिए। उनका निधन हो गया है।
भैया जी बोले, ‘रामलाल और हम लोग एक साथ पले बढ़े, राजनीति में आए।  एक साथ फेल होते थे। एक साथ नकल मारते थे फिर पास हो जाते थे। कभी रामलाल मेरा पत्ता काट देते थे, कभी मैं उनका पत्ता काट देता था। राजनीति  में सब चलता है लेकिन रामलाल ने कभी बुरा नहीं माना। हम लोग एक -दूसरे के खून के प्यासे रहते थे, लेकिन पक्के दोस्त थे। आज वे मर गए हैं लेकिन हमें उनके रास्ते पर चलना है।इतना बोलने के बाद भैयाजी फिर सनक गए, शुरू हो गए, 'आज शहर की हालत  क्या है, किसी से छिपी नहीं है। गाँधी ने क्या कहा था, पाप से घृणा करो, पापी से नहीं। नेताजी ने कहा, था, स्वराज्य हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है। तिलक जी ने नारा दिया था, तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा। आज हम कहाँ खड़े है? अमरीका को देख  लोपाकिस्तान को ही देख ले, सिंगापुर को देख लो न.. एक बार सब मिल कर बोले भारत माता की जय।
इस बार भी किसी ने जय नहीं कहा। चमचे सुर-से- सुर मिलाते रहे और माथा ठोंकते रहे कि आज ये फिर हम लोगों  की फजीहत करवा रहे हैं। चमचा कान में फुसुसाया, ‘रामलाल के बारे में बोलना है।
भैयाजी बोले, ‘रामलाल बड़े महान आदमी थे। मर गए बेचारे। पता नहीं कैसे मर गए। हम लोग साथ साथ पीते-खाते थे। पीते मतलब कुछ और मत समझ लेना  भाई। ज़माना खराब है। खैर, कोई बात नहीं।  इस ज़माने को हम देख रहे हैं। हर हाथ में  मोबाइल है. चहरे पार स्माइल है। ज़िंदगी के रंग कई रे साथी रे। एक दिन सबको मरना है।  सजन रे झूठ तुम बोलो, खुदा के पास जाना है। मौत गाँधी को आई।  भगत सिंघ भी शायद हार्ट अटैक से चल बसे। देखते-ही देखते कितने लोग मर गए। लेकिन मैं अभी नहीं मरूँगा। बोलिए भारत माता की जय।’ 
भैया जी की ऊल-जलूल बाते सुन कर शोक सभा गुस्से से भर चुकी थी।  एक ने दूसरे से कहा, ‘तुम कहो, तो इसे छुटभैये को यही निबटा कर इसकी भी शोकसभा कर लेते हैं? ससुरा अंट -शंट बके जा रहा है।तभी एक व्यक्ति उठा और माइक बंद हो गया। फिर भी भैया जी बोले चले जा रहे थे। सभा की लाइट भी गोल कर दी गई। फिर भी भैयाजी रुके नहीं, तब आयोजक ने कहा, ‘शोकसभा खत्म हो चुकी  है। आप अब अपना स्थान ग्रहण कर लें।’  
भैया जी ने खोपड़ी हिलाई और शुरू रहे। लोग उठ कर टहलने लगे। जम्हाई लेने लगे। आपस में बातें करने लगे। लेकिन भैया जी असरहीन रहे। जब चमचे ने कहा, 'समय ख़त्म हो चुका है, अब दूसरी सभा में जाना है  तब भैया जी ने भाषण रोका और जोर से हुँकारा लगा, ‘बोलिए, भारत माता की जय।
इस बार सबने राहत की साँस ली और दुहराया, ‘भारत माता की जय।
उसके बाद से लोगों ने कान पकड़ कर कसम खाई कि अब कभी इनको नहीं बुलाना।
लेखक परिचय: गिरीश पंकज विगत चालीस वर्षो से व्यंग्य लिख रहे है।  उनके आठ उपन्यास और सोलह व्यंग्य संग्रह, समेत बासठ पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है। पंद्रह छात्रों ने इनके व्यंग्य साहित्य पर शोध कार्य भी किया है। व्यंग्य साहित्य लेखन के लिए उन्हें अनेक सम्मान प्राप्त हो चुके है, जिनकी सूची बहुत लम्बी है- कुछ प्रमुख हैं-  मिठलबरा की आत्मकथा (उपन्यास) के लिए रत्न भारती सम्मान- भोपाल, माफिया (उपन्यास) के लिए लीलारानी स्मृति सम्मान (पंजाब), श्रीलाल शुक्ल (परिकल्पना) व्यंग्य सम्मान, लखनऊ और अब व्यंग्यश्री सम्मान जो आगामी 13 फरवरी,  2018 को दिल्ली के हिंदी भवन  सभागार में प्रदान किया जाएगा।  साहित्य और पत्रकारिता में निरंतर सक्रियगिरीश पंकज अनेक देशों का भ्रमण कर चुके हैं तथा कुछ महत्वपूर्ण दैनिको में चीफ रिपोर्टर और सम्पादक रहने के बाद ' सद्भावना दर्पण ' नामक त्रैमासिक अनुवाद पत्रिका का सम्पादन-प्रकाशन कर रहे है। सम्पर्क: सेक़्टर- 3, एचआईजी-2, घर नंबर-2, दीनदयाल उपाध्याय नगर, रायपुर- 492010, मोबाइल- 09425212720, 877 0969574, Email- girishpankaj1@gmail.com
1-http://sadbhawanadarpan.blogspot.com,  2-http://girishpankajkevyangya.blogspot.com,
3-http://girish-pankaj.blogspot.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष